सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

URINARY TRACT INFECTION CAUSE SYMPTOM

परिचय::-


सम्पूर्ण विश्व में मूत्र सम्बधी बीमारीयों का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है,इन बीमारीयों में एक महत्वपूर्ण बीमारीं है मूत्र मार्ग का संक्रमण (urinary tract infection) .इस संक्रमण का प्रभाव पुरूषों की अपेक्षा  महिलाओं  में अधिक देखा गया हैं.यह जीवाणुजनित(Bacteria) से उत्पन्न होनें वाला रोग है जो ई.कोलाई(E.coli) नामक बैक्टरिया से फैलता है.यदि संक्रमण मूत्र मार्ग से होते हुये गुर्दे तक फैल जाता है,तो इसे पाइलोनेफ्राइटिस कहा जाता हैं. 


कारण::-


१.माहवारी के समय योनि की उचित देखभाल का अभाव

२.असुरक्षित योन संसर्ग.

३.कैथैटर के कारण.

४.पथरी # kidneystone के कारण.

५.पानी कम पीनें के कारण.

लक्षण::-


१.मूत्र करते समय पस का आना.

२.मूत्र करते समय खून का आना.

३.मूत्र के समय दर्द तथा जलन.

४.बुखार के साथ पीठ,पेडू व पेट के निचें तीव्र दर्द.

५.बार-बार मूत्र त्यागनें की इच्छा के साथ बूँद-बूँद मूत्र आना.

६.अजीब सी शारिरीक सुस्ती और चेहरा कांतिहीन होना.

उपचार::-


१.चन्द्रप्रभा वटी,त्रिभुवनकिर्ती रस,हल्दी को समान भाग में मिलाकर गोलीयाँ बना लें सुबह शाम दो दो गोली जल के साथ लें.

२.पाषाणभेद,गोखरू,नागरमोथा,सोंफ को समान भाग में मिलाकर रात को सोते समय जल के साथ लें.

३.पुनर्नवारिष्ट़ और अम्रतारिष्ट को दो दो चम्मच  समान जल के साथ मिलाकर सुबह शाम सेवन करें.

४.प्रोबायोटिक दही का नियमित सेवन करें.

५.बेल का गुदे में मिस्री मिलाकर सेवन करें.

६.धनिया के बीज को पीसकर मिस्री मिला लें इस मिस्रण को भोजन के बाद लें.

महत्वपूर्ण योगासन::-


१.मण्डूकासन--


इस आसन को करनें से मूत्र संस्थान मज़बूत बनकर रोग प्रतिरोधकता बढ़ती हैं,आईयें जानतें है कैसें होता हैं

मण्डूकासन

अ).घुट़नों को मोड़कर सीधें नमाज़ियों की तरह बैठें.

ब).दोनों हाथ नाभि से निचें रखकर पर  एक हाथ से दूसरें हाथ की कलाई पकड़े.

स).अब सांस भरकर आगें की और घुट़नों तक धीरें धीरें झुकें तत्पश्चात पुन:सांस छोड़ते हुयें पहलें वाली अवस्था में आ जावें.

द).यह योगिक क्रिया नियमित रूप से धीरें बढा़यें.


परहेज::-


तम्बाकू, शराब,वसा युक्त भोजन.

क्या करें::-


१.पानी खूब पीयें. यथासंभव नारियल पानी पीते रहें.

२.भोजन में सलाद खूब लें.

नोट::-वैघकीय परामर्श आवश्यक.


० पलाश वृक्ष के औषधीय गुण


० पारस पीपल के औषधीय गुण


० धनिया के फायदे


० आयुर्वेदिक औषधी सूचि

Svyas845@gmail.com


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी