सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

इंजेक्शन मोनोसेफ - उपयोग, साइड-इफेक्ट

 एंटीबायोटिक इंजेक्शन मोनोसेफ एक Broad spectrum एंटीबायोटिक हैं जिसमें मौजूद दवा का नाम Ceftriaxone हैं। Ceftriaxone इंडियन फार्मोकोपिया की मेडिसिन हैं। 


मोनोसेफ ग्राम पाज़िटिव और ग्राम नेगेटिव बेक्टेरियल इन्फेक्शन के विरुद्ध प्रभावी कार्य करता हैं। 


आईए जानतें हैं ग्राम पाज़िटिव और ग्राम नेगेटिव उन बेक्टेरिया के बारें में जिन पर मोनोसेफ प्रभावी साबित होता हैं।


ग्राम पाज़िटिव बेक्टेरिया Gram positive Bacteria


1.स्टेफायलोकस आरिअस Staphylococcus aureus


2.स्टेफायलोकस एपिडर्मिडिस, Staphylococcus epidermidis


3.स्ट्रैप्टोकोकस न्यूमोनी streptococcus pneumoniae


4.स्ट्रैप्टोकोकस पायोजिनस, Streptococcus pyogenes


5.विरीदान समूह के स्ट्रेप्टोकोकोई


6.स्ट्रैप्टोकोकस एगालाक्टी, Streptococcus agalactiae
मोनोसेफ इंजेक्शन 1 ग्राम


ग्राम नेगेटिव बेक्टेरिया Gram negative Bacteria


1.एसिनिटोबेक्टर केल्कोएसिटीकस,Acinetobacter Calcoaceticus


2.एंटीरोबेक्टर एरोजिनस,Enterobacter aerogenes


3.एंटीरोबेक्टर क्लोसिए, Enterobacter Cloacae


4.इश्चिरिया कोलाई , Escherichia Coli


5.हेमोफिलस इन्फ्लुएन्जा,Haemophilis influenzae


6.हेमोफिलस पैरा इन्फ्लुएन्जा, Haemophilis parainfluenzae


7.क्लैबसिला आक्सीटोका,Klebsiella oxytoca


8.क्लैबसिला न्यूमोनिया


9.मोराक्सिला केटरिस


10.मोरगानिला मोरगनी


11.नेसेरिया गोनोरिया 


12.नेसेरिया मेनेन्जाइटिस Neisseria meningitis


13.प्रोटस मीराबिल्स, Proteus mirabills


14.प्रोटस वल्गरिस‌, Proteus vulgaris


15.स्यूडोमोनास एरूगिनोसा,Pseudomonas aeruginosa


16.सेराटिया मार्सीसिन्स Serratia marcescens


17.सिट्रोबेक्टर डायवरसस,Citrobacter diversus


18.सिट्रोबेक्टर फ्रेंडी Citrobacter freundil


19.प्रोविडेंसीया स्पेशीज ,Providencia speciies


20.सालमोनेला स्पेशीज, Salmonella species 


21.सालमोनेला टाइफी , Salmonella typhi


एनारोबिक बेक्टेरिया Anaerobic Bacteria



1.बेक्टेराइड्स फ्रेजिल्स Bacteroides fragills



2.क्लोस्ट्रोडियम स्पेशीज, Clostridium Speccies


3.पेप्टोस्ट्रेप्टोकोकस स्पेशीज ,Peptostreptococcus species


3.प्रिवोटेला बाइवियस Prevotella biivius 

4.पोरफिरोमोनस मेलेनीनोजेनिकस,Porphyromonas melaninogenicus

मोनोसेफ इंजेक्शन कितने मिलीग्राम में आता हैं


1.मोनोसेफ इंजेक्शन 125 mg with sterile water

2.मोनोसेफ इंजेक्शन 250 mg with sterile water

3.मोनोसेफ इंजेक्शन 500 mg with sterile water

4.मोनोसेफ इंजेक्शन 1 gram with sterile water

5.मोनोसेफ इंजेक्शन 2 gram with sterile water


मोनोसेफ इंजेक्शन साइड-इफेक्ट


1.इंजेक्शन लगने वाली जगह पर दर्द,सूजन और खुजली होना

2.इंजेक्शन के बाद उल्टी आना

3.चक्कर आना

4.घबराहट होना


Monocef injection route of administration


Intramuscular or slow intravenous


यह भी पढ़ें 👇👇👇

वायरस और बैक्टीरिया में अंतर

मिफ्रिस्टोल गोली के उपयोग

•निपाह वायरस के लक्षण

• Ayurvedic medicine


Reviewed by
Dr.N.Nagar
MBBS,MD






टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी