रविवार, 20 सितंबर 2015

HOW TO BOOST IMMUNITY POWER WITH AYURVEDA

इम्यूनिटी::-

हमारें शरीर में रोगों से लड़नें की प्राक्रतिक प्रतिरोधकता विधमान रहती है,यदि शरीर बीमार पड़ता हैं,तो यह प्रतिरोधकता हमारें शरीर की बीमारीयों से लड़ने में मदद करती हैं.किंतु पिछलें दशकों में हमारी जीवनशैली (lifestyle) में आये बदलाव ने हमारी प्रतिरोधकता को बुरी तरह से प्रभावित किया हैं. इसे इस प्रकार समझा जा सकता हैं कि शरीर बाहरी बीमारीयों से लड़नें के बजाय अपनें खुद के शरीर से लड़नें लगा हैं, यही कारण हैं कि आज हर दस व्यक्तियों में से चार व्यक्ति ऑटो इम्यून ड़िसीज़ जैसे एलर्जी, Rumetoid arthritis,asthma बार बार बीमार होना और अन्य इस तरह की बीमारीयों से जकड़ा हुआ हैं कि उसका डाँक्टर और केमिस्ट से मिलना रोज़ की बात हो गई हैं.किन्तु वास्तविकत में यदि हम आयुर्वैद और योग की सहायता से जीवन का प्रबंधन करें तो काफी खुशहाल और रोगमुक्त जीवन जी सकतें हैं.आईयें जानतें है,इम्यूनिटी बढ़ानें वाले उपाय

योग::-

१.सुबह उठते ही नित्यकर्मों से निवृत्त होकर योगिक क्रियाएँ अवश्य करें योग क्रियाओं में सबसे महत्वपूर्ण आसन सूर्य नमस्कार है जो इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाता है.सूर्य नमस्कार की बारह मुद्राँए होती हैं ये बारह मुद्रा शरीर को सूर्य जितना तेजोमय बना देती हैं.

आहार::-

२.सुबह नाश्तें में सूखें मेवे के साथ अंकुरित अनाज ज़रूर लें.
३.जवारें का रस प्रतिदिन आधा कप ज़रूर लेते रहें.
४.च्वयनप्राश एक चम्मच प्रतिदिन लें.
५.सोया दूध का सेवन सुबह शाम करें.
६.मैथी को पीसकर पेस्ट बना लें इस पेस्ट को चट़नी की भाँति भोजन में शामिल करें.
८.भोजन में हल्की सुपाच्य वस्तुओं का सेवन करें.

औषधि::-

आयुर्वैद चिकित्सा में कुछ महत्वपूर्ण औषधियों का वर्णन हैं जो रोग प्रतिरोधकता को बढाती हैं जैसे शिलाजित, अश्वगंधा,पुनर्नवा इनका नियमित सेवन करतें रहना चाहियें.

शंख चिकित्सा::-

रात को सोते समय शंख में जल भरकर रख दें सुबह स्नानादि से निवृत्त होकर शंख में भरे जल को पीले और शंख को मुँह से बजायें रोज़ सुबह शाम दस मिनिट तक यह प्रक्रिया करतें रहनें से इम्यून सिस्टम बहुत मज़बूत हो जाता प्रयोगों से यह बात सिद्ध हो चुकी हैं.

मिट्टी लेपन::-

काली या मुलतानी मिट्टी में गोमूत्र मिलाकर इसे सम्पूर्ण शरीर पर लगाकर एक घंटे तक धूप स्नान करें फिर स्वच्छ जल से स्नान करें यह भी इम्यूनिटी बढ़ानें का सिद्ध नुस्खा हैं.

अग्नि स्नान::-

अग्नि स्नान चिकित्सा साधु सन्यासियों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं इसमें आग के बीचोंबीच घंटो तक एक मुद्रा में बैठकर साधना की जाती हैं यह चिकित्सा कई आँटो इम्यून बीमारीयों को जड़ मूल से समाप्त करनें का शर्तिया इलाज़ हैं.
वैघकीय परामर्श आवश्यक

Svyas845@gmail.com










कोई टिप्पणी नहीं:

प्रदूषित होती नदिया(River) कही सभ्यताओं के अंत का संकेत तो नही

विश्व की तमाम सभ्यताएँ नदियों के किनारें पल्लवित हुई हैं,चाहे मेसोपोटोमिया हो या हड़प्पा यदि नदिया नही होती तो न ये सभ्यताएँ होती और ना ही...