सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Can Homeopathy help manage menopause

 What is menopause 

Can Homeopathy manage menopause, what is menopause


Menopause is a natural part of aging in a woman. It is said to have occured when a woman's menstrual cycles have stopped for at least 1 year. The mean age of attaining menopause is from 45-55 years.


Why is it important for me to understand Menopause?


In the past, number of women who used to die owing to one or the other medical reason before attaining menopause was very high. But with advances in Medicine, the average life span of a woman has increased and most women today survive well past their menopausal age. Projected figures in 2026 have estimated the menopausal population in India will be 103 million. Therefore, it is important for all middle- age women to understand menopause and embrace it as a natural milestone.


What symptoms can I experience?


⚫ Irregular menstrual cycles


Hot flushes/sweating


⚫ Palpitation


⚫ Mood swings


⚫ Joint-related problems


When should I see a doctor?


Sudden post menopausal bleeding


⚫ Lump in breast


Blood Pressure related problems


⚫ Osteoporosis (Prone to fractures)


⚫ Disturbed sleep


⚫ Depression


Tell me about the necessary precautions


Go for regular gynaecological and medical checkups like annual mammogram, Pap smear, screening for vaginal infections and STDs.


⚫ Pap Smear Test: It is a screening test for cervical cancer. Cells scraped from the opening of the cervix (lower part of the uterus) are examined under a microscope.

Bone density test: A bone density test determines if you have osteoporosis disease that causes bones to become more fragile and more likely to break


What are a few ways of managing menopause?


•Do plenty of exercise


• Practice meditation


• Avoid wearing tight clothing • Try to reduce your levels of stress


• Cut out on caffeine intake


• Eat a calcium-rich diet like tofu, cheese, yogurt, milk, sardines, broccoli, almonds and dark leafy greens like spinach


• Practice pelvic floor muscle exercises


Can Homoeopathy help manage menopause ?


In a study by the Council, homoeopathic therapy was found to be very effective in relieving menopausal symptoms. The medicines found to be most useful were:


⚫ Sepia: Hot flushes with anxiety and depression; palpitation; bearing down sensation with leucorrhoea; weakness; tendency to gain weight; aversion to sex; suffocated feeling; hair loss; migraine etc.


• Lachesis: Sudden hot flashes and clammy sweats during the day; with heat and burning pain in the vertex (top) of head, constricted feeling around abdomen, worse pressure of clothes; weariness; suffocated feeling; dizziness; palpitation; fainting; depression; irritability etc.


⚫ Calcarea carbonicum: Hot flashes with perspiration on face and hands; anxiety, palpitation and chills; fatigue etc.


⚫ Lycopodium: Hot flashes worse in the evening, crowded or warm room; offensive sweat; vaginal dryness; involuntary urination; pain in extremities; cramps in limbs; anxiety etc.

• Sulphur: Sleepiness and insomnia, fast pulse; fainting, burning feet, soles, palms, and top of head, heat in head, rheumatic pains in extremities; vaginal pain during sexual intercourse; craving for sweets etc.


Pulsatilla: Weeps easily; timid; irresolute; fears being alone in the evening; likes sympathy; easily discouraged; highly emotional; chilliness; nausea with a downward pressure in abdomen; leucorrhoea acrid, burning, creamy; pain in the back; tired feeling etc.


Issued in public interest by CCRH


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह