सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हेपिटाइटिस सी hepatitis c कैसे होता हैं ।इसके खोजकर्ता कौंन थे

हेपिटाइटिस सी hepatitis c कैसे होता हैं ? इसके खोजकर्ता कौंन थे ?



Heapatitis c
Hepatitis c

  हेपिटाइटिस सी लीवर से संबंधित विषाणुजनित बीमारी हैं ।   विश्व स्वास्थ संगठन ( W.H.O.) के मुताबिक हेपिटाइटिस सी hepatitis c से पूरी दुनिया में सात करोड़ से अधिक लोग पीड़ित हैं और प्रतिवर्ष तकरीबन चार लाख लोग hepatitis c से पूरी दुनिया में मर जाते हैं । hepatitis c से पीड़ित रोगी लीवर कैंसर और लीवर सिरोसिस से भी ग्रस्त हो जातें हैं ।


hepatitis c virus ki khoj kisne ki thi


hepatitis c virus की खोज का श्रेय अमेरिका के हार्वे थे आल्टर (HARVEY J.ALTER), ब्रिटेन के चार्ल्स एम.राइज (CHARLES M.RISE), और कनाडा की National University of Alberta में पढ़ाने वाले और ब्रिटेन में जन्में Mike hueton माइक ह्यूटन को जाता हैं ।

हार्वे जे.आल्टर अमेरिका के National institute of health N.I.H. से संबंधित हैं जबकि चार्ल्स एम.राइज अमेरिका के न्यूयार्क स्थित Rockefeller University में पढ़ाते हैं ।

इन तीनों वैज्ञानिकों को हेपिटाइटिस सी वायरस की खोज के लिए सन् 2020 का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया हैं ।


हेपिटाइटिस सी hepatitis c कैसे होता हैं


1.हेपेटाइटिस सी से पीड़ित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संसर्ग से 


2.संक्रमित व्यक्ति का रक्त लेने से


3.संक्रमित सुई,रेजर, तोलिया,ब्रश आदि उपयोग करने से


4.गर्भस्थ शिशु को संक्रमित माता से 


hepatitis c हेपिटाइटिस सी के लक्षण



1.मांसपेशियों में दर्द होना 


2.अत्यधिक थकान होना


3.भूख नही लगना


4.आंखे पीली होना


5.त्वचा का रुखापन और पीला होना


6.शरीर में खुजली चलना


7.बोलने, चलने और निगलने में परेशानी होना



8.चक्कर आना


9.जीभ सफेद होना


10.शरीर में मामूली चोंट से ही अत्यधिक खून निकलना



11.लीवर पर सूजन आना 


12.पैरों में सूजन होना 



12.वजन में अत्यधिक कमी 


13.पेट में दर्द होना 


हेपिटाइटिस सी के कुछ लक्षण दिखाई नहीं देते हैं ऐसे मामलों में लीवर बहुत अधिक क्षतिग्रस्त होने के बाद ही लक्षण प्रकट होते हैं अतः व्यक्ति को हेपिटाइटिस सी वायरस से संक्रमित मरीज से सम्पर्क में आने पर अपना लीवर फंक्शन टेस्ट Liver function test अवश्य करवाना चाहिए ।
 

हेपिटाइटिस सी का इलाज



हेपिटाइटिस सी इलाज के द्वारा पूर्णतः ठीक होने वाली बीमारी है जिससे सौ प्रतिशत मरीज ठीक हो जातें हैं । कभी कभी तो मरीज की प्रतिरोधक क्षमता Immunity अच्छी होनें पर मरीज बिना इलाज के भी ठीक हो जाता हैं ।

हेपिटाइटिस सी कभी कभी जानलेवा भी साबित हो सकता हैं ऐसा उन मामलों में अधिक होता हैं जहां मरीज की प्रतिरोधक क्षमता Immunity power कम हैं और बीमारी का पता बहुत देर से चलता हैं ।



हेपिटाइटिस सी से बचाव


हेपेटाइटिस से बचाव हेतू तीन टीके लगाए जाते हैं । प्रथम टीके के बाद दूसरा टीका 30 वे दिन लगाया जाता हैं और तीसरा टीका 180 दिन बाद लगाया जाता हैं । 


1. शरीर की साफ सफाई का प्रर्याप्त ध्यान रखना चाहिए


2.बाहर से लाने वाले फल सब्जियां को अच्छी तरह से धोनें के बाद ही इस्तेमाल करना चाहिए 


3.हेपेटाइटिस सी से संक्रमित व्यक्ति से मिलने पर मुंह को ढककर रखना चाहिए और मरीज से लगभग दो गज की दूरी रखना चाहिए । 



4.हेपेटाइटिस सी से संक्रमित व्यक्ति से शारीरिक संपर्क नहीं करना चाहिए


5.घर में यदि हेपिटाइटिस सी संक्रमित व्यक्ति हैं तो मरीज का कमरा, बिस्तर और खाने के बर्तन अलग रखना चाहिए


5.बासी या ठंडा भोजन नहीं करना चाहिए



6.खुले में रखी खाद्य सामग्री का उपयोग नहीं करना चाहिए



7.पीने के पानी के जलस्रोतों के आसपास गंदगी और सीवरेज लाइन नहीं होना चाहिए ।



8.खाना खाने से पहले हाथों को अच्छी तरह से साबुन से धोना चाहिए।


9.संक्रमित रक्त, संक्रमित सुई ,रेजर तोलिया आदि के इस्तेमाल से बचना चाहिए ।


10.शराब का अत्यधिक सेवन नहीं करना चाहिए।









टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह