सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गोदन्ती भस्म ,Godanti bhasma,दशांग लेप,Dashang lep,गोखरू चूर्ण, Gokhru churna,

गोदन्ती भस्म. :::

आयुर्वैदिक दवाई गोदन्ती भस्म
 गोदन्ती भस्म

घट़क (content) :::


० शोधित गोदन्ती (purified Godanti).

रोगाधिकार (indication) :::


० अग्निमांध (Agnimandh).

० सिरशूल (Headache).

० पित्त ज्वर (fever).

० जीर्ण ज्वर (jirna jwar).

० कास (cough).

० श्वास (Asthma).


मात्रा (Dosage) :::


शहद,तुलसी रस ,घी या शक्कर के साथ वैघकीय परामर्श से.

दशांग लेप चूर्ण (Dashang lep churna) :::


घट़क (content) :::



० सिरस छाल (Albizia lebbeck).

० मुलैठी (Glycyrriza glabra).

० तगर (Valerian's wallichi)

० लाल चंदन (santalum album).

० बड़ी इलायची (Elettaria cardamomum).

० जटामासी (Nardostachys jatamansi).

० दारूहल्दी (Berber is aristata).

० कूढ़ (Saussure's lappa)

रोगाधिकार (Indication) :::


० सूजन (swelling).

० दाह (burning).

० संधिवात (gout).

० तथा चमड़ी से सम्बधित अनेक रोगों में.

मात्रा (Dosage) :::



जल के साथ पकाकर प्रभावित स्थान पर लपेटे.


गोखरू चूर्ण (Gokhru churna) :::


घट़क (content) :::


० गोखरू फल.

रोगाधिकार (indication):::


० मूत्र विरेचक ( Diuretic)

० पुरूष जननेन्द्रियों से सम्बधित रोग जैसे धात जाना.

० शुक्राणु कम बनना (Sperm deficiency).

० पथरी (kidney stone).

० किड़नी संबधित अनेक रोगों में.

मात्रा :::


शहद या जल के साथ वैघकीय परामर्श से.



० पलाश वृक्ष के औषधीय गुण



० पंचनिम्ब चूर्ण



० बवासीर कारण लक्षण और प्रबंधन



० कद्दू के औषधीय उपयोग

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह