सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सिंहस्थ और और योग आयुर्वेद का संबंध क्या है

कुंभ
 सिंहस्थ उज्जैन  


सिंहस्थ  पर्व  




सिंहस्थ करोड़ों हिन्दू धर्मावलम्बीयों, विदेशियों और भिन्न -भिन्न मत वाले दार्शनिकों,संतो के बीच आस्था आध्यात्म और परंपरा का केन्द्र बिन्दु रहा हैं.



हिन्दू मान्यता के अनुसार सागर मंथन मे जो अम्रत कलश निकला था उसको लेकर देवता और दानवों मे युद्ध हुआ था फलस्वरूप अम्रत की बूँदें नासिक,हरिद्वार, प्रयाग और उज्जैन में गिर गई थी,जिन स्थानों में अम्रत गिरा वहीं पर प्रत्येक बारह वर्षों में सिंहस्थ या कुम्भ का आयोजन होता हैं. शास्त्रों में  लिखा गया हैं कि देवगुरू जब मेष,सिंह, वृश्चिक व कुम्भ राशि में आते हैं तो कुम्भ का आयोजन होता हैं.




योग और आयुर्वैद के साथ सम्बंध करता है ::-





अब सवाल यह बनता हैं कि योग और आयुर्वैद का सिंहस्थ जैसे धार्मिक आयोजन के साथ क्या सम्बंध हैं.वास्तव में यदि सिंहस्थ की विषय में हमे थोड़ी भी जानकारी हो तो हमे यह सवाल पूछनें की ज़रूरत ही नहीं पड़ेगी परन्तु हमनें कुछ धार्मिक मान्यताओं से अलग हट़कर सोचनें का प्रयास ही नहीं किया,जबकि सिहंस्थ के पिछे की scientific approach  मानव मात्र के कल्याण के लिये हैं.





उदाहरण के लिये उज्जैन में सिंहस्थ तब होता है जब बैशाख मास हो,शुक्ल पछ हो,ब्रहस्पति सिंह राशि मे हो,चंद्रमा तुला राशि में हो,स्वाति नछत्र हो,व्यतिपात योग हो scientific द्रष्टिकोण से यह स्थति प्रथ्वी की सबसे विशिष्ट स्थति होती हैं, जिसमें मनुष्य अपनें कल्याण के लिये भारत वर्ष के  कुछ विशिष्ट स्थानों  पर रहकर अपनें शरीर आत्मा के लिये जो यत्न करता हैं उसका प्रभाव मनुष्य के शरीर आत्मा पर सामान्य दिनों की तुलना में लाख गुना अधिक होता हैं.






 यही कारण है,कि योगी,मुनि,दार्शनिक और सामान्य जन योग मुद्रा को करते हुये सिंहस्थ में मिल जातें हैं. साथ ही विभिन्न जड़ी-बूटीयों की प्रभावशीलता भी सिंहस्थ के दोरान अपनें चरमोत्कर्ष पर रहती हैं. यही कारण है कि सिंहस्थ जैसे आयोजन का इंतजार गुणी जन बारह वर्षों तक करतें हैं.



+++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++


० संस्कार के बारें में जानें

+++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी