सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आत्महत्या व्यक्तित्व का गंभीर नकारात्मक पहलू

आत्महत्या (suicide) व्यक्तित्व का ऐसा नकारात्मक पहलू हैं,जो विश्व के प्रत्येक राष्ट्र में घट़ित हो रहा हैं.चाहे राष्ट्र विकसित हो,विकासशील हो,या अल्पविकसित हो.

लोग हर परिस्थितियों में अपनें को मौत के आगोश में धकेल रहे हैं,चाहें बीमारी हो,असफलता हो,तनाव हो,अकेलापन हो,सम्मान की हानि हो,बेरोज़गारी हो, अत्यधिक खुशी हो, सफलता का अत्यधिक नशा हो कहनें का तात्पर्य यही हैं,कि लोग हर परिस्थिति में आत्महत्या करतें हैं.

लेकिन क्या इन आत्महत्याओं को रोका जा सकता हैं.बेशक रोका जा सकता हैं.जीनें की चाह हर प्राणी में होती हैं.कोई शिशु या अबोध बालक आत्महत्या नहीं करता हैं,आत्महत्या करनें वाला इसके परिणाम के प्रति पूर्व परिचित होता हैं.

तो व्यक्तित्व में ऐसा क्या परिवर्तन किया जावें कि आत्महत्या का विचार त्याग दे,कुछ सुझाव निम्न हैं :::


० जीवन अनमोल हैं :::


आत्महत्या करनें वाला व्यक्ति जीवन को सबसे बड़ा बोझ मानकर इसे समाप्त करनें को तत्पर रहता हैं,लेकिन यदि हम उस व्यक्ति को कुछ बातें समझानें में कामयाब हो गये तो निश्चित रूप से उसे जीवन का निहितार्थ समझ में आ जावेगा जैसे सुख हैं तो दुख हैं,दिन हैं तो रात भी हैं यानि हर चीज के दो पहलू हैं और प्रत्येक मनुष्य के जीवन में ये दो पहलू घट़ित होतें हैं. प्रसिद्ध दार्शनिक खलिल जीब्रान का एक कथन बहुत प्रसिद्ध हैं,कि 

जबसे मैनें देखा हैं,कि महलों के गद्दों पर सोनें वालों के सपनें नंगी ज़मीन पर सोनें वालों से जुदा नहीं होतें तब से मुझे न्याय प्रभु के प्रति असीम श्रद्धा पैदा हो गई


सही बात है इस दुनिया में रहनें वाले प्रत्येक प्राणी चाहें राजा हो या रंक हर समय सुखी नहीं रह सकता कभी न कभी परिस्थितियाँ विपरीत जाती ही हैं,और यदि वह हर समय सुखी रहता हैं,उसके जीवन में दुख आता ही नहीं हैं,तो निश्चित रूप से वह मानव नहीं देवता तुल्य हैं,जो कि मेरे हिसाब से प्रथ्वी पर तो नही रहता हैं.


० उपेक्षा के भावों को नजरंदाज करें :::



कई शोधों के पश्चात यह बात साबित हुई हैं,कि यदि व्यक्ति अपनें आपको उपेक्षित महसूस करता हैं,तो उसमें हीन भावना घर कर जाती हैं.


यह हीन भावना जब चर्मोत्कर्ष पर होती हैं,तो व्यक्ति आत्महत्या की ओर उन्मुख हो जाता हैं.


किसी भी व्यक्ति में यह लक्षण दिखनें पर उसका हर पल ख़्याल रखा जाना चाहियें .उसे हर समय यह अहसास दिलाये की उसकी इस दुनिया में बहुत आवश्यकता हैं.


आत्महत्या करनें की अन्य वज़ह यदि देखे तो वो भी काफी मामूली सी प्रतीत होती हैं,उदाहरण के लिये असफ़लता,नशा,गरीबी,बीमारीऔर टूटते रिश्ते.


इस प्रकार की आत्महत्या की दर युवाओं में सबसे ज्यादा देखी जाती हैं.विशेषकर 15 से 35 साल के युवा जो कि बिना सोचें समझे तुरंत ही घातक कदम उठातें हैं.


० आनलाइन गेम्स :::



आजकल आत्महत्या की नई प्रवृत्तियों का जन्म बहुत तेजी से हो रहा हैं.आत्महत्या की इस प्रवृत्ति में एक खेल के माध्यम से कुछ स्तर पूरे करनें को कहा जाता हैं.इन स्तरों में बहुमंजिला इमारतों से कूदने को कहा जाता हैं.इसी प्रकार का एक आनलाइन गेम ब्ल्यू व्हेल(Blue whales) हैं.



इस गेम के द्धारा आत्महत्या करनें वालों में बच्चों एँव किशोरों की अधिक तादात देखी जा रही हैं.


आनलाइन गेम को यदि कड़ी सेंसर प्रणाली अपना कर आमजनों के लिये प्रसारित किया जावें,तो इस प्रकार की आत्महत्या की कोशिशों पर अंकुश लग सकती हैं,इसके अलावा स्कूलों,अभिभावको को भी बच्चों पर निगरानी रखना चाहियें.


० आत्महत्या समस्या का समाधान नहीं :::



क्या कोई समस्याग्रस्त व्यक्ति आत्महत्या करके समस्या का हल कर देता हैं कदापि नहीं  अनेक अविष्कारकों ने अपनें अनुभवों के आधार पर बताया हैं,कि उन्हें भी आत्महत्या का ख्याल आया हैं,किन्तु यह ख्याल तब ज्यादा परेशान करता हैं,जब वे किसी नयें आविष्कार के सबसे करीब होतें हैं.


यानि आत्महत्या करनें वाला व्यक्ति इस तथ्य को जान ले कि वह समस्या के समाधान के सबसे करीब हैं,तो शायद समाज को एक समस्या का समाधान मिल जावें और उसके अनुभवों का लाभ भी.प्रसिद्ध आविष्कारक थामस एल्वा एड़िसिन कहा करते थे कि 

आविष्कार करनें के दोरान यदि मैं निन्नानवें बार असफ़ल होता हूँ तो मुझे इसमें परेशानी नहीं बल्कि संतोष ही मिलता हैं,कि निन्नानवें वे तरीकें हैं जिससे मुझे सफ़लता नहीं मिलगी.


 किसी ने कहा भी हैं,कि मन चंगा तो कठोती में गंगा भावार्थ यही हैं कि मन को इतना मज़बूत बनाओं कि समस्यायें बोनी नज़र आनी लगे .अन्त में एक और उद्धरण के साथ अपनी बात को विराम दूँगा कि


गिरतें हैं सहसवार ही मैंदानें जँग में वो क्या खा़क गिरेंगें जो घुट़नों के बल चलें.





० शास्त्रों में लिखे तेल के फायदे

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट