सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर [Neuro Endocrine Tumour] #

tumour
 
न्यूरों एंड़ोक्राइन ट्यूमर (Neuro Endocrine Tumour) एक प्रकार का ट्यूमर हैं.

यह ट्यूमर मनुष्य की उन अंत:स्त्रावी ग्रंथी में होता हैं,जिनका कार्य हार्मोंन उत्पादन करना और उस हार्मोंन को रक्त के माध्यम से शरीर के दूसरें भागों में पहुँचाना होता हैं.

# यह ट्यूमर शरीर के किन हिस्सों को प्रभावित करता हैं ?

यह ट्यूमर शरीर के हार्मोंन उत्पादित करनें करनें वाली अंतस्त्रावी ग्रंथियों जैसें पेट,आंत ,फेफड़ें,मस्तिष्क आदि की कोशिकाओं में पैदा होता हैं.

# न्यूरो एंडोक्राइन कितनें प्रकार का होता हैं?


न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर 3 प्रकार के होतें हैं :::


#१.फियोक्रोमा साइटोमा (Fiocroma Cytoma)


#२.मर्केल सेल (Merkel Cell)


#३.न्यूरो एंड़ोक्राइन कार्सिनोमा (Neuro Endocrine Carcinoma)


# क्या यह जानलेवा बीमारी हैं ?


यह ट्यूमर जानलेवा भी हो सकता हैं और नहीं भी हो सकता हैं.चिकित्सक परीक्षण उपरांत ही यह बता सकतें हैं कि संबधित ट्यूमर बिनाइन ( जो ट्यूमर बिना किसी वृद्धि के शरीर में पड़ा रहता हैं) हैं या मैलिंग्नेट ( जो लगातार वृद्धि कर शरीर के दूसरें अंगों तक फैल जाता हैं और प्रा्णघातक होता हैं) जानलेवा हैं या नहीं.


# न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर किसे हो सकता हैं?

इस कैंसर के होनें का स्पष्ट़ कारण अभी तक चिकित्सा विज्ञानियों को  नही पता हैं.किंतु कुछ ऐसे केस  सामनें आये हैं जिनसें पता लगता हैं,कि किसे यह कैंसर किसे हो सकता हैं जैसें --

#१.न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर का पारिवारिक इतिहास यानि आनुवांशिकता इस बीमारी के होनें के लियें जिम्मेदार मानी जाती हैं.

#२.यह देखा जा रहा हैं,कि यह ट्यूमर महिलाओं की अपेक्षा पुरूषों को अधिक प्रभावित करता हैं.ऐसा शायद इसलिये होता होगा क्योंकि कि पुरूषों में हार्मोंनल सक्रियता महिलाओं से ज्यादा होती हैं.

#३.40 से 60 वर्ष के पुरूष इस बीमारी से सर्वाधिक प्रभावित होतें हैं.

#४.अनियमित जीवनशैली भी न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर पैदा होनें के सर्वप्रमुख कारणों में से एक हैं.

# न्यूरो एंडोक्राइन ट्यूमर के लक्षण


न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर के लक्षण अन्य ट्यूमर जनित बीमारीयों के समान ही होतें हैं जैसें :::

#१.दिमाग में होनें पर चक्कर आना,उल्टी होना आदि

#२.पेट़ में होनें पर कब्ज, भूख नही लगना आदि.

#३.आंतों में होनें पर पेटदर्द,मरोड़ आदि लक्षण

#४.फेफडों में होनें पर खाँसी होना,बलगम बनना,फेफडों में जकड़न आदि लक्षण

ये वह लक्षण हैं जो सामान्य चिकित्सतकीय उपचार के बाद भी लम्बें समय से ठीक नहीं हो रहें हो.

● 33 रोगों पर प्रभावी कैप्सूल

● भृष्टाचार के बारें में जानें

# न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर के लिये परीक्षण 


न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर के लिये 'क्रोमोग्राफिन ऐसे ' ( Cromografin esse) और 'क्रोमेटिन टेस्ट'(Crometine Test)किया जाता हैं.

इस टेस्ट से ही पता चलता हैं,कि ट्यूमर प्रथम अवस्था में हैं ,द्धितीय अवस्था में हैं,या फिर तृतीय अवस्था में हैं.

# न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर का उपचार


न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर का इलाज कैंसर की अवस्था के आधार पर किया जाता हैं,यदि ट्यूमर बिनाइल प्रकार का हैं,तो सामान्य सर्जरी या दवाईयों से ठीक किया जा सकता हैं.

यदि ट्यूमर मैलिग्नेंट़ प्रकार का हैं,तो इस की अवस्था के आधार पर विशेषज्ञ निर्णय लेतें हैं,कि रेड़ियेशन थैरपी देना हैं,किमोंथेरेपी देना हैं,या विशिष्ट़ सर्जरी करना हैं.

# न्यूरो एंड़ोक्राइन ट्यूमर होनें पर क्या करें क्या न करें 


१.कोई भी बीमारी चाहें वह कितनी भी जट़िल क्यों न हो मनुष्य के साहस से बड़ी नही हो सकती अत: बीमारी से लड़नें का साहस सदैव बनायें रखें.

२.समय पर दवाईयों की खुराक ज़रूर लें.

३.डाँक्टर ने जब - जब परीक्षण के लिये बुलाया हैं तब अवश्य करके जायें.

४.डाँक्टर और डायटिशियन द्धारा दी गई प्रत्येक सलाह की पालना अवश्य करें.

५.लगातार बीमारी के बारें में चिंतित  होनें की बजाय धार्मिक और आध्यात्म की ओर ध्यान केंद्रित करें.इससे इच्छाशक्ति मज़बूत बनती हैं.

६.बीमारी समाप्त होनें के बाद भी डाँक्टर की सलाह पर होनें वालें समयावधि परीक्षण अवश्य करवायें.

७.काम से छुट्टी लेनें की बजाय चिकित्सतकीय सलाह से अपनें व्यावसायिक कार्यों को करतें रहें इस दोरान जरूरी दवाईंया साथ में रखें.


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह