सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पेट के छाले या पेप्टिक अल्सर कारण लक्षण और बचाव

1.पेट के छाले

पेट के छाले
पेप्टिक अल्सर
भारतीय खान पान मिर्च मसालों के बिना अधूरा माना जाता हैं ,और मिर्च मसाला खानें के बाद यदि पेट में एसीडीटी की समस्या हो तो हम भारतीय इसे साधारण समस्या के रूप में लेते हैं,किन्तु यदि समस्या बार - बार उत्पन्न हो रही हो तो हमें सचेत हो जाना चाहियें कि कही यह पेप्टिक अल्सर (peptic ulcer) तो नहीं हैं. 


पेप्टिक अल्सर होनें का मुख्य कारण हेलिकोबैक्टर पायलोरी या H.pylori बेक्टेरिया हैं.

यह बेक्टेरिया पेट की सतह पर  चिपककर एसिड़ रोकनें वाली दीवार को संक्रमित कर दीवार को तोड़ देता हैं, फलस्वरूप पेट की अन्दरूनी दीवार पर छाले बन जातें हैं.स्थिति गंभीर होनें पर छोटी आँत में छेद भी हो सकते हैं.

2.पेट में छाले होने के कारण :::



० रोग प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर होना.

० पेट के उपचार में प्रयोग होनें वाली दवाईयों से.

० जीवनशैली की अनियमितता से.

० कैंसर की वज़ह से.

० आनुवांशिक कारको की वज़ह से.

० लगातार दर्द निवारक दवाओं के इस्तेमाल से.

० दूषित खाद्य पदार्थों जैसें सिंथेटिक दूध,मक्खी बैठी हुई खाद्य सामग्री इत्यादि से.


3.पेट में छाले होने के लक्षण :::



० पेट के ऊपरी हिस्से मे तीव्र दर्द .

० पेट का फूलना.

० सीने मे तेज जलन.

० खट्टी डकार.

० उल्टी में खून के कतरे आना.

० मल मे खून आना .

4.प्रबंधन :::



पेप्टिक अल्सर या पेट के छाले होनें पर कई बातें महत्वपूर्ण हो जाती हैं,जैसे

० ज्यादा एसिडिक फूड़ का सेवन नहीं करना चाहियें जैसे अचार,मिर्च मसालेदार भोजन आदि.

० शराब और तम्बाकू का सेवन इस बीमारी में जानलेवा साबित हो सकता हैं,अत : इनसे परहेज करें.

० तनाव न लें.

० भोजन निश्चित समय पर और आराम से खूब चबाकर करें.

० भोजन में रेशेदार खाद्य पदार्थों का सेवन करें.

० नियमित पैदल घूमनें को दिनचर्या में शामिल करें.

० प्रतिदिन लगभग 12 - 15 गिलास पानी पीयें.

० खाली पेट नही रहे .

० योगिक क्रियाओं जैसें कपालभाँति नियमित रूप से करें.

० फलों के रस के बजाय साबुत फलों का सेवन करें.

० दही या प्रोबायोटिक दही का सेवन करें.

० आयुर्वैदिक दवाईयाँ जैसें सूतशेखर रस,शंख वटी का सेवन वैघकीय परामर्श से करें.

० बैक्टेरिया को नष्ट करनें वाली औषधियों का चयन चिकित्सतकीय परीक्षणों के बाद करें.



****************************************************************

● यह भी पढ़े👇👇👇


पेप्टिक अल्सर में मशरूम के प्रयोग के बारें में जानियें


● इमली के बारें में जनियें



० नीम के औषधीय उपयोग


० बैंगन के औषधीय उपयोग


० महिलाओं की समस्या यूटेराइन फाइब्राइड़


० पलाश वृक्ष के औषधीय गुण

*************************************************************

5.मुलेठी :::

० मुलेठी में ग्लाइकोसाइड़ (Glycocyde) और ट्राइटर्पी नामक तत्व पायें जातें हैं,जो एसीडीटी को समाप्त कर पेट़ की आंतरिक दीवारों की अल्सर से रक्षा करता हैं.अल्सर होनें पर भी इसका प्रयोग बहुत फायदेमंद होता हैं.


० पंचकर्म क्या हैं

० गूलर के औषधीय गुण

० कद्दू के औषधीय गुण

• पंचनिम्ब चूर्ण के फायदे




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह