सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हँसना जीवन का सरल और महत्वपूर्ण व्यायाम Healthylifestyle,

हँसना सिर्फ मनुष्य के नसीब में हैं,क्या आपनें कभी मनुष्य के अतिरिक्त अन्य जानवर को खिलखिलाकर हँसते देखा हैं,नहीं ना लेकिन फिर भी लोग हँसनें को लेकर इतनें कंजूस दिल होतें हैं,कि यदा कदा बस थोड़ा मुस्करा देतें हैं.हँसना एक प्रकार की थेरेपी हैं,जिसे लाफ्टर थेरेपी (laughter therpy) के नाम से जाना जाता हैं.
तो आईयें दोस्तों जानतें हैं हँसने के स्वास्थगत लाभों के बारें में


:::: दिल खोलकर हँसनें से मनुष्य का सौन्दर्य निखरता हैं,क्योंकि चेहरे पर मोजूद माँसपेशियों में कसावट आकर झुर्रिया खत्म हो जाती हैं.शोधों से ये बात प्रमाणित हो चुकी हँसनें के दोरान चेहरें की लगभग सौ माँसपेशिया सक्रिय रहती हैं.


:::: कैलिफोर्निया विश्वविधालय के शोधों के अनुसार हँसनें से शरीर की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं (cells) की मरम्मत तेजी से होती हैं,जिससे कैंसर, टी.बी.जैसी बीमारीयों के उपचार के दोरान ली गई दवाईयाँ अपना असर तीव्रता से दिखाती हैं.


:::: हँसना मनुष्य की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर मनुष्य को जल्द होनें वालें बुढ़ापे से बचाता हैं.साथ ही एलर्जी, अस्थमा, एड्स जैसे रोगों में जहाँ रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती हैं में हँसना एक अच्छा व्यायाम माना जाता हैं.


:::: हँसनें से ह्रदय की माँसपेशियों में कसावट़ आती हैं,जिससे ह्रदय मज़बूत होकर कोलेस्ट्राँल को ह्रदय से बाहर निकाल देता हैं.


ह्रदय की अनियमित धड़कन के बारें में जानियें यहाँ



:::: दिनभर मात्र मुस्कराते रहनें से Antibody immunoglobulin A की मात्रा शरीर में बढ़ती हैं जो साँसो की नली में होनें वालें संक्रमण से बचाव करता हैं.


:::: हँसना हार्मोंन का स्तर संतुलित करता हैं,इसके अलावा न्यूरोपेप्टाइड़ नामक हार्मोंन जो शरीर के लिये लाभदायक होतें हैं का स्तर बढ़ जाता हैं.


:::: हँसना शरीर में आक्सीजन की आपूर्ति को बढ़ाता हैं,जो थकावट,तनाव अनिद्रा को दूर करता हैं.



:::: हँसना दर्द के अहसास को कम कर देता हैं.सौ गर्भवती महिलाओं पर किये गये अध्ययन से यह बात प्रमाणित हुई हैं कि यदि प्रसव के समय महिला खिलखिलाकर हँसे तो न केवल प्रसव सुरक्षित होता हैं,बल्कि दर्द का अहसास 75 प्रतिशत तक कम हो जाता हैं.इसके अलावा गर्भावस्था के दोरान हँसना भ्रूण के संतुलित विकास को प्रोत्साहित करता हैं.


:::: हँसनें वाले व्यक्ति के मस्तिष्क में सिरोटोनिन हार्मोंन का स्तर बढ़ जाता हैं जिससे तनाव,उदासी,बैचेनी पलभर में गायब हो जातें हैं.


:::: हँसमुख व्यक्ति का सामाजिक दायरा बहुत अधिक विस्तृत होता हैं ऐसे व्यक्ति से हरकोई पहले मिलनें का प्रयास करता हैं.



:::: एक अध्ययन के द्धारा स्पष्ट हुआ कि जिस कार्यालय का वातावरण हँसने हँसानें वाला होता हैं वहाँ की कार्य उत्पादकता भी बहुत अधिक होती हैं.



:::: हँसी संक्रामक होती हैं यदि आप हसतें हैं तो आपके समीप खड़ा व्यक्ति मुस्करायें बिना नहीं रह पायेगा.और उसका विचार आपके प्रति बहुत सकारात्मक रहेगा.



ऐसा देखा गया हैं,कि हँसमुख व्यक्ति दीर्घायु होकर गंभीर बीमारीयों से बचा रहता हैं.जो व्यक्ति हँसना और हँसाना जानता हैं,दोलत,शोहरत उसके कद़मों में होती हैं.



खिलखिलाकर हंसनें  से पेट की मांसपेशियां मज़बूत होतीी हैं
जिससेे पाचनतंत्र सुधरता हैं और कब्ज,अपच,जैसी समस्याओं में आराम मिलता हैं ।


हँसी पर कोई कर नहीं लगता इसलियें खूब हँसें और हँसायें हँसतें समय इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि किसी की मज़बूरी,लाचारी,और गरीबी का मजाक न बनाया जावें,साथ ही समय,वातावरण,परिस्थिति और मन:स्थिति का ध्यान रखें.


boy when Laughing
 Laughing boy

रक्तदान के बारें मे जानियें

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी