Healthy lifestyle news सामाजिक स्वास्थ्य मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक स्वास्थ्य उन्नत करते लेखों की श्रृंखला हैं। Healthy lifestyle blog का यही उद्देश्य है व्यक्ति healthy lifestyle at home जी सकें

29 अग॰ 2016

संतरा खानें के फायदे। Benefit of orange

संतरा खानें के फायदे,Benefit of orange



नारंगी, संतरा खानें के फायदे orange (संतरा)
                     

###परिचय :::


संतरा विश्व में हर जगह पाया जानें वाला फल हैं. यह निम्बू वर्ग का फल हैं.उष्णकटिबंधीय जलवायु में इसका उत्पादन अधिक होता हैं,और गुणवत्ता भी उच्चकोटि की होती हैं.संतरा को "गोल्ड़न एप्पल " (Golden Apple) भी कहा जाता हैं.


आयुर्वेद अनुसार संतरा की प्रकृति :::


आयुर्वेद में संतरें को शीत (cold) प्रकृति वाला माना गया हैं.कच्चा संतरा स्वाद में खट्टा जबकि पूर्ण रूप से पका हुआ फल खट्टा मीठा स्वाद का होता हैं.इसके छिलके से लेकर फल ,पत्तियाँ औषधि गुणों से परिपूर्ण होती हैं.

संतरा में पाए जाने वाले पौषक तत्व 


  कार्बोहाइड्रेट.       शुगर.           फायबर.     11.54gm.    9.15gm.       2.4 gm



       वसा .           प्रोटीन.         थायमीन.

        0.21gm.              0.70gm.                     0.100mg.



राइबोफ्लोविन.नायसिन.पैंटोथेनिकअम्ल

0.250mg.     0.400mg.   0.040 mg



 विटामिन.           फोलेट.          कैल्सियम            0.51 mg           17 mg.        43mg. 


आयरन.          मैग्निशियम.    फाँस्फोरस. 

0.08mg.          10mg.         12 mg.  


पोटेशियम.         जिंक.             एनर्जी 

169 mg.                   0.08mg.                        50 kcal

                                              (प्रति 100 gm)

संतरा के फायदे


#थकान एँव तनाव में :::



संतरें में उपस्थित फ्रक्टोज़ और डेक्स्ट्रोज शरीर में पँहुचते ही तुरन्त ऊर्जा प्रदान करने लग जाते हैं, जिससे मानसिक तनाव और थकावट दूर होकर मन को शीतलता मिलती हैं.इसके अलावा संतरे के छिलके मसलकर सूँघनें से मानसिक तनाव छूू मंतर हो जाता हैं.इसका गहरा नारंगी रंग असीम शांति का प्रतीक हैं.

#पेचिस (Dysentery) में :::


यदि किसी को पेचिस की शिकायत हो तो संतरे के रस में समान मात्रा में बकरी का दूध मिलाकर देनें से तुरन्त आराम मिलता हैं.



#अर्श (piles) में :::



लगातार संतरे का नियमित रूप से सेवन करनें से अर्श रोग में आराम मिलता हैं,क्योंकि इसमें उपस्थित फायबर आँतों की सफाई कर कब्ज को समाप्त कर देता हैं.



#बुखार (fever) में :::



यदि तेज़ बुखार हो तो संतरे का रस बना कर पीला दें,तुरन्त शरीर का तापमान कम हो जाता हैं.साथ ही इसके रस को पीनें से बुखार में होनें वाला मुँह का फीकापन और कड़वापन दूर होता हैं.



#ह्रदय रोगों (heart Disease) में :::


संतरा ह्रदय का टानिक हैं,इसके रस को शहद के साथ मिलाकर पीनें से धमनियाँ साफ हो जाती हैं और कोलेस्ट्राल नहीं जमा होता हैं.



#किड़नी (kidney) रोगों में :::


इसमें उपस्थित साइट्रिक एसिड़ किड़नी में उपस्थित विषैलें पदार्थों को शरीर से बाहर निकालकर किड़नी को होनें वाली क्षति से बचाता हैं.तथा रोगग्रस्त किड़नी को स्वस्थ बनानें में मदद करता हैं.


###दाँतो की समस्याओं में :::


संतरे में पर्याप्त मात्रा में विटामिन c पाया जाता हैं,जो पायरिया को समाप्त करता हैं. इसके छिलकों को सुखाकर इसे चूर्ण बना लें इसमें नमक,लौंग चूर्ण, और थोड़ी सी फिट़करी मिला लें इस मंजन से दाँतों में कीड़ा नहीं लगता हैं,दाँत चमकदार बनकर साँसों की बदबू नष्ट हो जाती हैं.


#कुपोषण (malnutrition) में :::



जिन बच्चों में कुपोषण की शिकायत हो उन्हें रोज़ संतरे का रस पीलाना चाहियें.क्योंकि इसमें उपस्थित पोषक तत्व हड्डीयों को मज़बूत बनाकर शारिरीक संरचना को दृढ़ करतें हैं.



###उच्च रक्तचाप (high blood pressure) में :::



इसमें उपस्थित मैग्निशियम और पोटेशियम रक्तचाप को नियंत्रित करता हैं.इसके लिये रोज़ दोपहर में इसका सेवन करना चाहियें.


###गर्भवती महिलाओं के लियें :::


गर्भावस्था के शुरूआती महिनों से ही यदि स्त्री लगातार संतरें का सेवन करती रहें तो न केवल बच्चा हष्ट पुष्ट और गोरे रंग का पैदा होगा बल्कि स्त्री गर्भावस्था की सामान्य परेशानियों जैसे उल्टी,जी मचलाना,चक्कर, घबराहट आदि  से बची रह सकती हैं. संतरा में मौजूद विटामिन डी और कैल्शियम बच्चे और गर्भवती महिलाओं की हड्डियों के विकास के लिए पर्याप्त होता हैं।

###सर्दी -खाँसी  (cold cough) में :::



सर्दी -खाँसी  जैसी समस्या होनें पर संतरे के रस को गर्म कर उसमें शहद,अदरक रस,कालीमिर्च और तुलसी रस मिलाकर सेवन करें, बहुत जल्दी आराम मिलता हैं.

###सौन्दर्य प्रसाधक के रूप में :::



संतरा चमड़ी के कील मुहाँसे दूर कर चेहरा निखारता हैं.इसमें पाया जानें वाला फालेट कील - मुहाँसों के धब्बों को मिट़ाकर वहाँ नयी कोशिकाओं के बननें में मदद करता हैं.इसके लिये इसका सेवन करें तथा इसके छिलकों को सुखाकर बारिक चूर्ण बनाकर उसमें गुलाब जल मिलाकर चेहरें पर दस मिनिट तक लगाकर धो लें. संतरे के फूलों का रस बालों में लगानें से बाल घनें,काले,मुलायम,रूसी रहित और चमकदार बनतें हैं.


###मच्छरों से बचाव :::


संतरें के छिलकों को दबाकर उनका रस निकाल लें इस रस को बदन पर लगायें मच्छर नहीं काटेंगें.


#कैंसर (cancer) में :::


इसमें पाये जानें वालें anti oxidant कैंसर कोशिकाओं को पनपनें नहीं देते हैं.

#मोटापे (obesity) में :::


संतरें में नोबिलोटिन नामक तत्व पाया जाता हैं । जोकि मोटापा कम करता हैं।


इसके लियें संतरे की पत्तियों को पीसकर उनका रस निकाल लें इस रस को तीन चम्मच रोज़ गर्म पानी के साथ मिलाकर पीनें से मोटापा कम होता हैं.

### प्रतिरक्षा तंत्र में ::::


इसमें पाया जानें वाला विटामिन C शरीर में श्वेत रक्त कणिकाओं (White blood cells) का उत्पादन बढ़ाता हैं जिससे शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र (Immune system) को दुरूस्त रहता हैं.#

० धनिया के फायदे

० बरगद पेड़ के फायदे

० शहद के फायदे


कोई टिप्पणी नहीं:

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages

SoraTemplates

Best Free and Premium Blogger Templates Provider.

Buy This Template