सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

benefits of red colored fruits and vegetables।लाल रंग के फल सब्जियों के फायदे

 benefits of red colored fruits and vegetables।लाल रंग के फल सब्जियों के फायदे
Red colour fruit, Straberry

विशेषज्ञों का कहना है कि प्रेम का प्रतीक माने जाने वाले लाल रंग के फलों और सब्जियों में बहुत से पोषक तत्व पाए जाते हैं। 

इनमें प्रमुख रूप से मौजूद होता है लाइकोपीन, इलेकि एसिड, क्वेरसेटिन, हेस्मेरिडिन, फाइबर, विटामिन ए और सी आदि। यही कारण है कि इनके सेवन से विभिन्न प्रकार के कैंसर से सुरक्षा मिलती है।

 लाल रंग के फल  शरीर की फ्री रेडिकल्स से रक्षा करते हैं। ब्लड प्रेशर को सामान्य रखते हैं और बैड कोलेस्ट्राल की मात्रा कम करते हैं। ये पेट के लिए फायदेमंद होने के साथ हृदय रोगों से बचाते हैं। इसके साथ ही ये जोड़ों के दर्द से भी राहत दिलाते हैं।

तो आईए जानतें हैं लाल रंग के फल सब्जियों के फायदे

 


1.चैरी

लाल रंग की नन्हीं सो चैरी गुणों के मामले बड़ी फायदेमंद है। इसमें फाइबर, विटामिन ए, पोटेशियम, कैल्शियम, फोलिक एसिड जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। 

इसे प्रेम का प्रतीक भी कहा जाता है। ये शरीर को पोषण देने के साथ ही संक्रमण से भी रक्षा करती है। विटामिन ए और एंटीऑक्सीडेंट्स का प्रमुख स्रोत होने के कारण यह इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में सहायक होती है। 

ये हृदय रोगों से रक्षा करती है साथ ही हड्डियों को मजबूत करने में भी कारगर है। ये किडनी और लिवर के लिए बहुत फायदेमंद है।


2.लाल मिर्च : 

स्वाद में भले ही ये तीखी हो, लेकिन गुणों के मामले में इसका कोई जवाब नहीं। विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होने के साथ ही इसमें कैरोटेनायड्स भी काफी मात्रा में पाया जाता है।

 यह शरीर को कुदरती रूप से गर्म रखने में मदद करती है। यही कारण है कि ये कैंसर के सेल्स को समाप्त करने में कारगर होती है। इसमें पाया जाने वाला कैपसेशिन नामक पोषक तत्व शरीर को दर्द से राहत दिलाने में भी कारगर है।

 यह शरीर के मेटाबॉलिज्म को सही बनाए रखने में मदद करता है। इसमें आयरन मौजूद होता है, जो हीमोग्लोबिन के लेवल को सही रखता है। यह ब्रेन के लिए भी फायदेमंद होती है साथ ही अच्छी नींद लाने में सहायक है। ये विभिन्न प्रकार के संक्रमण से भी सुरक्षित रखती है।



3.स्ट्राबेरी


कुछ साल पहले स्ट्राबेरी केवल बड़े शहरों में ही मिल पाती थी लेकिन धीरे-धीरे इसका उत्पादन बढ़ने पर अब ये लाल रंग का फल हर मौसम में उपलब्ध है। 

स्ट्राबेरी न केवल विभिन्न प्रकार के विटामिंस फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है, बल्कि इसमें काफी मात्रा में पोटेशियम व मैगनीज भी पाया जाता है। ये सोडियम फ्री होने के साथ ही फैट फ्री व कोलेस्ट्राल फ्री भी होती है। यही कारण है कि इसके सेवन से विभिन्न प्रकार के संक्रमण से रक्षा होती है ये शरीर को ऊर्जा देने का भी काम करती है।


4.लाल अंगूर 

लाल अंगूर इनमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स इम्यून सिस्टम को दुरुस्त रखने के साथ ही ब्लड प्रेशर को सही रखने में मदद करते हैं।

 इनमें विटामिन ए, बी-1, all-2, बी-6 और सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इनमें शरीर के लिए लाभदायक इलैजिक एसिड व सल्फर भी पाया जाता है। 

ये पाचनतंत्र को सही रखने के साथ ही ब्रेन लिए भी फायदेमंद होते हैं। यह बैड कोलेस्ट्राल को कम करने में मदद करते हैं। ये कैंसर के सेल्स को भी समाप्त करने में मदद करते हैं। इनमें काफी मात्रा में पानी और फ्रक्टोस  भी पाया जाता हैं जो शरीर में पानी की कमी दूर कर ऊर्जा प्रदान करता हैं।


5.सेब

लाल रंग के सेब के तो कहने ही क्या कारण ये न केवल पेट के लिए फायदेमंद होता है, बल्कि हृदय रोगों से रक्षा करने के साथ ही प्रेशर को सामान्य रखने में भी मदद करता है। 

ये कैंसर के सेल्स को भी नष्ट करने में मदद करता है साथ ही मोटापे को कम करने में मददगार होता है। इसमें पाया जाने वाला साल्यूबर फाइबर गुड कोलेस्ट्राल बढ़ाने में मदद करता है।


 सेब में मौजूद विटामिन सी इम्यून सिस्टम को दुरुस्त रखने में सहायक होता है। ये विभिन्न प्रकार के कैंसर के सेल्स को कम करने में भी मदद करता है। सबसे खास बात यह है कि सेब के सेवन याददाश्त सही रहती है। इसलिए इसे ब्रेन फ्रूट भी कहा जाता है।

सेब याददाश्त को दुरुस्त रखने के साथ ही आंखों की रोशनी को भी सही रखता हैं। इनमें कैल्शियम, मैंगनीज, जिंक, मैग्नीशियम, कॉपर, आयरन, पोटेशियम जैसे पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं। ये मांसपेशियों और जोड़ों को मजबूत बनाए रखने में मददगार होते हैं।


6.अनार

अनार विटामिन सी,भी व के प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसमें फॉलेट और पोटेशियम भी मौजूद होता है ये शरीर में खून की कमी होने से रोकता है साथ ही शरीर के किसी हिस्से में चोट लग जाने पर बहने वाले खून को रोकने में सहायक होता है। 


इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स कैंसर के सेल्स को खत्म करने में मदद करते हैं। यह त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद होता है। इम्यून सिस्टम को दुरुस्त रखने के साथ ही यह हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में कारगर है। 

गौरतलब है कि हाई ब्लड प्रेशर के कारण विभिन्न प्रकार के हृदय रोग होने की आशंका बढ़ जाती है। अनार ब्लड प्रेशर को सही रखने में मददगार होता है। ये कई प्रकार के बैक्टीरिया और फंगस से भी बचाव करता है। यह गले की खराश दूर करने के अलावा अच्छी नींद लाने में भी सहायक है।



7.टमाटर


टमाटर लगभग हर खानपान का हिस्सा है। इसमें मंचूर मात्रा में लाइकोपीन पाया जाता है। इसके साथ ही यह एंटीऑक्सीडेंट्स का भी प्रमुख सात है।


 ये इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के साथ ही दांतों और और मसूढ़ों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। इसमें विटामिन ए, बी-6. सी और के पाया जाता है। इसमें फोलेट और पोटेशियम भी मौजूद होता है।

 इसमें मैग्नीशियम, फास्फोरस, कॉपर आदि खनिज तत्व प्रमुख रूप से पाए जाते हैं। यह आंखों की रोशनी को सही रखने में मदद करता है। ये रंगत निखारने के साथ ही हड्डियों को मजबूत करता है। यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने में मदद करता है।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी