सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्या पैरासौम्निया कोई स्वास्थ्यगत समस्या है

पैरासोम्निया (parasomnia) क्या है 



यदि आप देर रात तक पढ़ाई कर रहें हो और आपके पास  गहरी नींद में सोया हुआ व्यक्ति अचानक तेज स्वर में नींद में ही बोलनें लगें तो शायद आप सुबह उठकर उसका मज़ाक उड़ायेगें कि रात को तुमनें क्या बोला परन्तु सामनें वाला आपकी बातों से असहमति ही प्रदर्शित करेगा कि वह तो जैसा सोया था वैसा ही उठा हैं,उसनें रात में कोई बढ़बढ़ नहीं की यही स्थिति parasomnia या नींद में बढ़बढ़ाना कहलाती हैं.


क्या पैरासोम्निया parasomnia से कोई नुकसान होता हैं.



अधिकांश लोग यही सवाल पूछतें हैं,कि क्या यह स्वास्थगत समस्या हैं,इसका जवाब भी सीदा सरल हैं,अधिकांशत: मामलों में ये समस्या नहीं मानी जाती परन्तु जहाँ बढ़बढ़ाना चिल्लानें के समान हो यह गंभीर नींद सम्बंधित बीमारी (sleep disorder) मानी जाती हैं जिनमें सम्मिलित हैं---



1.REM यानि sleep behaviour disorder.


2. नींद के अतिकारी sleep terror.


उपरोक्त दोनों प्रकार की बीमारीं में रोगी जोर -जोर से चिल्ला सकता हैं.


::  मारपीट़ कर सकता हैं.


::  नींद में चल सकता हैं.


::  किसी बहुमंजिला इमारत से निचें कूद सकता हैं.


पैरासोम्निया का कारण  ::


1. अत्यधिक मानसिक थकावट़.


2.शराब,गांजा ,चरस,भांग तथा अन्य नशीली वस्तुओं का अत्यधिक प्रयोग.


3.कुछ विशेष दवाईयों का दुष्प्रभाव.


4.मानसिक अस्वस्थता.


5. बुखार .


पैरासोम्निया का  Treatment 



इस समस्या को प्रभावी रूप से नियत्रिंत कर रोगी को स्वस्थ जीवनशैली पुन: प्रदान की जा सकती हैं,इसके लियें

:: रोगी को मानसिक रूप से शांतचित्त रखनें का    प्रयास करें.

:: रोगी से प्रसन्नतापूर्वक बातचीत करें.

:: रोगी पर्याप्त नींद लें इसका प्रयास हो पर्याप्त नींद से तात्पर्य 7 से 8 घंटे की बाधारहित नींद से हैं.

:: रोगी को योगिक क्रियाएँ जैसें शवासन ,अनुलोम --- विलोम, भ्रामरी करवातें रहें.

:: सोनें से पूर्व हो सके तो शीतल जल से स्नान करवायें.

:: औषधि जैसें सर्पगंधा का प्रयोग वैघकीय परामर्श से करवायें.

:: पंचकर्म जैसे शिरोधारा करवायें.

:: रोग को बढ़ानें वाली समस्यों पर मनोचिकित्सकीय (psychological) परामर्श अवश्य लें.

:: रोगी को ऐसे आहार न दे जो मानसिक उत्तेजना प्रदान करतें हों जैसे चाय,काँफी,शराब,तम्बाकू आदि.

:: तरल पदार्थों का जिसमें शामिल हैं,फलों का रस,आंवला रस का सेवन करवातें रहें.साथ ही रेशायुक्त खाद्य पदार्थ जैसे सलाद,प्याज,हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन अवश्य करवायें.

यदि उपरोक्त बताई गयी बातों को सुनियोजित तरीकें से अमल में लाया जावें तो समस्या को सम्पूर्ण रूप से समाप्त किया जा सकता हैं.


० तुलसी


० तेल के फायदे



० यूटेराइन फाइब्राइड़

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही।Nange sone ke fayde

  जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही nange sone ke fayde इंटरनेट पर जानी मानी विदेशी health website जीवन-साथी के साथ नंगा सोने के फायदे बता रही है लेकिन क्या भारतीय मौसम और आयुर्वेद मतानुसार मनुष्य की प्रकृति के हिसाब से जीवनसाथी के साथ नंगा सोना फायदा पहुंचाता है आइए जानें विस्तार से 1.सेक्स करने के बाद नंगा सोने से नींद अच्छी आती हैं यह बात सही है कि सेक्सुअल इंटरकोर्स के बाद जब हम पार्टनर के साथ नंगा सोते हैं तो हमारा रक्तचाप कम हो जाता हैं,ह्रदय की धड़कन थोड़ी सी थीमी हो जाती हैं और शरीर का तापमान कम हो जाता है जिससे बहुत जल्दी नींद आ जाती है।  भारतीय मौसम और व्यक्ति की प्रकृति के दृष्टिकोण से देखें तो ठंड और बसंत में यदि कफ प्रकृति का व्यक्ति अपने पार्टनर के साथ नंगा होकर सोएगा तो उसे सोने के दो तीन घंटे बाद ठंड लग सकती हैं ।  शरीर का तापमान कम होने से हाथ पांव में दर्द और सर्दी खांसी और बुखार आ सकता हैं । अतः कफ प्रकृति के व्यक्ति को सेक्सुअल इंटरकोर्स के एक से दो घंटे बाद तक ही नंगा सोना चाहिए। वात प्रकृति के व्यक्ति को गर्मी और बसंत में पार्टनर के साथ नंगा होकर सोने में कोई

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी