सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ऊंझा राजाशाही शक्ति अमृत रसायन के फायदे

 आम तौर पर हमारे शरीर को सभी मौसम में विटामिन और पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। संक्रमण पैदा करने वाले कीटाणु बिना किसी मौसम के जानते किसी भी समय आपको हानि पंहुचा सकते हैं। आज के आधुनिक व्यस्त जीवन शैली में स्वस्थ जीवन की दिशा में शरीर का कायाकल्प और पुनरुद्धार एक बहुत ही महत्वपूर्ण कदम बन गया है। इस भागती-दौड़ती जीवनशैली में स्वास्थ्य एक ऐसा कारक है जिसकी अक्सर उपेक्षा की जाती है। इसीलिए आवश्यक है कि आहार के साथ साथ पूरक द्रव्यों का नियमित सेवन करे। इसके चलते उंझा फार्मसी ने एक बेहतर प्रोडक्ट बनाया है जिसे राजाशाही शक्ति अमृत रसायन के रूप में जाना जाता है।

ऊंझा राजाशाही शक्ति अमृत रसायन, स्वर्ण और हीरक भस्म च्यवनप्राश


यह स्वर्ण भस्म, हीरक भस्म, मुक्त पिष्टी, बंग भस्म, चांदी वर्क, शुद्ध शिलाजीत, जावन्त्री, केशर, तज, बादाम, काजू, मुन्नका, अश्वगंधा, मूसली, जैसे उत्तम स्वास्थ्यवर्धक औषधियों के मिश्रण से बना है। राजाशाही शक्ति अमृत रसायन एक बेहतर रसायन, , वाजीकरण तथा बलवर्धक है। जिसके दैनिक सेवन से आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, बेहतर पाचन को बढ़ावा देता है तथा यौन शक्ति बढ़ाने के लिए बहुत उपयोगी है, और कई अन्य स्वास्थ्य जटिलताओं में भी फायदेमंद है।


राजाशाही शक्तिअमृत रसायन


राजाशाही शक्तिअमृत रसायन राजाशाही शक्ति अमृत रसायन


-


यह रसायन, वाजीकरण तथा बलवर्धक है। पाचन क्रिया की कमजोरी में भी फायदेमंद है। शुक्रवह संस्थान पर प्रभावी है।

राजाशाही शक्तिअमृत रसायन


प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करें और सामान्य कमजोरी को कम करें तथा हृदय, मस्तिष्क, तंत्रिका तंत्र को मजबूत करने के लिए विशेष रूप से उपयोगी है।


ऊंझा राजाशाही शक्ति अमृत रसायन के फायदे 


१. द्राक्षावलेहः- द्राक्षावलेह स्फूर्ति वर्धक, रुचिवर्धक, रक्ताल्पता, अम्लपित, व विबंध में उपयोगी है। पेट को साफ करता है, पाचनशक्तिको नियमित रखने में सहायक है। यकृत और लीवर के विकारों में लाभकारी है, मुनक्का में प्रयाप्त मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंटस होते हैं जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ान सहयोगी होते हैं।


हीरक भस्मः- हीरक भस्म रसायन और देह को द्रढ़ बनानेवाली पौष्टिक, बलदायक और यौन शक्तिको बढ़ाता है। यह शरीर में अवांछित कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने में फायदेमंद है, विषम ज्वर, हृदय रोग, पाण्डु, कामला, उदर रोग, प्रमेह, धातुगत विकार, स्तंभन दोष, शुकाणु दोष की समस्या आदि में हितकारी है।


सुवर्ण भस्म:- सुवर्ण भस्म मे एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। यह प्रतिरोधक क्षमता वर्धक, रसायन व त्रिदोषनाशक है। जो हृदय के लिए हितकारी, वाजीकारक, रक्त को शुद्ध करने के लिए, शारीरिक एवं मानसिक व्याधि में फायदेमंद, कई प्रकार के कैंसर के उपचार में, यौन स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और त्वचा की समस्याओं आदि को ठीक करने के लिए उपयोग किया जाता है।


रजत:- मस्तिष्क, वातवाहिनी, और तंत्रिकातंत्रो की कार्यशैली में सुधार करता है। शुक्राणुओं की अल्पता, मिर्गी, शारीरिक कमजोरी, क्षय रोग, मेघावर्धक, हृदय रोग, शुक्रवह स्त्रोतस एवं प्रतिरक्षा प्रणाली में फायदेमंद है।


श्वेत मुसली:- एक ऐसी शक्तिवर्धक जड़ी-बूटी है जो मुख्यतः शुक्रवह संस्थान पर विशेष रूप से प्रभावी है। स्तंभन दोष, शुकाणु दोष की समस्या, शुक्राणु की कमी, पेशाब में जलन आदि रोगों में श्वेत मूसली का प्रयोग लाभ पहुंचाता है।


जावंत्री :- यह प्रतिरक्षा प्रणाली और प्रतिरोध शक्तिको बढ़ाता है। डायबिटीस, पाचन संबंधी समस्या, अनिद्रा, वाजीकारक, हृदय के लिए फायदेमंद, सर्दी जुकाम, लिवर आदि की समस्या में मदद करता है ।


केसर:- केसर का इस्तेमाल शारीरिक व मानसिक शक्ति बढ़ाने और अनेक स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करने के लिए किया जाता है। कमजोरी, सर्दी जुकाम, भूख बढ़ाने, कामोत्तेजक, मूत्र से संबंधित बीमारियों, मस्तिष्क दौर्बल्यता, स्तंभन दोष एवं रजोवरोध व कष्टार्तव में उपयोगी है।

८.शुद्ध शिलाजीत:- यह जो शक्तिवर्धक, धातुवर्धक और वीर्यवर्धक तथा शुक्रवह संस्थान में फायदेमंद है। थकान और तनाव को कम करता है तथा पेशाब में शर्करा, मूत्र विकार, एवं शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ाने में फायदेमंद है।


बंग भस्मः - बंग भस्म विशेष रूप से शुक्रवह संस्थान पर प्रभावी है तथा प्रमेह में भी लाभकारी सिद्ध हुआ है। वातवाहि नी एवं मांसपेशियों में शिथिलता कम कर शुक्रवहसंस्थान और शुक्रधातु दोनोंको शक्तिऔर पुष्टि देनेवाली है।


१०. मोती पिष्टी:- शरीर में कैल्शियम की कमी में एवं पित्त को नियंत्रित करने में फायदेमंद है। मूत्र विकार, मांसपेशियों के दर्द, कमजोर हड्डियों में, हृदय विकारों में, दुर्बलता, मन्दाग्नि आदि रोगों में भी अधिक लाभदायी होती है।


११. बादाम :- बादाम फाइबर, प्रोटीन, विटामिन ई और विभिन्न महत्वपूर्ण पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। यह मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए बहुत लाभकारी हैं। हृदय रोग एवं कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में उपयोगी है एवं पाचन में सहायक होता है। प्रतिरक्षा प्रणाली को ताकत देने में मदद करते हैं।


ऊंझा राजाशाही शक्ति अमृत रसायन के फायदे 

यह श्रेष्ठ रसायन, वाजीकरण एवं बलवर्धक तथा हृदय रोग, पाचन विकार, धातुगत विकार, शारीरिक क्षीणता, आदि में भी फायदेमंद है तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

ऊंझा राजाशाही शक्ति अमृत रसायन के एक ग्राम में पाए जानें वाले घटक

1.द्राक्षावलेह         --- 87.00%

2.आंवला --- 1.40%

3.मुक्ता पिष्टी --- 0.002%

4.अभ्रक भस्म --- 0.04%

5.बंग भस्म --- 0.04%

6.मंडूर भस्म ---0.04%

7.चांदी वरक --- 0.002%

8.शुद्ध शिलाजीत --- 1.00%

9.रस सिंदूर --- 0.04%

10.जावत्रि --- 0.04%

11.केसर --- 0.070%

12.लौंग --- 0.05%

13.तेज ---0.06%

14.स्वर्ण भस्म ---0.001%

15.हीरक भस्म --- 0.005%

16.बादाम --- 4.50%

17.काजू --- 1.50%

18.अखरोट --- 1.50%

19.पिस्ता --- 1.50%

20.अश्वगंधा --- 0.20%

21.शतावरी --- 0.20%

22.सफेद मूसली --- 0.20%

23.इलायची तेल --- 0.060%

ऊंझा राजाशाही शक्ति अमृत रसायन की कीमत

500 ग्राम पेक की कीमत 1850 रूपए 

यह भी पढ़ें 👇


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह