सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

SHIVAKSHAR PACHAN CHURNA। HINGWASHTAK CHURNA । शिवाक्षर पाचन चूर्ण,। हिंग्वाष्टक चूर्ण,

शिवाक्षर पाचन चूर्ण (SHIVAKSAR PACHAN CHURNA) :::



घट़क (content):::

सौंठ (Zingiber officinale).

हींग ( ferula foetida).

कालीमिर्च (piper nigrum).

अजमोद (Apium graveolans).

कालाजीरा (carum carvi).

जीरा (cuminum cyminum).

सेंधा नमक (Sodii choloridum).

पीपली (piper longum).

शोधित हरड़ (Terminalia chebula).

सज्जीखार

उपयोग ( indication) :::


यह चूर्ण पाचक,अग्निवर्धक और यकृत (liver) को शक्ति प्रदान करता हैं.

कब्ज, उल्टी में.

आंतों में सूक्ष्म कृमि होनें पर इससे तत्काल लाभ मिलता हैं.

पेट में गैस होनें पर,एसीडीटी में इसका विशेष उपयोग हैं.


मात्रा :::

वैघकीय परामर्श से.


हिंग्वाष्टक चूर्ण (hinwasthak churna) :::


हिंग्वाष्टक चूर्ण के बारें में भैषज्य रत्नावली में वर्णन हैं,कि,

त्रिकटुकमजमोदां सैन्धवं जीरकं द्धे,समधरणघृतानामष्टमों हिंगु भाग :|प्रथमकवलभुक्तं सर्पिषा चूर्णमेत |ज्जनयति जठराग्निं वातरोगाश्च हन्ति ||

हिंग के गुण के बारें में लिखा गया हैं,कि

हिंग्गूष्णमं पाचनं रूच्यं तीक्ष्णं वातवलासनुत |शूलगुल्मोदरानहकृमिघ्नं पित्तवर्द्धनम् ||

घट़क (content) :::


सौंठ (Zingiber officinale).

कालीमिर्च (piper nigrum).

पीपली (piper longum).

जीरा (cuminum cyminum).

कालाजीरा (carum carvi).

अजमोदा (Apium graveolans).

सैंधा नमक (sodii choloridum).

हींग (ferula foetida).

उपयोग (indication) :::


पाचन.

एसीडीटी.

ह्रदय रोग

यदि भोजन के तुरन्त बाद दस्त के लियें जाना पड़ता हैं,तो यह औषधि बहुत लाभकारी हैं.

इसके अलावा पेट में भारीपन हो मुहँ का स्वाद कड़वा हो तो इसे छाछ या दही के साथ सेवन करवानें से विशेष लाभ मिलता हैं.

० वात रोगों में त्रिफला चूर्ण के साथ मिलाकर सेवन करवाते हैं.यह नुस्ख़ा उच्च रक्तचाप में आराम दिलाता हैं.

० हिंग्वाष्टक के नियमित सेवन से लिवर स्वस्थ रहता है ।

० जिन लोगों को भूख नहीं लगती उन लोगों के लिए हिंग्वाष्टक बहुत लाभदायक होता हैं ।

मात्रा :::

वैघकीय परामर्श से.

० नीम के औषधीय उपयोग





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह