सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Crying is also beneficial for good health। अच्छी सेहत के लिए रोना भी फायदेमंद होता हैं।

 Crying is also beneficial for good health। अच्छी सेहत के लिए रोना भी है फायदेमंद होता हैं

Weeping


जिस प्रकार हंसना सेहत के लिए फायदेमंद है उसी तरह रोना भी कम फायदेमंद नहीं। हाल ही येल • यूनिवर्सिटी द्वारा किए एक शोध में पाया गया कि रोना सेहत के लिए लाभदायक होता है।

 शोध के अनुसार अगर कष्टप्रद स्थिति में भी आंख से आंसू नहीं आते हैं तो तुरंत चिकित्सक को दिखाना चाहिए क्योंकि यह एक असामान्य स्थिति है। 

यह भी ध्यान रखें कि रोना कमजोरी की निशानी नहीं है बल्कि स्वास्थ्य संबंधी कई परेशानियों से बचने का उपाय है। अध्ययन में पाया गया है कि रोने के बाद त्वचा की संवेदनशीलता बढ़ जाती है और रोने वाले की सांसें गुहरी चलने लगती है। यह दोनों बातें सेहत की दृष्टि से अच्छी मानी जाती है।


क्यों आते हैं आंसू


चिकित्सा विज्ञान के अनुसार हमारी आईबाल (नेत्र गोलक) और पलकों के बीच लेक्रिमल ग्लेंड (अश्रु ग्रन्थि) हैं, जहां से आंसू निकलते हैं। 

जब हम पलकें झपकाते हैं तो फ्ल्यूड हमारी आंखों पर फैल जाता है और फिर अश्रु ग्रंथि से निकलने लगता है। जब आंसू ओवरफ्लो होते हैं तो गालों से लुढ़कने लगते हैं और नाक भी बहने लगती है।


आंखों के लुब्रिकेंट


चिकित्सा विज्ञान के अनुसार आंसू तीन तरह के होते हैं। एक बहुत कम मात्रा (24 घंटे में लगभग एक ग्राम) में निकलते हैं और हमें पता भी नहीं चलता, ये हिडन आंसू हमारी आंखों के लिए लुब्रिकेशन और संरक्षण का काम करते हैं। 


आंसूओं की दूसरी किस्म है आंखों में धूल या धुआं लगने या प्याज काटने पर निकलने वाले आंसू। 

ये जलन के विरुद्ध आंखों की सुरक्षात्मक प्रतिक्रिया है, जिसका भावनाओं से कोई लेना-देना नहीं होता। चिकित्सा विज्ञान भी मानता है कि हम असल में तब रोते हैं, जब सुखी या दुखी होते हैं या तनाव में होते हैं।


तनाव करते हैं हल्का


हमारे ब्रेन में भावनाओं को नियंत्रित करने वाले सिस्टम को लिम्बिक कहते हैं। यह वायर के मजबूत नेटवर्क से ऑटोनोमिक नर्स प्रणाली से जुड़ा हुआ है। भावनाओं की तरह इस पर हमारा कोई नियन्त्रण नहीं है। 

भावनाएं हमारे टोनोमिक नर्स सिस्टम को और यह सिस्टम हमारी अश्रु ग्रंथि को संदेश भेजता है और आंसू निकलने लगते हैं। कभी-कभार रोने से शरीर में लिसोजाइम लिक्विड स्त्रावित होता है जो शरीर से बैक्टीरिया दूर करता है। रोने को कुछ कमजोरी बताते हैं पर सही मायनों में यह तनाव घटाता है, दिल हल्का करता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह