सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

डेल्टा प्लस वेरिएंट पर वैक्सीन कितनी प्रभावशाली है ।Delta plus variant

भारत में कोरोनावायरस की दूसरी लहर का चरम निकल चुका है और एम्स के निदेशक डाक्टर रणदीप गुलेरिया 6 से 8 हफ्तों में कोरोना की तीसरी लहर के आनें का अंदेशा जता चुके हैं। इस बीच वैज्ञानिकों ने कोरोनावायरस के डेल्टा वेरिएंट में म्यूटेशन कर बने ने डेल्टा प्लस वेरिएंट ने लोगों को संक्रमित करना शुरू कर दिया है और डाक्टर रणदीप गुलेरिया की बात पर मुहर भी लगना शुरू हो गई है


तो क्या भारत में तीसरी लहर के पीछे डेल्टा प्लस वेरिएंट जिम्मेदार होगा आईए जानते हैं डेल्टा प्लस वेरिएंट के बारें में विस्तार से
कोरोनावायरस, डेल्टा प्लस वेरिएंट


डेल्टा प्लस वेरिएंट क्या है ?

विशेषज्ञों के अनुसार डेल्टा वेरिएंट जिसे बी.1.617.2 भी कहा जाता है ,इस वायरस के स्पाइक प्रोटीन में  वायरस ने अपनी म्यूटेट होने की पद्धति से म्यूटेशन कर लिया है,जिसकी वजह से यह बहुत तेजी से संक्रमित करता है। 

चिकित्सकों के मुताबिक डेल्टा वेरिएंट जहां फेफड़ों की कोशिकाओं को संक्रमित करने में आठ दिन लगाता है वहीं डेल्टा प्लस वेरिएंट मात्र दो दिन में ही फेफड़ों को संक्रमित कर देता है।

डाक्टर एंथोनी फाउसी जो कि अमेरिकी राष्ट्रपति के चिकित्सा सलाहकार हैं का कहना है कि
 "डेल्टा प्लस वेरिएंट बहुत अधिक संक्रामक हैं। यह 15 दिनों के अंदर अपनी संक्रमण दर को दुगनी कर लेता है।"

डेल्टा प्लस वेरिएंट के संबंध भारतीय जीनोमिक्स कंसोर्टियम ( INSACOG)

भारतीय जीनोमिक्स कंसोर्टियम के अनुसार डेल्टा प्लस वेरिएंट पर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता का असर बहुत कम देखने को मिल रहा है।और यह फेफड़ों की कोशिकाओं के रिसेप्टर से बहुत तेजी से चिपकता हैं।

 

डेल्टा प्लस वेरिएंट पर वैक्सीन कितनी प्रभावशाली है

भारतीय जीनोमिक्स कंसोर्टियम के अनुसार अभी डेल्टा प्लस वेरिएंट पर वैक्सीन कितनी प्रभावशाली है इसको लेकर अध्ययन किया जाना है, किंतु यदि अब तक के आंकड़ों का विश्लेषण करें तो डेल्टा प्लस वेरिएंट से उज्जैन निवासी जिस महिला की मौत हुई थी, उसने वैक्सीन नहीं लगवाया था, जबकि महिला की मौत से कुछ दिन पहले उसके पति को भी कोरोना संक्रमण हुआ था और वह संक्रमण से उबर गए उनके पति वैक्सीनेशन करवा चुके थे,इस आधार पर हम कह सकते हैं कि महिला को संक्रमण उसके पति से ही मिला होगा । 

यदि इस केस के सन्दर्भ में बात करें तो वैक्सीन लगाने के बाद पति के फेफड़ों को कोरोना इतना संक्रमित नहीं कर पाया जितना कि महिला के फेफड़ों को संक्रमित किया। जिला चिकित्सालय उज्जैन के कोरोना रोधी प्रभारी टीम के विशेषज्ञों के मुताबिक जिस महिला की कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट से मौत हुई थी उनके 95 प्रतिशत फेफड़े संक्रमित हो गए थें। 

उज्जैन जिले की एक अन्य महिला जो कोरोनावायरस के ने वेरिएंट डेल्टा प्लस से संक्रमित हुई थी और अब स्वस्थ हो चुकी है उन्हें भी वैक्सीन का पहला टीका लग चुका था और वायरस उनके फेफड़ों को बहुत कम संक्रमित कर पाया।

इस आधार पर हम कह सकते हैं कि डेल्टा प्लस वेरिएंट के खिलाफ वैक्सीन बहुत प्रभावी हथियार साबित होंगा ।


क्या डेल्टा प्लस वेरिएंट का असर बच्चों पर भी होता है?

विशेषज्ञों के अनुसार भारत में तीसरी लहर का कारण डेल्टा प्लस वेरिएंट हो सकता है लेकिन इस वेरिएंट से बच्चे बहुत गंभीर रूप से संक्रमित होंगे ऐसा कहना सही नहीं होगा क्योंकि बच्चों का इम्यून सिस्टम वायरस से लड़ने में पूरी तरह सक्षम है और यदि बच्चे संक्रमित भी हुए तो सामान्य सर्दी खांसी और बुखार होकर बच्चे ठीक हो जाएंगे।

बच्चों के गंभीर रूप से संक्रमित नहीं होने के पिछे एक वैज्ञानिक आधार यह भी है कि बच्चों के फेफड़ों की कोशिकाओं में मौजूद रिसेप्टर पर्याप्त विकसित नहीं हो पाता है जिससे वायरस फेफड़ों में प्रवेश नहीं कर पाता और बच्चे तेजी से बीमार होकर ठीक हो जातें हैं।


डेल्टा प्लस वेरिएंट से बचने के क्या उपाय है?

वैज्ञानिकों के अनुसार डेल्टा प्लस वेरिएंट से बचने का उपाय वैक्सीनेशन, पर्याप्त मात्रा में सोशल डिस्टेंसिंग,मास्क का प्रयोग और हाथों को बार बार साबुन या सेनेटाइजर से साफ करना है।

इसके अलावा संक्रमित होने पर तुरंत जांच और चिकित्सक से परामर्श अवश्य करते रहें।

यह भी पढ़ें 👇







टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह