सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

SHIVAKSHAR PACHAN CHURNA। HINGWASHTAK CHURNA । शिवाक्षर पाचन चूर्ण,। हिंग्वाष्टक चूर्ण,

शिवाक्षर पाचन चूर्ण (SHIVAKSAR PACHAN CHURNA) :::



घट़क (content):::

सौंठ (Zingiber officinale).

हींग ( ferula foetida).

कालीमिर्च (piper nigrum).

अजमोद (Apium graveolans).

कालाजीरा (carum carvi).

जीरा (cuminum cyminum).

सेंधा नमक (Sodii choloridum).

पीपली (piper longum).

शोधित हरड़ (Terminalia chebula).

सज्जीखार

उपयोग ( indication) :::


यह चूर्ण पाचक,अग्निवर्धक और यकृत (liver) को शक्ति प्रदान करता हैं.

कब्ज, उल्टी में.

आंतों में सूक्ष्म कृमि होनें पर इससे तत्काल लाभ मिलता हैं.

पेट में गैस होनें पर,एसीडीटी में इसका विशेष उपयोग हैं.


मात्रा :::

वैघकीय परामर्श से.


हिंग्वाष्टक चूर्ण (hinwasthak churna) :::


हिंग्वाष्टक चूर्ण के बारें में भैषज्य रत्नावली में वर्णन हैं,कि,

त्रिकटुकमजमोदां सैन्धवं जीरकं द्धे,समधरणघृतानामष्टमों हिंगु भाग :|प्रथमकवलभुक्तं सर्पिषा चूर्णमेत |ज्जनयति जठराग्निं वातरोगाश्च हन्ति ||

हिंग के गुण के बारें में लिखा गया हैं,कि

हिंग्गूष्णमं पाचनं रूच्यं तीक्ष्णं वातवलासनुत |शूलगुल्मोदरानहकृमिघ्नं पित्तवर्द्धनम् ||

घट़क (content) :::


सौंठ (Zingiber officinale).

कालीमिर्च (piper nigrum).

पीपली (piper longum).

जीरा (cuminum cyminum).

कालाजीरा (carum carvi).

अजमोदा (Apium graveolans).

सैंधा नमक (sodii choloridum).

हींग (ferula foetida).

उपयोग (indication) :::


पाचन.

एसीडीटी.

ह्रदय रोग

यदि भोजन के तुरन्त बाद दस्त के लियें जाना पड़ता हैं,तो यह औषधि बहुत लाभकारी हैं.

इसके अलावा पेट में भारीपन हो मुहँ का स्वाद कड़वा हो तो इसे छाछ या दही के साथ सेवन करवानें से विशेष लाभ मिलता हैं.

० वात रोगों में त्रिफला चूर्ण के साथ मिलाकर सेवन करवाते हैं.यह नुस्ख़ा उच्च रक्तचाप में आराम दिलाता हैं.

० हिंग्वाष्टक के नियमित सेवन से लिवर स्वस्थ रहता है ।

० जिन लोगों को भूख नहीं लगती उन लोगों के लिए हिंग्वाष्टक बहुत लाभदायक होता हैं ।

मात्रा :::

वैघकीय परामर्श से.

० नीम के औषधीय उपयोग





टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट