सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अनियमित धड़कन यानि अरिदमिया (Arrhythmia) को बिना चिकित्सकीय जाँच के कैसे पहचाना जा सकता हैं


अरिदमिया(Arrhythmia) ह्रदय से जुड़ी समस्या हैं. हमारा ह्रदय औसतन रूप से एक मिनिट में 50 से 85 बार धड़कता हैं।

जब ह्रदय की  धड़कन heart  ki dhadkan इस स्तर से कम या ज्यादा होती हैं,तो व्यक्ति अरिदमिया से ग्रसित हो जाता हैं.जब ह्रदय की धड़कन 50 बीट्स प्रति मिनिट से कम होती हैं,तो यह अवस्था BradyArrhythmias कहलातीहैं. इसकेविपरीत  100 बीट्स प्रति मिनिट से अधिक होनें पर यह TachyArrhythmias कहलाती हैं.
सम्पूर्ण विश्व में ह्रदय से जुड़ी यह सबसे आम समस्या हैं,जो लगातार बढ़ती जा रही हैं.

० अरिदमिया के लक्षण ::


• धड़कनों का तेज या धीमा होना.

• ह्रदय की माँसपेशियों में खिंचाव या फड़फड़ाहट

• सिर में भारी या हल्कापन

• बेहोशी

• चक्कर

० अरिदमिया के कारण ::


इस बीमारी में धड़कनों को नियमित करनें वाले विधुतीय आवेग ठीक प्रकार से अपना काम नही करते हैं,ये समस्या निम्न कारणों से हो सकती हैं

• ह्रदय की धमनियों में कोलेस्ट्राल का जमाव होना जिससे धमनिया ब्लाक हो गई हो.

• उच्च रक्तचाप की समस्या होनें पर

• पेसमेकर लगा होनें पर

• मोबाइल रेडियेशन की वजह से

• हाइपर या हाइपोथाइराइडिज्म

• तनाव होनें पर

• शराब का अत्यधिक सेवन

• तम्बाकू का धूम्रपान,गुट़खा आदि किसी भी रूप में सेवन

• कार्ड़ियोमायोपेथी की समस्या होनें पर

• ह्रदय की बनावट में बदलाव होनें पर

• पूर्व में ह्रदय संबधित कोई आपरेशन होनें पर

• कुछ विशेष प्रकार की दवाईयों जैस गर्भनिरोधक सेली या इंजेक्सन के प्रयोग से

• अत्यधिक मोटापे की वजह से

० प्रबंधन ::


अरिदमिया की समस्या को जीवनशैली को नियमित कर काबू पाया जा सकता हैं जिसमें शामिल हैं :::-

१.योगाभ्यास जिसमें साँसो को नियंत्रित किया जाता हो.

२.ह्रदय को मज़बूत करनें वाले योग जैसे अनुलोम विलोम ,कपालभाँति किये जानें चाहियें.

३.ह्रदय को पोषण प्रदान करनें वाले आहार जैसे सूखे मेवे,दही,सलाद,ग्रीन टी,केला,अनार, आदि का सेवन करना चाहियें.

४. तेरना इस रोग में बहुत फायदा पहुँचाता हैं.परन्तु इसके लिये चिकित्सक की सलाह आवश्यक हैं.

५.अंकुरित अनाज दालो का सेवन करें.

० अरिदमिया में क्या सावधानियां रखें


• आरामदायक जीवनशैली की बजाय सक्रिय जीवनशैली रखे.

• धूम्रपान,तम्बाकू का सेवन नही करे.

• वसायुक्त पदार्थों,मैदायुक्त पदार्थों एँव जंक फूड़ से बचें.
• तनाव से बचें

• चालीस वर्ष की उम्र पश्चात नियमित रूप से ह्रदय की जाँच करायें.

० गिलोय के फायदे


० पलाश वृक्ष के औषधीय गुण


ह्रदय से संबंधित कुछ अन्य बीमारी

1.कार्डियोमायोपैथी 


कार्डियोमायोपैथी में ह्रदय की मांसपेशियां कमज़ोर हो जाती हैं और इसके कारण ह्रदय कम मात्रा में खून पंप करता हैं ।इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को थोड़ी दूर चलने चलने पर थकान होती हैं और चक्कर आते हैं ।

2.वेस्कुलर डिजीज 


यह ह्रदय से संबंधित बीमारी है जो बड़ों के साथ बच्चों में भी होती हैं । इस बीमारी में ह्रदय में स्थित छोटी छोटी रक्त वाहिनियां सूज जाती हैं जिससे ये चोडी हो जाती हैं । जिससे ह्रदय की धड़कन असामान्य हों जाती हैं ।

3.एओटा डिजीज

यह ह्रदय में स्थित महाधमनी है जो सभी अंगों तक खून पंहुचाती है । इस धमनी के फैलने या फटने पर मरीज की जान जा सकती हैं ।

4.हार्ट वाल्व डिजीज

ह्रदय के वाल्व जब संक्रमण की वजह से सिकुड़ने में सक्षम नहीं होते हैं तो हार्ट फैल होने की संभावना होती हैं ।

5.कोरोनरी हार्ट डिजीज

ह्रदय की धमनियों में जब कोलेस्ट्रॉल जमा हो जाता हैं तो चलने में,सांस भरने लगती हैं,ज्यादा पसीना आता हैं और छाती में तेज़ दर्द होता हैं ।

6.पेरीकार्डिटीस

ह्रदय के ऊपर एक झिल्ली होती हैं जब यह कठोर हो जाती हैं तो इसमें सिकुड़न और फैलाव बंद हो जाता हैं ।और व्यक्ति की सांस बैठे बैठे फूलती है ।

7.हार्ट फैल्योर


इस बीमारी में हार्ट अचानक बंद हो जाता हैं। पैरों में सूजन,पीठ के बल सोने में और सांस लेने में दिक्कत होती हैं , ह्रदय में अचानक तेज दर्द होता हैं । 












टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी