सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Migraine: आधे सिर दर्द का सबसे अच्छा होम्योपैथिक उपचार

 आधे सिर दर्द की बीमारी भारत सहित दुनिया भर में रोजमर्रा की जिंदगी को प्रभावित करने वाली बहुत बड़ी बीमारी है। आधे सिर दर्द से पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं अधिक प्रभावित रहती हैं।  

तो आईए जानतें हैं आधे सिर दर्द के होम्योपैथिक उपचार के बारें में 


1.होम्योपैथिक मेडिसिन सिमिसिफ्यूगा 

सिमिसिफ्यूगा आधे सिर दर्द से संबंधित निम्न लक्षणों में बहुत अच्छा असर करती हैं

1.सिर की नसों में बहुत तेज दर्द जिसे Neuralgia भी कहते हैं।

2.मासिक चक्र की गड़बड़ी के कारण आधे सिर दर्द की बीमारी होना।

3.स्त्री के अंडाणु न बनने के कारण माहवारी की शुरुआत से पहले आधे सिर दर्द की बीमारी होना।

4.आंख के ऊपरी भाग में तेज दर्द जो आधे सिर दर्द के साथ होता हैं।

5.सिर दर्द के साथ सिर के ऊपरी भाग में तेज गर्माहट महसूस होना।

आधा सिर दर्द, Migraine, माइग्रेन


2. होम्योपैथिक मेडिसिन सैग्यूनेरिया 

1.आधे सिर दर्द के साथ बुखार आ जाना।

2.आधे सिर दर्द के साथ ठंड लगना।

3.सिर दर्द के साथ नसों में खिंचाव पैदा होना।

4.आवाज के साथ सिर दर्द बढ़ता हैं।

5.तेज धूप या तेज रोशनी में निकलने पर अचानक आधे सिर में दर्द होना।

3.होम्योपैथिक मेडिसिन जेलेसिमियम


1.आंखो में दर्द के साथ आने सिर दर्द की शुरुआत होना ।

2.सिर में एक तरफ खून जमा हो जानें से आधे सिर में दर्द होना।

3.अंधेरे कमरे में रहने से आधे सिर दर्द में आराम मिलता हैं।

4.आधे सिर दर्द होने पर बेहोशी जैसी स्थिति होना।


4.होम्योपैथिक मेडिसिन स्पाइजेलिया

1.सूर्योदय के साथ शुरू होने वाला सिर दर्द जो सूर्यास्त के बाद स्वत:ठीक हो जाता हैं।

2.ह्रदय रोगी में होने वाला आधा सिर दर्द।

3.आराम करने पर आधे सिर दर्द में आराम मिलता हैं।

5.आयरिस वरसिक

1.आधे सिर दर्द के साथ उल्टी होना।

2.आधा सिरदर्द एक निश्चित समय पर शुरू होता हैं उदाहरण के लिए दोपहर में या शाम को या रात में या फिर सोकर उठते ही ।

3.आधे सिर दर्द में आंखों के सामने अंधेरा छा जाता हैं।

4.सिर दर्द अक्सर तेज चुभन के साथ शुरू होता हैं।

6.होम्योपैथिक मेडिसिन काल्मिया 


1.दाहिने तरफ होने वाला आधा सिर दर्द ।

2.आधे सिर दर्द के साथ सिर में तेज जलन होना।

3.आंखो के ऊपरी भाग में दर्द ।


7.होम्योपैथिक मेडिसिन सेड्रान 

1.बांयी तरफ होने वाला आधा सिर दर्द।

2.आधा सिरदर्द कम होकर फिर से अचानक तेज हो जाता हैं या फिर दर्द के दौरे।


8.होम्योपैथिक मेडिसिन वर्बैसकम 

1.आंखों के निचे दर्द शुरू होकर आधा सिर दर्द होना‌ ।

2.ठंड के मौसम में आधा सिर दर्द होने पर सिर सुन्न होना।

9.होम्योपैथिक मेडिसिन कोलोसिंथिस 


1.ऐंठन वाले आधे सिर का दर्द ।

2.आधे सिरदर्द के समय सिर और आंखों की मांसपेशियों में खिंचाव।

10.होम्योपैथिक मेडिसिन कालियम फास

1.मस्तिष्क की नसों को ताकत देने वाली औषधि है।

2.आधे सिरदर्द के कारण स्मरण शक्ति के हा्स के लिए उपयोगी।

11.होम्योपेथिक मेडिसिन साइक्लामेन यूरोपियन 

1..आधे सिर दर्द में उपयोगी सर्वमान्य औषधि।

2.मासिक धर्म के साथ आधा सिर दर्द।

लेखक :: हेल्दी लाइफस्टाइल

• माइग्रेन और आयुर्वेद

• हेल्दी लाइफस्टाइल के टिप्स

• आंखें क्यों फड़फड़ाती हैं

• मांसपेशियों में दर्द होने पर इलाज

• weight loss कैसे करें

• डी डायमर टेस्ट क्या हैं

• कास्मेटिक सर्जरी के बाद की सावधानी

• सिकल सेल एनिमिया

• उड़द की दाल के फायदे और नुकसान

टिप्पणियाँ

Nux Vomica ने कहा…
बहुत ही शानदार जानकारी , ऐसे ही अच्छी होम्योपैथिक दवाओं के बारे में लिखते रहिए, साथ ही ये भी बताए क्या होम्योपैथिक दवाओं के कोई दुष्प्रभाव नही होते ?
Healthy Lifestyle news ने कहा…
जी धन्यवाद, होम्योपैथिक दवाएं पूरी तरह सुरक्षित और हानिरहित होती हैं। इनके कोई दुष्प्रभाव नहीं होते हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह