सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विश्व स्वास्थ संगठन । World health organization परिचय, क्षेत्रीय कार्यालय, संरचना और कार्यप्रणाली

href="https://2.bp.blogspot.com/-uwk57rnb6wg/VzwBtPCMGDI/AAAAAAAAIzQ/oSffz023V48UeQRgSey6p9su_MrBpaVmgCLcB/s1600/who-logo1.jpg" style="margin-left: 1em; margin-right: 1em;">विश्व स्वास्थ संगठन, डब्ल्यू एच ओ

#1.विश्व स्वास्थ संगठन परिचय :::


विश्व स्वास्थ संगठन (world health organisation) या W.H.O संयुक्त राष्ट्र संघ (U.N.O.) का आनुषंगिक अभिकरण हैं.


स्थापना ---7 अप्रेल 1948


मुख्यालय--- जेनेवा (स्विट्जरलेंड़)


सदस्य देश-- 194 अमेरिका ने जुलाई 2020 में विश्व स्वास्थ्य संगठन से अलग होने की घोषणा की है।




#2.क्षेत्रीय कार्यालय::-




विश्व के विभिन्न भागों में स्थित छ: क्षेत्रीय कार्यालय हैं,इनमें शामिल हैं:::-


1.दक्षिण-पूर्व एशिया ---- नई दिल्ली (भारत)


2.पूर्वी भू-मध्यसागर ---- अलेक्सजेन्ड्रिया (मिश्र)


3.पश्चिमी प्रशांत      ----  मनीला (फिलीपींस)


4.अमेरिका            ----   वाशिगंट़न डी.सी.


5.अफ्रीका             ----   ब्रेंजाविलें (कांगों)


6.यूरोप                 ----   कोपनहेगन (डेनमार्क)


#3.संरचना:::-



1.विश्व स्वास्थ महासभा.


2.कार्यकारी बोर्ड़.


3.क्षेत्रीय समितीयाँ.


4. सचिवालय.






#4.उद्देश्य:::-



विश्व के समस्त राष्ट्रों में निवासरत व्यक्तियों की बिना किसी जाति,प्रजाति, धार्मिक भेदभाव,राजनितिक भेदभाव ,तथा सामाजिक, आर्थिक,भेदभाव के बिना स्वास्थ दशा को उन्नतशील बनाना.


#5.विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्य:::-



संगठन अन्तरिम स्वास्थ कार्यों से संबधित समन्वयकारी प्राधिकरण के रूप में कार्य करता हैं.इनमें


1. स्वास्थ सेंवाओं का विकास.


2. रोग निवारण व नियंत्रण.


3. पर्यावरणीय स्वास्थ का संवर्धन.


4. स्वास्थ सेंवाओं से संबधित शोध,स्वास्थ कार्यक्रमों का विकास एँव प्रोत्साहन शामिल हैं.


5.दवाईयों तथा टीकों का उत्पादन और गुणवत्ता नियत्रंण.


6. समस्त विश्व के स्वास्थ आँकड़ों का संग्रहण,विश्लेषण और प्रसारित करना.


7. महामारीयों के सम्बंध में चेतावनी प्रसारित कर रोकथाम के उपाय करना.


ये स्वास्थ संगठन के कुछ महत्वपूर्ण कार्य हैं.

#6.मूल्याकंन::-



विश्व स्वास्थ संगठन संयुक्त राष्ट्र के अभिकरण के रूप में अपनी भूमिका निर्वाहित करनें में सफल रहा हैं.इसकी स्थापना के बाद से महामारीयों के रोकथाम का उल्लेखनीय प्रयास हुयें हैं.पूर्व में जहाँ महामारीयों से लाखों-- करोंड़ों लोग काल कवलित हो जातें थें,वहीं आज के परिदृश्य में यह सँख्या सिमटकर कुछ सेकड़ों  में रह गई हैं.



विश्व स्वास्थ संगठन के सामनें चुनोंतीयाँ भी लगातार बढ़ती जा रही हैं,संगठन जहाँ एक और पारपंरिक बीमारीयों  जैसे मलेरिया, एड्स, टी.बी.को पूर्णत: समाप्त करनें में असफल रहा हैं,वहीं नित नई बीमारीयों जैसें ज़ीका वायरस (zika virus),स्वाइन फ्लू (swine flu), कोरोनावायरस,संगठन के सामनें चुनोतीं प्रस्तुत कर रही हैं.



अत: आवश्यकता इस बात की हैं,की संगठन स्वास्थ से संबधित अनुसंधानों में विकासशील राष्ट्रों को और अधिक वित्तीय,तकनीकी,और मानवीय मदद मुहेया करवायें तभी संगठन अपने उद्देश्यों में सफल हो पायेगा. 





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह