सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बाघ बचाये जंगल [The tiger save forest]

Indian Tiger
 बाघ (Tiger)
एक बच्चा मुझसे प्रश्न पूछता है.सर,क्या मैं अपनें "मन की बात" पूँछू ? मैनें कहा पूछों उसनें शुरू किया दुनिया के बड़े - बड़े देश,कई अन्तर्राष्ट्रीय संगठन जैसें विश्व पर्यावरण संगठन ,पेटा आदि बाघ को क्यों बचा रहें हैं ?

 मैनें कहा क्योंकि वह विलुप्त हो रहा हैं.

उसनें फिर प्रश्न दागा तो उसको बचानें में हमारा क्या फायदा ? इतना सारा पैसा कही और लगातें तो शायद कई लोगो के लिये अच्छे घर ,भरपेट़ भोजन की व्यवस्था की जा सकती थी ? बाघ तो मजे से जंगल में रहकर शिकार करता हैं,और आराम करता हैं ?

मैनें बच्चें के बालमन को विस्तारपूर्वक उत्तर देने के लिये उसे अपनें पास बिठाया और फिर समझाना शुरू किया.

"जानतें हो जब 18 वीं शताब्दी में विश्व में लगभग 50,000 हजार बाघ थें.तब धरती के 50% भाग में घनें जंगल थें.और आज 21 वी सदी में जबकि विश्व में 3900 के करीब बाघ हैं,धरती पर मात्र 14% ही जंगल बचे हैं,जबकि पर्यावरण संतुलन के दृष्टिकोण से सम्पूर्ण धरती के 33% भाग पर जंगल होना चाहियें." 

भारत में बाघों का क्षेत्र संकुचित हो रहा है देश के दो राज्यों मध्यप्रदेश और कर्नाटक में ही देश की कुल बाघ आबादी का 35.8 प्रतिशत बाघ रहते हैं हैं बाकि के 64.2 प्रतिशत बाघ देश के बाकि के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में मौजूद हैं। 

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के अनुसार हर साल औसतन 56 बाघ मर जाते हैं इनमें से अधिकांश बाघों की मौत का कारण अप्राकृतिक रहता है जबकि देश में सिर्फ बाघ संरक्षण पर ही सन् 2014 से अब तक करीब 1000 करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं।



बाघ (Tiger) मांसाहारी जन्तु हैं,जो अपनें पेट़ की आग शिकार करके ही बुझाता हैं,चाहे मांस किसी प्राणी का हो या फिर जन्तु का .ऐसी अवस्था में कोई भी प्राणी बाघ के आसपास भी फटकना पसंद नही करता फलस्वरूप बाघ के रहवास स्थल मानवीय हस्तक्षेप से दूर ही रहतें हैं.

यँहा पैड़-पौधों को फलनें फूलनें का पर्याप्त अवसर मिलता हैं.ये घनें पेड़ हमें बहुत अधिक मात्रा में जीवनदायी आक्सीजन उपलब्ध कराकर प्रथ्वी पर जीवन सरल बनातें हैं.

घनें जंगल वर्षादायी बादलों को अपनी और खींचकर धरती पर बारिश करवाते हैं.जो मानव की मूलभूत आवश्यकता हैं,क्योंकि पानी बीना सब सून
यही पेड़ धरती को अपनी जड़ों से बांधकर रखते हैं,जिससे कि मिट्टी का कटाव नही होता और धरती बंजर होनें से बची रहती हैं.

बाघों की एक और विशेषता उन्हें पर्यावरण मित्र बनाती हैं और वह यह कि बाघ  झुंड़ की अपेक्षा अकेला रहना पसंद करतें हैं.ये अपना एक बड़ा क्षेत्र बनाकर उसमें घूमता रहता हैं.जिसे टाइगर टेरेटरी कहते हैं।

 किसी एक टाइगर टेरेटरी में रहने वाले बाघ को अपनी टेरेटरी में दूसरे बाघ का हस्तक्षेप स्वीकार नही होता और दूसरा बाघ ऐसा करता है तो दोनों बाघों में संघर्ष होता हैं। अतः सामान्य रूप से बाघ संघर्ष से बचने के लिए अपनी अपनी टेरेटरी में ही रहना पसंद करते हैं।

एक बड़ी टाइगर टेरेटरी  में एक बाघ,दूसरी बड़ी टाइगर टेरेटरी में दूसरा बाघ इसका मतलब एक विशाल घना जंगल जो पारिस्थिक संतुलन बनाकर प्रथ्वी को जीवन के अनूकूल बनाता हैं.

तो दोस्तों है ना बाघ (Tiger) पर्यावरण मित्र और जंगल को बचाने वाला  पशु आपके विचार ज़रूर बताइएगा.




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह