सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Rabies: रेबीज एक घातक रोग

 रेबीज Rabies

रेबीज (Rabies) एक संक्रामक वायरस जनित रोग हैं.जो जानवरों जैसें कुत्ता (Dog),बिल्ली (Cat), बंदर,नेवला,गाय घोड़ा आदि के द्धारा मनुष्यों में फैलता हैं. विश्व स्वास्थ संगठन (world health organisation) के मुताबिक प्रति वर्ष इस रोग से मरनें वालें लोगों में लगभग 95  प्रतिशत रोगी विकासशील और अल्पविकसित राष्ट्रों के होतें हैं.

रेबीज मुख्यतया दो प्रकार की होती हैं

1.Furious Rabies मतिभ्रम और अत्यधिक सक्रियता इस प्रकार की रेबीज की विशेषता होती हैं। रोगी पानी और हवा से डरता हैं जिसें क्रमशः हाइड्रोफोबिया और एयरोफोबिया  कहतें हैं । रेबीज के 100 मामलों में से 80 मामले इसी प्रकार के होतें हैं।

2.Paralytic Rabies लकवा और कोमा इस तरह की रेबीज की विशेषता होती हैं।


दुनिया भर में 99 प्रतिशत रेबीज कुत्तों के काटने से होती है[✓]

Rabies, रेबीज
 पागल कुत्ता


World Rabies Day 28 September 

रेबीज से रोकथाम और रेबीज के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा 28 सितंबर को "विश्व रेबीज दिवस" मनाया जाता हैं।

रेबीज का कारण::-



रेबीज रोग का प्रमुख कारण "रहैब्डो़ "[Rehbdo]वायरस हैं.पागल कुत्तें या अन्य जानवरों में इस रोग के विषाणु मोजूद रहतें हैं।

जब इस रोग से ग्रसित जानवर इंसानों को काटता हैं,तो विषाणु तंत्रिका तंत्र ( nervous system)  को क्षतिग्रस्त कर देता हैं.
चोट़ लग जानें पर पशु के चाट लेनें पर भी लार के माध्यम से ये विषाणु मनुष्य के शरीर में प्रविष्ट़ कर जातें हैं


रेबीज के लक्षण::-



इस रोग के लक्षण प्रभावित व्यक्ति में एक से तीन माह में प्रकट होतें परन्तु यह कोई मान्य समय सीमा नहीं हैं,यदि काटा गया स्थान मस्तिष्क के निकट़ हैं,तो लक्षण जल्दी दिखाई देतें हैं,जबकि काटा गया स्थान मस्तिष्क से दूर होनें पर लक्षण देर से या कई सालों के बाद भी प्रकट होतें हैं.इसके प्रमुख लक्षण निम्न हैं--



1. सांस लेनें में कठिनाई.


2. काटें गये स्थान पर जलन और झुनझुनी होना.


3. मस्तिष्क ज्वर.


4. स्वभाव में चिड़चिड़ापन, उत्तेजना.


5. सिरदर्द.


6. रीढ़ की हड्डी के आसपास जकड़न.


7. रोग की चरम अवस्था में रोगी कुत्तों की तरह भोंकनें लगता हैं,मुँह से लार टपकती हैं,पानी से ड़र लगनें लगता हैं( hydrophobia).


8.मुहँ से झाग आनें लगतें हैं. 


उपरोक्त अन्तिम दो अवस्था में रोगी की शीघृ मौत हो जाती हैं.

रेबीज का उपचार::-


 इस रोग का कोई उपचार उपलब्ध नहीं हैं.किन्तु रोग से बचाव के टीके उपलब्ध हैं.यह टीके दो प्रकार के होतें हैं,

पहला एहतियात के रूप में लगाया जाता हैं,जबकि दूसरा पशु के काटनें के बाद लगाया जाता हैं.पहला टीका  0--7--21 दिनों के अन्तराल से लगता हैं।

इसके बाद Booster Dose लगतें हैं.दूसरा टीका 0--7--14--28 दिनों के अन्तराल से लगता हैं.टीका लगनें के बाद 99 प्रतिशत रोग की प्रभावी रोकथाम हो जाती हैं.



रेबीज से बचाव के तरीके::-



पशु के काट़नें के पश्चात यदि सही तरीकें से प्राथमिक उपचार दे दिया जावें तो लगभग 80 प्रतिशत मामलों में रोग की आंशका या वायरस फैलनें की सम्भावना को खत्म किया जा सकता हैं,आईयें जानतें हैं कैसा हो प्राथमिक उपचार


A. काटें हुयें स्थान को तेज बहाव वाले पानी में बीस मिनट तक साबुन या किसी Antiseptic से तीन - चार बार धो लें.


B. घाव पर Antiseptic लगाकर खुला छोड़ दे बाँधे कदापि नहीं.


यदि Antiseptic उपलब्ध नहीं हो तो नीम के पत्तों को तोड़कर उसका रस निकाल लें इस रस से प्रभावित स्थान को धो दे.

सावधानियाँ



यदि कुत्तें द्धारा आपकों काटा गया है,तो तुरन्त उस पर नज़र रखनी शुरू कर दें,यदि कुत्ता दस दिनों के अन्दर मर जाता हैं,असामान्य हरकतें करता हैं,काटनें के लियें दोड़ता हैं,तो तुरन्त टीकाकरण (Vaccination) करवा लें.

रेबीज को लेकर आमजन में व्याप्त भ्रांतियां और कुप्रथाएं क्या - क्या हैं ?


भारत सहित दुनिया भर के विकासशील देशों में रेबीज को लेकर अनेक भ्राँतियां और कुप्रथाएं प्रचलित हैं।

जिसकी वज़ह से लोग टीकाकरण नहीं करवातें फलस्वरूप जिन मौंतों को रोका जा सकता हैं,वे भी लापरवाही की वज़ह से होती हैं.इन भ्राँतियों और कुप्रथाओं में

1. कुत्तें के काटनें वाली जगह को लोहे की गरम सलाखों से दागनें पर कुत्तें के काट़नें का असर समाप्त हो जाता हैं.


2. पीर,हकीम,औझा मंत्र तंत्र और झाड़ फूंक कर ठीक करतें हैं.

3. विशेष पानी पीलाकर रोग नहीं होनें का दावा किया जाता हैं.

रेबीज को रोकनें का एकमात्र प्रभावी तरीका टीकाकरण हैं,अत: अपनें परिचितों को इस बारें में अवश्य बतायें.और Comment box में प्रतिक्रिया अवश्य Post करें.

Rabies के बारें में महत्वपूर्ण तथ्य

1.रेबीज से मृत्यु का 99 प्रतिशत कारण कुत्ते होते हैं।

2.W.H.O. के अनुसार पूरी दुनिया में रेबीज संक्रमित कुत्ते के काटने के 40 प्रतिशत मामले 15 साल से कम वाले बच्चों के होते हैं।

3.विश्व स्वास्थ्य संगठन का लक्ष्य 2030 तक कुत्ते जनित रेबीज से होनें वाली मौतों को शून्य करना हैं और इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन "United Against Rabies" अभियान चला रहा हैं।







टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी