15_07

ASTHMA TREATMENT

आज हम अस्थमा के आयुर्वैदिक उपचार के बारे मे चर्चा करेंगें अस्थमा आधुनिक चिकित्सा जगत के सामने सबसे जटिल व्याधि के रूप मे विधमान हैं आज आधुनिक चिकित्सा पद्ति या एलोपैथी अस्थमा को पू्र्णत: समाप्त करने मे सझम नहीं हैं किन्तु आयुर्वैद हजारों वषों   वषों पूर्व से इसको समूल  समाप्त करने का विधान करता हैं हमारें  रिषि - मुनियों ने पृाचीन गृन्थों मे मे इसे कफजनित बीमारीं के  रूप वर्णित किया हैं यदि इसके उपचार की बात करें तो

१.श्वास पृणाली में शोथ (inflammation) खत्म करने वाली औषधि दी जाती हैं जिससे रोगी खुलकर श्वास ले सके.

२. बलगम बाहर निकालने वाली औषधि का पृयोग किया जाता हैं .

३.इसके अलावा कुछ विशेष जडीं- बूटियां और आयुर्वैदिक औषधि जैसे  चंदृकांत रस श्वास कुठार रस पुर्ननवा को विशेष अनुपात मे मिलाकर रोगी को दिया जाता हैं.

यदि इन औषधियों को लगातार ३-४ महिनों तक पृयोग किया जाता हैं तो अस्थमा का पूर्ण रोकथाम    सभंव है.

 शिलाजित के बारें में जानियें

० नीम के औषधीय उपयोग

० गिलोय के फायदे



कोई टिप्पणी नहीं: