सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

डी डायमर टेस्ट क्या होता है। what is D dimer test in hindi

 डी डायमर टेस्ट क्या होता है। what is D dimer test in hindi

डी डायमर टेस्ट क्या होता है। what is D dimer test in hindi
डी डायमर टेस्ट


डी डायमर टेस्ट एक प्रकार का ब्लड टेस्ट है जिसके माध्यम से रक्त नलिकाओं में मौजूद खून के थक्कों (blood clot) का पता लगाया जाता है।

जब शरीर का कोई भाग नुकीली वस्तु से कट जाता है तो कुछ समय पश्चात खून निकलने के बाद खून निकलना बंद हो जाता है,ऐसा कटी हुई जगह पर रक्त का थक्का या फिब्रीन के जमा होने से होता है। जब कटी हुई जगह ठीक हो जाती है तो रक्त का थक्का या फिब्रीन भी रक्त में घुल जाता है,इसी फिब्रीन की सबसे छोटी इकाई होती हैं जिसे डी डायमर कहते हैं।

 डी डायमर एक प्रोटीन होता है जो इस रक्त के थक्के में मौजूद होता है ,डी डायमर टेस्ट  के द्वारा इसी प्रोटीन की उपस्थिति का पता लगाया जाता है। रक्त में अधिक डी डायमर का अर्थ होता है कि रक्त में थक्कों की मौजूदगी है। 

डी डायमर टेस्ट क्या होता है इसका पता आपको लग गया होगा।

डी डायमर टेस्ट की नार्मल वेल्यू क्या होती है

डी डायमर टेस्ट करने के लिए रक्त का नमूना लेकर  टरबिडोमेट्रिक इम्यूनोऐसे विधि द्वारा जांच की जाती है । इस विधि द्वारा डी डायमर टेस्ट की नार्मल वेल्यू प्रति मिलीलीटर खून में 500ng/ML से कम होना चाहिए। इससे अधिक होने पर उसे पाजीटिव डी डायमर टेस्ट कहा जाता है।

डी डायमर टेस्ट किन बीमारियों की पहचान के लिए किया जाता है 

डी डायमर टेस्ट क्या होता है यह समझने के बाद यह प्रश्न उठता हैं कि डी डायमर टेस्ट किन बीमारियों की पहचान के लिए किया जाता हैं तो उत्तर यह है कि डी डायमर टेस्ट उन बीमारियों की पहचान और निदान के लिए किया जाता है जिनमें रक्त नलिकाओं में खून के थक्के जमा हो जातें हैं और जो जीवन के बहुत घातक साबित हो सकते है जैसे

• डीप वेन थोम्ब्रोसिस (DVT)

• पल्मोनरी एम्बोलिज्म (PE)

• कोविड 19 में फेफड़ों की श्वसन प्रणाली में रक्त के थक्के का पता लगाने में।

• ब्रेन स्ट्रोक में

• डिसमेंटेट इन्ट्रावस्कुलर कागुलेशन (DIC) में

• सांप या अन्य जहरीले जानवरों के काटने पर

• लीवर से संबंधित बीमारी में।



डी डायमर टेस्ट कब करवाना चाहिए

आजकल हर वो व्यक्ति जिसे जो कोरोना के हल्के लक्षणों के साथ ठीक हो चुका है या वो व्यक्ति जो किसी भी बीमारी से पीड़ित नहीं है बिना सोचे समझे घबराहट में स्वयं के निर्णय पर डी डायमर टेस्ट करवा रहा है ऐसे में अस्पताल और पेथोलाजी लेब पर अनावश्यक दबाव पड़ रहा है और वास्तविक और गंभीर लक्षणों से पीड़ित व्यक्ति को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, समय पर जांच नहीं हो पाने के कारण ऐसे मरीजों की मौत भी हो रही है ऐसे में यह आवश्यक है कि डी डायमर टेस्ट करवाने से पहले हमें कुछ सामान्य जानकारी रखना चाहिए कि हमें कब डी डायमर टेस्ट करवाना चाहिए

• जब आपको  किसी पूर्व श्वसन तंत्र की बीमारी के श्वास लेने में परेशानी हो रही हो या अस्थमा जैसे लक्षण उभर रहे हो ।

• थोड़ा सा चलने पर सांस भरा रही हो।

• टांगों में दर्द,लालपन और सूजन हो।

• खांसी के साथ फेफड़ों में दर्द ।


• रक्त में खून के थक्के बनने का पूर्व इतिहास हो ।

• खांसी के साथ खून युक्त बलगम आ रहा हो।

• अधिक मोटापा हो।

• धूम्रपान करते हो ।

इसके अतिरिक्त चिकित्सक के परामर्श से डी डायमर टेस्ट करवाना चाहिए। 

किन मेडिकल कडिंशन में डी डायमर टेस्ट की नार्मल वेल्यू अधिक ही आती हैं 

कुछ मेडिकल कंडिशन में डी डायमर टेस्ट की नार्मल वेल्यू अधिक ही आती है अतः इन परिस्थितियों में घबराना नहीं चाहिए बल्कि चिकित्सक से परामर्श कर उचित निदान करवाना चाहिए।आईए जानते किन परिस्थितियों में डी डायमर टेस्ट की  वेल्यू अधिक ही आती है 

• यदि कोई सर्जरी हुई है या अंग प्रत्यारोपण हुआ है तो डी डायमर टेस्ट की  वेल्यू अधिक ही आती है।

• गर्भावस्था में।

• ह्रदयरोग होने पर ।


• यदि कोई बड़ी दुर्घटना हुई हो जिसमें अधिक रक्तस्राव हुआ हो।

• कैंसर में ।

• बहुत अधिक बैठे रहने या शारीरिक गतिविधि बहुत कम होने पर।

• एंटीफास्फोलिपिड़ सिंड्रोम नामक बीमारी होने पर।


डी डायमर टेस्ट को अन्य किन नामों से जाना जाता है

• प्रेगनेंट डी डायमर टेस्ट Fragment D-Dimer Test

• फिब्रीन डिग्रेडेशन फ्रेगमेंट टेस्ट Fibrin degradation fragment Test


डी डायमर टेस्ट कितने रुपए में हो जाता है

डी डायमर टेस्ट प्राइस अलग-अलग शहरों में अलग है उदाहरण के लिए इंदौर जैसे शहर में डी डायमर टेस्ट 600 से 800 रुपयों में हो जाता है । वहीं दिल्ली जैसे महानगर में यह 1000 रुपए तक होता हैं। 







टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह