सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मिट्टी में अम्लीयता का कारण प्रभाव और उसका समाधान [ cause effect and managment of acidic soil]

भारत सहित सम्पूर्ण विश्व में फसलों को उगानें के दृष्टिकोण से मिट्टी को अम्लीय और क्षारीय मिट्टी में विभाजित किया गया हैं.इस अम्लीयता और क्षारीयता की गणना PH मान से की जाती है.एक आदर्श मिट्टी का PH मान 7 होता हैं.आज हम मिट्टी की अम्लीयता की बात करेंगें.

खेत का pH
 मिट्टी में अम्लीयता

(अ).अम्लीय मिट्टी [Acidic soil] :::



• जिस मिट्टी का PH मान 7 से कम होता हैं,उसे अम्लीय मिट्टी की श्रेणी में रखा जाता हैं.मिट्टी में अम्लीयता होनें से इसमें कैल्सियम जैसें पोषक तत्वों की भारी कमी हो जाती हैं.


(ब).कारण [cause] :::



• मिट्टी में अम्लीयता का प्रमुख कारण अत्यधिक वर्षा हैं.जिन क्षेत्रों वार्षिक वर्षा 2,000 मिमी से अधिक होती हैं.वहाँ कि मिट्टी में यह आम समस्या हैं,क्योंकि पानी के साथ कैल्सियम बह जाता हैं,जो मिट्टी को क्षारीय बनाने वाला प्रमुख तत्व हैं.भारत में पूर्वी क्षेत्र की मिट्टी में यह आम समस्या हैं.


(स).अम्लीयता का जनजीवन पर प्रभाव :::




मिट्टी में अम्लीयता का व्यापक प्रभाव फसलों एंव जनजीवन पर देखा गया हैं,जैसें

#1. निम्न फसल उत्पादकता .


#2.खाद्य एँव चारा फसलों की निम्न गुणवत्ता जिसकी वजह से कुपोषण ,उदाहरण के लियें पूर्वोत्तर भारत में रहनें वाले लोग बोने होतें हैं,जिसका प्रमुख कारण फसलों में कैल्सियम की कमी हैं.


#3.फसलें कम पैदा होनें से व्यापक गरीबी और बेरोजगारी.

[][][][][][][][][][][][][][][][][[][][][][][][][][][][][][][][]]][][][][][][][][][][][][]][][]][]


आत्मविकास के 9 मार्ग👈


प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना👈


० तुलसी 



० जल प्रबंधन के बारें में जानें

[][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][]][][][][][][][][][][][][]

 

(द).समाधान :::




अम्लीय मिट्टी को सुधारकर व्यापक स्तर पर खेती के प्रयोग लायक बनाया जा सकता हैं,इसके लियें निम्न सुझाव अपनायें जा सकतें हैं.


#1.मिट्टी परीक्षण कर आवश्यकतानुसार अम्लीय मिट्टी के क्षेत्रों में चूनें का छिड़काव.


#2.जैविक खाद का खेतों में और पेड़ पौधों की जड़ में छिड़काव.


#3. फसलों को सिंचित करनें वालें पानी के स्रोतों में चूना मिलाकर उपयोग करना ताकि मिट्टी द्धारा बेहतर तरीके से कैल्सियम का अवशोषण हो सकें.
#4.पोल्ट्री फार्मों से निकलनें वाले अवशेषों को मिट्टी में गहराई तक जाकर मिलाना ताकि इनका बहाव नही हो सकें.


#5.वर्मी कम्पोस्ट का प्रयोग और निर्माण व्यापक स्तर पर कर मिट्टी में मिलाना चाहियें, इसके लियें अम्लीयता प्रभावित क्षेत्रों में वर्मी कम्पोस्ट बनाना प्रत्येक ग्राम या नगर सरकार के लिये अनिवार्य कर देना चाहियें.


यदि बेहतर प्रबंधन कर अम्लीय मिट्टी में फसल उगाई जावें तो इसमें उगनें वाली फसल भी सामान्य मिट्टी में उगनें वाली फसलों के समान गुणवत्तापूर्ण एँव पोषक पैदा होगी.


० पलाश वृक्ष के औषधीय गुण

• गैर परंपरागत ऊर्जा भारत का भविष्य

० गेरू मिट्टी के औषधीय प्रयोग


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह