सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

महान भारतभूमि के आदर्श विचार [MAHAN BHARATBHUMI KE Aadarsh vichar]

दोस्तों मनुष्य ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृति हैं,यह बात सदियों से हमारें पूर्वज कहते आये हैं,और आज के समय में भी हम इस बात को मानतें हैं,मनुष्य ने अपने शक्तिशाली दिमाग की बदोलत पूरें विश्व की भौगोलिक सीमाओं को अनेक साम्राज्यों में विभाजित किया और इन साम्राज्यों पर शासक बन शासन किया

===============================================

भारत का वीर सपूत चन्द्रशेखर आजाद

होली पर्व स्वास्थ्य का पर्व

===============================================

शासक बनने के साथ ही मनुष्य अंहकारों की प्रतिमूर्ति बन बैठा  और विनम्रता,सादगी ,सरलता,दया जैसे शब्द धिरें - धिरें विस्म्रत होकर अंहकार,राग,द्धेष,हिंसा ने मन मस्तिष्क पर शासन करना शुरू कर दिया.

बुद्ध,महावीर ने दया,करूणा,प्रेम,विनम्रता,अहिंसा जैसे शब्दों को  अपने आचरण में उतारकर जगत प्रसिद्धि दिलाई वही अंहकार, हिंसा,राग,द्धेष जैसे शब्द भारत पर आक्रमण करनें और यहाँ साम्राज्य स्थापित करनें वालें आक्रान्ताओं के साथ आकर आम जनमानस में फैलें.


वैदिक कालीन आक्रान्ताओं,से लगाकर आधुनिक ब्रिटिश आक्रान्ताओं ने भारत में अंहकार ,हिंसा, राग,द्धेष को आम जनमानस में स्थापित करनें का प्रयत्न अपनें कार्यों के द्धारा किया और यह विचार भारतीय लोगों में स्थापित भी हुये क्योंकि इन्हीं विचारों के साथ जब इन लोगों ने सफलता प्राप्त की तो ये विचार सफलता का पर्याय समझे जानें लगे और अनेक भारतीयों ने भी इन विचारों के साथ सफलता प्राप्त की और आज भी इन विचारों के साथ अनेक लोग सफलता प्राप्त करते हुये समाज में देखे जा सकतें हैं.

अनेक लोग जो हिंसा, राग,द्धेष की सहायता से सफल होकर आगे बढ़े हैं,इन विचारों का समर्थन करतें हुये कहतें हैं,कि अहिंसा ,दया,करूणा,प्रेम जैसे विचारों की वजह से ही हम लम्बें समय तक मुठ्ठीभर आक्रान्ताओं के गुलाम बनककी रहें,यदि हमनें हमारें स्वर्णिम समय में हिंसा,राग - द्धेष,जैसे विचारों के साथ विश्व विजेता बनने का प्रयत्न किया होता तो भारतीय साम्राज्य भी इतना विशाल बन पड़ता कि यहाँ सूरज भी अस्त नही होता.

वास्तव में सच्चाई यह हैं,कि जिन लोगों ने अंहकार, राग - द्धेष में लिप्त होकर  सफलता प्राप्त की और जिनका साम्राज्य सीमाओं से परे हो गया था,उनका अन्तिम समय भी  इन विचारों को त्यागनें में ही बिता हैं,चाहें अशोक हो या अकबर हिंसा के दम पर विश्व विजेता बनने के बाद एक ने अपना जीवन धम्मम् शरणम् गच्छामि बुद्धम् शरणम् गच्छामि 
और दूसरें ने दीन - ए - इलाही  का प्रचार करते हुये समाप्त किया.


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह