सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Macular Degeneration :50 की उम्र के बाद रहें सावधान

 Macular Degeneration :50 की उम्र के बाद रहें सावधान
Old man

हमारी आंखों के बीच के हिस्से को  चिकित्सा विज्ञानी मेक्यूला कहते हैं। 

मेक्यूला का काम है आंखों के सेंट्रल विजन को फोकस करना। यह हमारी देखने, ड्राइव करने, चेहरा, रंग या ऑब्जेक्ट को पहचानने की क्षमता नियंत्रित करता है। हमारे नेत्रों की आंतरिक परत इमेज रिकॉर्ड करती है।


 इसके बाद ऑप्टिक नर्व यह इमेज नेत्र से ब्रेन तक पहुंचती है और हम ऑब्जेक्ट देखते और पहचानते हैं। मेक्यूला चावल के दाने की साइज यानी करीब 4 सेंटीमीटर का होता है। उम्र बढ़ने के साथ मेक्यूला क्षतिग्रस्त होता है।


 इसकी क्षमता घटने या क्षतिग्रस्त होने से सबसे पहले धुंधलापन आता है। धीरे-धीरे मेक्यूला का फोटो रिसेप्टर्स मर जाता है और सेंट्रल विजन खत्म होने लगता है।


 यही कारण है कि एडवांस मेक्यूलर डिजनरेशन वाले लोग ड्राइव नहीं कर पाते, पढ़ नहीं पाते, उन्हें चेहरे नहीं दिखते। उनके लिए अपने नजदीकी लोगों को भी पहचानना मुश्किल हो जाता है। यह सही है कि मेक्यूला रोगी पूरी तरह अंधे नहीं होते पर असहाय, दुर्बल व अवसादग्रस्त हो जाते हैं।


मेक्यूलर डिजनरेशन कितनें प्रकार के होते हैं

ड्राय और वेट । ड्राय मेक्यूलर  डिजनरेशन धीरे-धीरे बढ़ता है। इस रोग के कारण सेंट्रल विजन खोने में महीनों या साल लग जाते हैं, पर इसका कोई उपचार नहीं है। ऐसे लोगों को पहले टीवी देखने या ड्राइव करने में मुश्किल आती है, फिर चेहरा पहचानना भी बंद हो जाता है। 


ड्राय के बजाए वेट मेक्यूलर डिजनरेशन ज्यादा तेज व आक्रामक है। ऐसे लोगों का उपचार ना हो तो ये दो-तीन माह में ही वे दृष्टि खो देते हैं। वेट मेक्यूलर रोग के लिए आज कई दवाइयां उपलब्ध हैं।


मेक्यूलर डिजनरेशन का सबसे बड़ा कारण है उम्र। बूढ़े होंगे तो इस रोग का खतरा बढ़ेगा। 


जीन्स के कारण भी यह रोग होता है। ऐसे 15 जीन्स चिकित्सा विज्ञान ने खोज लिए हैं, जिनके कारण इस रोग का खतरा बढ़ता है। परेशानी यह है कि ना तो हम अपनी उम्र का बढ़ना रोक सकते हैं और ना ही अपने जीन्स बदल सकते हैं। बस जीवनशैली में बदलाव लाकर बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है।

स्मोकिंग से बढ़ता है मर्ज


स्मोकिंग मेक्यूलर डिजनरेशन का प्रमुख कारण है इसे लेकर जागरूकता अभी भी कम है। इस बाबत कई शोधों का निष्कर्ष है


कि जो लोग धूम्रपान करते हैं, उनके लिए मेक्यूलर रोग का खतरा 4 गुना बढ़ जाता है।

इसके साथ जिनके शिकार हो सकते हैं।

जेनेटिक इस रोग को बढ़ाने वाले हैं, वे यदि धूम्रपान भी करें तो इस रोग का खतरा 20 गुना बढ़ जाता है। स्मोकिंग आंखों के लिए बड़ा खतरा है।

 जिनकी डाइट ठीक नहीं है या कम खाते हैं, वे भी मेक्यूलर रोग का शिकार हो सकते हैं।


50 पार जांच करवाते रहें


पचास साल की उम्र के बाद हर एक-दो साल में आंखों की जांच करवाएं और नेत्र चिकित्सक से पूछें कि मेक्यूला तो क्षतिग्रस्त नहीं हो रहा है। अपने खानपान को संतुलित रखें।


धूम्रपान पर लगाएं लगाम


उम्र बढ़ने के साथ जैसे शरीर के अन्य अंग कमजोर होते हैं, वैसे ही मेक्यूला की क्षमता घटती है। इसका कोई पेथालॉजिकल कारण ना होने से पैथोलॉजी जांच पड़ताल से इस रोग का पता नहीं चलता है। 

इसका खतरा घटाना है तो ज्यादा स्मोकिंग ना करें, ज्यादा शराब

 का सेवन ना करें। एंटी ऑक्सीडेंट खाद्य पदार्थों का ज्यादा सेवन करें और आंखों की एक्सरसाइज करें।

यह भी पढ़ें 👇

• कीटो डाइट के फायदे और नुकसान

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी