सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बच्चों में होने वाली इस ख़तरनाक बीमारी के बारेठ में विस्तार से जानिए

बच्चों में कावासाकी रोग कैसे होता हैं  kawasaki disease


कावासाकी रोग या कावासाकी सिंड्रोम 5 साल से कम उम्र के बच्चों में होनें वाली एक प्रकार की आंखों इम्यून बीमारी Auto immune disease हैं । कावासाकी रोग से सबसे ज्यादा त्वचा,ह्र्दय और mucous membrane प्रभावित होती हैं ।


• कावासाकी रोग की खोज किसनें की थी ?


कावासाकी रोग की खोज सन् 1967 में जापानीज डाक्टर तोमिसाकु कावासाकी द्वारा की गई थी । और उन्ही के नाम पर इस बीमारी का नाम कावासाकी रोग या कावासाकी सिंड्रोम पड़ा ।

• कावासाकी रोग के लक्षण 


० कावासाकी रोग की प्रारंम्भिक अवस्था में बच्चें को तेज बुखार आता हैं । जो कि एक से दो माह तक किसी बुखार कम करनें वाली दवाई या Antiboitc से कम नहीं होता हैं ।



० बच्चें को नेत्रशोध conjunctivitis हो जाता हैं।


० जीभ का लाल सुर्ख हो जाना जिसे straberry tounge कहतें हैं । इस रोग की बहुत महत्वपूर्ण पहचान हैं ।



० गुदा की चमडी निकलना और गुदा पर सूजन होना ।



० हाथों की चमडी निकलना और खुजली होना 



० होंठों पर सूजन होना 


० होंठ फटना और होंठों से खून निकलना


० आंखों में लालिमा 



० शरीर पर चकतें निकलना 

कावासाकी रोग
कावासाकी रोग



० टीकाकरण वाली जगह पर लम्बें समय बाद सूजन आना ।


० ह्रदय को रक्त प्रदान करनें वाली धमनी का लटक जाना जिसे coronary artery aneurysm कहतें हैं ।



० गर्दन की नसों में सूजन आना 



० पेट में तेज दर्द


• कावासाकी रोग का कारण क्या होता है 


कावासाकी रोग एक  आटो इम्यून Auto immune बीमारी हैं अर्थात मनुष्य का शरीर अपनें खुद की प्रतिरोधक क्षमता से लड़नें लगता हैं । 


कावासाकी रोग का वास्तविक कारण अब तक अज्ञात हैं किन्तु आधुनिक खोजों से ज्ञात हुआ हैं कि वायरल इन्फेक्शन इस रोग का कारण होता हैं ।


• कावासाकी रोग का इलाज 


√ कावासाकी रोग आटो इम्यून डिजीज हैं जिसका इलाज लक्षणों के आधार पर किया जाता हैं । यदि रोगी की स्थिति गंभीर हैं तो अस्पताल में भर्ती किया जाता हैं।  


√ कावासाकी रोग आयुर्वेद मतानुसार सन्निपातज पित्त प्रधान प्रक्रति का रोग हैं ।  गिलोय इम्यूनोडाइल्यूटर होनें से इस रोग में  बहुत अच्छा फायदा प्रदान करती हैं । 


√ कावासाकी रोग की होनें पर बच्चें को पर्याप्त मात्रा मेंतरल पदार्थों का सेवन करवाना चाहियें । 


√ यदि शरीर में खनिज तत्वों की कमी हो जाती हैं तो इसकी पूर्ति Oral rehydration salt और फलों के रस देकर करनी चाहिए ।


√ रोगी के शरीर का बुखार कम करनें के लियें उसें ठंडी जगह पर रखें ।


√ यदि ह्रदय से संबंधित कोई समस्याए हो रही हो तो चिकित्सक की देखरेख में रखकर उचित इलाज करवाना चाहियें ।


√ बच्चें का बुखार 5 दिन तक कम नहीं हो रहा हो तो तुंरत आगें की जांच करवाना चाहियें ताकि कावासाकी रोग को प्रारंम्भिक अवस्था में पहचाना जा सकें ।


० हेपेटाइटिस सी के बारें में जानकारी

० चित्रक के फायदे

० बुखार आने पर क्या करना चाहिए

० सुपरफूड देशी घी खानें के फायदे











टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी