सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Fruits For High BP:हाई बीपी को तुरंत कम करने के लिए क्या खाएं?

 खट्टे फल 

संतरा, अंगूर, निम्बू जैसे खट्टे फल में High BP को कम करने वाले शक्तिशाली तत्व मौजूद होते हैं.खट्टे फल विटामिन, मिनरल और Plant Based तत्वों से भरपूर होते हैं. जो ह्रदय को मजबूत करने के साथ हाई बीपी के जोखिम को कम करते हैं.
Fruits for high bp, हाई बीपी के लिए फल


High bp diet में शामिल खट्टे फलों में hesperidin नामक Anti Oxidant होता हैं जो Systolic blood pressure को कम करता हैं.

जापान में 101 महिलाओं पर पांच महीने तक हुए अध्ययन में शोधकर्ताओं को जो परिणाम मिले उसके अनुसार संतरा, निम्बू और अंगूर का रस जिन High Bp ग्रसित महिलाओं को सुबह की Morning Walk के बाद दिया गया उन महिलाओं में High Bp कम हो गया.[1]

Pumpkin seeds

कद्दू के बीज में मौजूद मैग्नीशियम, पोटैशियम, और आर्जिनिन जो एमिनो एसिड होता है और नाइट्रिक एसिड के उत्पादन के उत्तरदायी होता है, नाइट्रिक एसिड खून की शिराओं को फैलाता है जिससे High bp कम होता है. 

Berries

Strawberry, Blueberry अपने चटकीले रंगों की वजह से बच्चों और युवाओं में बहुत लोकप्रिय हैं. Berries में मौजूद यह रंग इसमें मौजूद Anthocyanins की वजह से होता है.

Anthocyanins रक्त शिराओं को फैलाता है और  blood vessels में मौजूद अवरोध कम करता हैं जिससे उच्च रक्तचाप कम होता हैं.[2]


गाजर 

गाजर में बहुत उच्च मात्रा में Fiber और Phenolic यौगिक जैसे  Chlorogenic, p-Coumaric और caffeic acid मौजूद होते हैं. गाजर में मौजूद ये तत्व खून की अंदरूनी दीवारों का सूजन कम करते हैं. जिससे high bp कम होता हैं.

40-59 वर्ष के 2195 महिला और पुरूषों पर हुए अध्ययन में यह निष्कर्ष सामने आया कि जिन लोगों ने नियमित अंतराल पर गाजर का रस और गाजर का सेवन किया था उनका high bp उन लोगों के मुकाबले कम था जिन्होंने गाजर का रस और गाजर का सेवन नहीं किया था.


टमाटर 

टमाटर में Carotenoid Pigment Lycopene और पोटैशियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता हैं.

टमाटर के स्वास्थ्य पर प्रभाव से संबंधित 21 से अधिक अध्ययनों से निष्कर्ष निकला कि टमाटर खाने से ह्रदय रोग और high bp से संबंधित खतरा कम हो जाता हैं.

चुकंदर

चुकंदर और high bp के संबधों का पता लगाने के लिए हुए एक दो सप्ताह के अध्ययन में निष्कर्ष निकला कि चुकंदर high bp को कम करना है.

चुकंदर में Nitric oxide बहुत प्रचुरता से पाया जाता हैं जो कि खून की नलियों को फैलाता हैं, जिसने high bp low होता हैं और ह्रदय पर कम दबाव पड़ता हैं.

केला 

Fruits for high bp के क्रम में अगला फल हैं केला
केला पोटैशियम का प्रचुर स्त्रोत हैं एक मध्यम आकार के केले में 422 मिलीग्राम पोटैशियम पाया जाता हैं.

American heart Association के अनुसार पोटैशियम शरीर में सोडियम के प्रभाव को कम करता हैं. और खून की नली में तनाव को कम करता हैं. जिससे high bp low हो जाता हैं.

कीवी 

सन् 2005 में हुए एक शोध अध्ययन के अनुसार high bp वाले दो समूह को अलग अलग बांटकर एक समूह को प्रतिदिन एक सेवफल और दूसरे समूह को 3 कीवी खाने को दी गई. 

दो महीने बाद जब निष्कर्ष निकाला गया तो पता चला जिन लोगों ने प्रतिदिन 3 कीवी खाने में ली थी उनका systolic and Diastolic bp उन लोगों के मुकाबले कम था जिन्होंने प्रतिदिन एक सेवफल खाने में लिया था.

शोधकर्ताओं के अनुसार कीवी द्वारा हाई बीपी कम होने का प्रमुख कारण इसमें मौजूद bioactive तत्व थे.

तरबूज 

तरबूज में एक Amino Acid होता हैं जिसका नाम Citrulline हैं . 

Citrulline को हमारा शरीर arginine में बदल देता है जो कि शरीर में nitric oxide बनाने के लिए उत्तरदायी होता हैं.Nitric oxide से खून की नलियाँ फैल जाती हैं और रक्तचाप कम हो जाता हैं इसके अलावा nitric oxide खून की शिराओं को लचीला बनाता हैं.

तरबूज में मौजूद बहुत सारा पानी शरीर में पानी की कमी दूर कर खून को पतला रखता है जिससे हाई बीपी का जोखिम कम होता हैं.

सन् 2019 में  एक शोध हुआ था जिसके अनुसार जिम में व्यायाम करने वाले 27 लोगों को तरबूज का रस दिया गया . इस शोध के अनुसार व्यायाम करने के बाद भी महिलाओं के रक्तचाप में कोई बढोतरी नहीं हुई थी जबकि पुरूषों का रक्तचाप बढ़ गया था.

अनार

Fruit for high bp के क्रम में अगला फल हैं अनार
अनार Antioxidants से भरपूर फल हैं. सन् 2017 और 2012 के शोध के अनुसार अनार बहुत कम समय में high bp low करता हैं.

ऐवोकेडो

ऐवोकेडो में oleic acid, folate potassium और Antioxidant मौजूद होते हैं जो high bp low करने के साथ ह्रदय को मजबूत करते हैं.

आम

एक पके हुए आम में प्रचुरता से पोटैशियम beta carotene और फायबर मौजूद होता हैं जो हाई बीपी को कम करता हैं.

High bp low करने के लिए निम्नलिखित चीजों से दूर रहें

• शराब

• धूम्रपान

• अत्यधिक नमक का सेवन

• अनियमित जीवनशैली

• अत्यधिक तनाव

• जंक फूड

Reference by


https://www.medicalnewstoday.com/articles/322284#list-of-foods

https://www.healthline.com/nutrition/foods-high-blood-pressure#:~:text=Citrus%20fruits%2C%20including%20grapefruit%2C%20oranges,high%20blood%20pressure%20(%204%20).

https://www.healthshots.com/healthy-eating/superfoods/5-blood-pressure-reducing-foods-for-the-summer/

Note:यह लेख गहन शोध पर आधारित जर्नलो से लिया गया है किंतु फिर भी चिकित्सकीय सलाह के साथ रहें.

यह भी पढें









टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू  आयुर्वेद की विशिष्ट औषधि हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके ल

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER  पतंजलि आयुर्वेद ने high blood pressure की नई गोली BPGRIT निकाली हैं। इसके पहले पतंजलि आयुर्वेद ने उच्च रक्तचाप के लिए Divya Mukta Vati निकाली थी। अब सवाल उठता हैं कि पतंजलि आयुर्वेद को मुक्ता वटी के अलावा बीपी ग्रिट निकालने की क्या आवश्यकता बढ़ी। तो आईए जानतें हैं BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER के बारें में कुछ महत्वपूर्ण बातें BPGRIT INGREDIENTS 1.अर्जुन छाल चूर्ण ( Terminalia Arjuna ) 150 मिलीग्राम 2.अनारदाना ( Punica granatum ) 100 मिलीग्राम 3.गोखरु ( Tribulus Terrestris  ) 100 मिलीग्राम 4.लहसुन ( Allium sativam ) 100  मिलीग्राम 5.दालचीनी (Cinnamon zeylanicun) 50 मिलीग्राम 6.शुद्ध  गुग्गुल ( Commiphora mukul )  7.गोंद रेजिन 10 मिलीग्राम 8.बबूल‌ गोंद 8 मिलीग्राम 9.टेल्कम (Hydrated Magnesium silicate) 8 मिलीग्राम 10. Microcrystlline cellulose 16 मिलीग्राम 11. Sodium carboxmethyle cellulose 8 मिलीग्राम DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER INGREDIENTS 1.गजवा  ( Onosma Bracteatum) 2.ब्राम्ही ( Bacopa monnieri) 3.शंखपुष्पी (Convolvulus pl

होम्योपैथिक बायोकाम्बिनेशन नम्बर #1 से नम्बर #28 तक Homeopathic bio combination in hindi

  1.बायो काम्बिनेशन नम्बर 1 एनिमिया के लिये होम्योपैथिक बायोकाम्बिनेशन नम्बर 1 का उपयोग रक्ताल्पता या एनिमिया को दूर करनें के लियें किया जाता हैं । रक्ताल्पता या एनिमिया शरीर की एक ऐसी अवस्था हैं जिसमें रक्त में हिमोग्लोबिन की सघनता कम हो जाती हैं । हिमोग्लोबिन की कमी होनें से रक्त में आक्सीजन कम परिवहन हो पाता हैं ।  W.H.O.के अनुसार यदि पुरूष में 13 gm/100 ML ,और स्त्री में 12 gm/100ML से कम हिमोग्लोबिन रक्त में हैं तो इसका मतलब हैं कि व्यक्ति एनिमिक या रक्ताल्पता से ग्रसित हैं । एनिमिया के लक्षण ::: 1.शरीर में थकान 2.काम करतें समय साँस लेनें में परेशानी होना 3.चक्कर  आना  4.सिरदर्द 5. हाथों की हथेली और चेहरा पीला होना 6.ह्रदय की असामान्य धड़कन 7.ankle पर सूजन आना 8. अधिक उम्र के लोगों में ह्रदय शूल होना 9.किसी चोंट या बीमारी के कारण शरीर से अधिक रक्त निकलना बायोकाम्बिनेशन नम्बर  1 के मुख्य घटक ० केल्केरिया फास्फोरिका 3x ० फेंरम फास्फोरिकम 3x ० नेट्रम म्यूरिटिकम 6x