सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्याज (ONION) खानें के फायदे pyaj khane ke fayde

प्याज खाने के फायदे pyaj khane ke fayde 


प्याज खाने के फायदे pyaj khane ke fayde
प्याज 



 

प्याज का संस्कृत नाम :::



प्याज का संस्कृत नाम pyaj ka sanskrit name पलांडु ,भवनेष्ट,मुखदुषक,कृमिघ्न



प्याज का हिन्दी नाम :::

प्याज को हिंदी में प्याज,कांदा,लाल प्याज आदि नामों से जानतें हैं ।




० कद्दू के औषधीय उपयोग



० बैंगन के औषधीय उपयोग


० हरसिंगार के औषधीय प्रयोग



० तुलसी


० योगा


प्याज का लेटिन नाम pyaj ka Latin Nam :::



Allium cepa प्याज का लेटिन नाम "एलियन सीपा" हैं।

प्याज खाने के फायदे pyaj Khane ke fayde  :::



आयुर्वेदानुसार प्याज चरपरी,बलकारक,पित्तनाशक,भारी,रोचक,स्निग्ध और वमन के दोष को शांत करने वाला हैं ।


प्याज  स्वादिष्ट ,ठंडा,कफ कारक, वातनाशक,बलकारक,वीर्यवर्धक और भारी रहता हैं ।


लाल प्याज  ठंड़़ा,पित्तशामक, और अत्यंत निद्राकारक, होता हैं ।

प्याज के बीज pyaj ke bij प्रमेह (मधुमेह),दाँतों के कीड़े,श्वास को दूर करने वाले होतें हैं ।


पूर्णत: पका हुआ प्याज आँतों की कार्यप्रणाली में सुधार लाकर खुलकर दस्त लाता हैं । और पाचनशक्ति मज़बूत करता हैं ।


प्याज का सलाद pyaj ka salad khane se  खानें से कब्ज,अर्श,भगंदर की समस्या जड़ से समाप्त हो जाती हैं ।


प्याज का रस pyaj ka ras निकालकर पीनें से मूत्र की जलन ,प्यास  और शरीर की जलन पूरी तरह समाप्त हो जाती हैं ।


पित्त रोगों में  प्याज का सेवन करने से pyaj ka sevan karne se दूषित पित्त दस्त के साथ शरीर से बाहर निकल जाता हैं ।और नवीन शुद्ध पैदा होकर शरीर को बल प्रदान   करता हैं ।


चर्म रोग जैसें गाँठ,फोड़े फुन्सी,आदि में प्याज  का रस गर्म कर लगानें या प्याज  को घी में सेंककर प्रभावित स्थान  पर बाँधनें से बहुत आराम मिलता हैं ।


प्याज की गाँठ में पाया जानें वाला वाष्पशील प्याज का तेल pyaj ka tel ज्वर नाशक,श्वास कास नाशक ,और सिरदर्द नाशक होता हैं ।


प्याज का रस पेट दर्द,वात रोग आदि में प्रभावकारी साबित होता हैं ।


कच्चा प्याज  खानें से  माहवारी नियमित होती हैं।


जहरीले कीड़े के काटनें पर प्याज का रस मलने से जलन शांत हो जाती हैं ।


कर्णशूल में प्याज  का रस गर्म कर कान में डालनें से कर्णशूल मिट़ जाता हैं । और बहरापन दूर हो जाता हैं ।


 सफेद प्याज safed pyaj का रस आँखों में डालने से नेत्रज्योति बढ़ती हैं और रतौंधी समाप्त हो जाती हैं ।


प्याज के रस को नाक में टपकानें से बैहोश व्यक्ति की बैहोशी समाप्त हो जाती हैं । 


नकसीर में प्याज को काटकर बार - बार सूघंनें से नकसीर बँद हो जाती हैं ।


प्याज का रस लू लगनें पर पीलानें और शरीर पर मलनें से लू उतर जाती हैं ।


प्याज का रस पीलानें से गुर्दें की पथरी निकल जाती हैं ।


प्याज का रस pyaj ka ras और सरसों का तेल मिलाकर गठिया रोगी की मालिश करनें से आशातित लाभ प्राप्त होता हैं ।


प्याज का रस और कलोंजी का तेल समान मात्रा में मिलाकर  मसूड़ों और दाँतों पर मलनें से दाँत दर्द,पायरिया,आदि की समस्या समाप्त हो जाती हैं ।


शरीर में किसी ज़गह गाँठ होनें पर प्याज के बीच वाले कंद को निकालकर घी और हल्दी मिलाकर गर्म कर गाँठ पर बाँधनें से गाँठ बैठ जाती हैं ।


 सफेद प्याज safed pyaj बलवर्धक ,वीर्यवर्धक  और बाजीकरण प्रदान करता हैं,इसका नियमित भोजन के साथ सेवन करनें से उपरोक्त लाभ प्राप्त होतें हैं ।  





० च्वनप्राश



० भोजन करनें के नियम



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट