सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

MIGRAINE HEADACHE AND AYURVEDA,माइग्रेन

MIGRAINE HEADACHE AND AYURVEDA,माइग्रेन 

परिचय::-

माइग्रेन सिरदर्द के लक्षण
 माइग्रेन

माइग्रेन सिर में,आँखों के निचें बार -बार होनें वाला गंभीरतम दर्द होता हैं.ये दर्द सामान्य सिरदर्द से दर्द की तीव्रता और बारम्बारता की वज़ह से अलग होता हैं.इसे 

 माइग्रेन के लक्षण::-

१.अचानक तेज सिरदर्द होना जो कि जो कि सिर के एक भाग या दोनों भागों में एक साथ हो सकता हैं.

२.सिरदर्द के साथ उल्टी ,जी मचलाना,चक्कर,बेहोशी होना.

३. तेज आवाज़,रोशनी के कारण तेज सिरदर्द.

४.सुनने,बोलनें में परेशानी.

५. हाथ,पैरों में कंपकंपी या सुन्नपन.

६.कई रोगीयों में आँखों के सामनें चमकनें जैसा अहसास होता हैं,ऐसा इसलिये होता हैं,कि माइग्रेन के कारण पैदा होनें वाली इलेक्ट्रिक और केमिकल तरंगे पूरें मस्तिष्क में फेल जाती हैं, और उस हिस्सों को घेर लेती हैं,जिससे चीजों को देखतें हैं.

७.दर्द के दोरान कानों से कम सुनाई देता हैं.

 माइग्रेन का कारण::-

१. माइग्रेन का पारिवारिक इतिहास होनें पर.

२.अनियमित दिनचर्या.

३.औषधियों के साईड़ इफेक्ट से.

४. हार्मोंन के असंतुलित होनें से.

४. सायनस या नाक से संबधित समस्या होनें पर.

५. सिर में चोंट़ की वज़ह से.

६. शराब,तम्बाकू उत्पादों के सेवन से.


नीम के औषधीय उपयोग


० पलाश वृक्ष के औषधीय गुण



 माइग्रेन का आयुर्वेदिक उपचार::-



सर्वप्रथम पंचकर्म चिकित्सा के साथ शुरूआत कर रोग की तीव्रता को कम किया जाता हैं.
१. सिरसूलादि वज्र रस एक गोली सुबह शाम भोजन के बाद.

२. त्रिफला चूर्ण रोज़ रात को सोते समय गुनगुने जल के साथ.

३. भ्रामरी और अनुलोम - विलोम प्राणायाम का इस रोग में विशेष महत्व हैं.

४. पानी अधिक मात्रा में पीना चाहिये.

५. सोनें का समय निश्चित होना चाहियें.

६. संतुलित भोजन होना चाहियें जिसमें पर्याप्त सब्जियाँ और सलाद हो.

७. तेज मिर्च मसालेदार भोजन से परहेज करें.

८. मोबाइल या कम्प्यूट़र का इस्तेमाल करते समय ध्यान रखना चाहियें कि कमरें में पर्याप्त रोशनी हो.

९. सोतें समय तकियें की ऊँचाई अधिक नहीं होनी चाहियें.

१०. गाजर का रस ,ककड़ी ,तरबूज तथा खीरा ककड़ी इस बीमारीं को नियत्रिंत करते  हैं अत: इनका सेवन करें ।

११.कार्यस्थल या घर का वातावरण ऐसा हो जहाँ पर्याप्त मात्रा में हवा का प्रवाह हो यदि हवा का प्रवाह कम होगा तो  मस्तिष्क में आक्सीजन की आपूर्ति कम होगी फलस्वरूप माइग्रेन का अटेक आनें की सम्भावना बढ़ जाएगी ।

१२.शोधों से यह बात स्पष्ट हुई हैं की सेब फल का लगातार सेवन मस्तिष्क में ग्लूटेमिक एसिड की मात्रा को संतुलित करता हैं । ग्लूमेंटिक एसिड मस्तिष्क में रक्त संचार को सुचारू रखता हैं जिससे मस्तिष्क सम्बन्धी बीमारी नहीं हो पाती हैं ।

१३.एक्यूप्रेशर चिकित्सा द्वारा हाथ के कुछ विशेष पॉइंट पर दबाव बनाकर इस रोग का प्रभावी उपचार सम्भव किया जा सकता हैं । देखें चित्र
migrain ka ilaj
 migrain accupressure point


कोई भी रोग जल्दी ख़त्म हो सकता हैं,यदि बीमारीं को पहचान कर उसका समय पर उपचार शुरू कर दिया जायें अत:बीमारीं शरू होते ही  जितना जल्दी हो सकें किसी अच्छे चिकित्सक से ज़रूर सलाह लें. 


वैघकीय परामर्श आवश्यक

• रीढ़ की हड्डी में दर्द खत्म करने की नई तकनीक

• माइग्रेन का होम्योपैथिक इलाज




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह