सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बथुआ [chinopodium album]

#1.बथुआ [Chenopodium album]


बथुआ रबी के मोसम में फसलों के साथ उगनें वाला अनचाहा पौधा हैं,जो कही भी सहजता से उग सकता हैं।

बथुआ का scientific नाम चिनोपोडियम एलबम हैं.और यह चिनोपोडिएसी परिवार का सदस्य हैं.

भारत के अलग - अलग भागों में इसके अलग - अलग नाम है जैसें गुजरात में चिलनी भाजी,मध्यप्रदेश में चिला,बंगाली में बेटू साग कहतें हैं.
चरक संहिता में इसे वास्तुक नाम से पुकारा गया हैं.और इसके दो प्रकार गौड़वास्तुक और यवशाक बतायें गये हैं
सब्जी बथुआ
                    बथुआ [chenopodium album]

#2.बथुआ की प्रकृति 


आयुर्वैदानुसार बथुआ की प्रकृति त्रिदोषनाशक होकर ,वात,पित्त और कफ का संतुलन करता हैं.बथुआ प्रकृति में थोड़ा गर्म होता है। 

#3.संघटन 


  नमी                कार्बोहाइड्रेट.            प्रोटीन      89.5%.              3%.                    3.6%



खनिज पदार्थ.        वसा                       फायबर    2.6%.               0.4%.                     0.8%


             
  कैल्शियम.                   फाँस्फोरस.             आयरन

 150 mg.                  80 mg.                               4.2mg



 केरोटीन.            राइबोफ्लेविन.           नायसिन
1740 micro.     0.14 mg.               0.6mg



विटामिन c.       ऊर्जा
80 mg.           30 kcal.                               
                                             [per 100 gm]



 #4.औषधि के रूप में बथुआ



# कुपोषण [malnutrition] में :::


बथुए में प्रचुरता में आयरन,कैल्सियम,थायमिन,नायसिन और राइबोफ्लेविन पायें जातें हैं.

यदि नियमित रूप से बथुए का किसी भी रूप में सेवन किया जावें तो मातृ - शिशु कुपोषण को समाप्त किया जा सकता हैं,जो आज विकासशील और अल्पविकसित राष्ट्रों की विकट समस्या बनी हुई हैं.

# सफेद दाग [Lucoderma] में :::


बथुए के पत्तियों में शरीर में मेलोनिन  को बढ़ानें वालें तत्व प्रचुरता में पायें जातें हैं,अत: सफेद दाग की समस्या से पीड़ित व्यक्ति को बथुए का रस सफेद दाग पर नियमित रूप से लगाना चाहिये.

 इसके अलावा इसकी उबली हुई पत्तियों में  हल्दी मेथी बीज और  धनिया  पावड़र डालकर सेवन करना चाहियें।

# नेत्र रोगों में :::


बथुआ विटामिन ए का अच्छा स्त्रोत माना जाता हैं,इसके सेवन से आँखों की ज्योति बढ़ती हैं.रंतोधी होनें पर इसका सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता हैं.

# कब्ज और पेट दर्द में :::


बथुए में पाया जानें वाला फायबर कब्ज को नष्ट कर खुलकर पाखाना लाता हैं.इसके अलावा यदि पेटदर्द की शिकायत हो तो बथुए का रस गर्म कर दो - तीन चम्मच पीलानें से पेटदर्द बंद हो जाता हैं.

बच्चों को पेट में कीड़ों की समस्या हो तो रोज रात को दो से पाँच चम्मच बथुए का रस पीलाना फायदेनंद साबित होता हैं.

 एसीडीटी में इसका रस मिस्री मिलाकर सेवन करनें से पेट़ की जलन शांत होती हैं.


# एनिमिया में :::


बथुआ में पाया जानें वाला आयरन खून की कमी को समाप्त करता हैं.इसके लिये बथुए का सेवन सब्जी के रूप में या उबालकर किया जा सकता हैं.

# गठान और फोड़ें फुंसियों पर :::


फोड़ें फुंसियों पर हल्दी के साथ बथुए को बाटकर लगानें से फोड़ें जल्दी सुख जातें हैं.इसके अलावा शरीर पर गांठ हो तो नमक और अदरक के साथ बथुए को गर्म कर गांठ पर रात को बांधनें से गठान गल जाती हैं.

सिर में जुँए होनें पर बथुए को पानी में उबालकर इस उबले हुये पानी से सिर धोयें ,जुँए होनें पर मर जायेगी.

# स्तभंक और वीर्यवर्धक :::


बथुए की सब्जी घी के साथ बनाकर खानें से व्यक्ति की स्तभंन शक्ति और वीर्य की वृद्धि होती हैं.बथुए का रायता बनाकर खानें से वीर्य गाढ़ा होता हैं.

# पीलिया में :::

बथुए के बीजों को पीसकर सुबह - शाम 5 ग्राम के अनुपात में शहद मिलाकर खानें से पीलिया समाप्त हो जाता हैं,तथा लीवर की कार्यपृणाली सुधरती हैं.

# दर्द निवारक के रूप में :::


बथुए को 300 ml पानी में तब तक उबालें जब तक पानी 50 ml न रह जावें तत्पश्चात इस पानी को सूप की भाँति पीनें से सभी प्रकार के दर्द में आराम मिलता हैं.

# बुखार में


बथुये के 100 ग्राम रस में हल्दी आधी चम्मच और चार पाँच पीसी हुई काली मिर्च मिलाकर पीनें से मलेरिया और संक्रामक बुखार में फायदा होता हैं.और चिकनगुनिया बुखार में होनें वाला जोंड़ों का दर्द नियत्रिंत होता हैं.इसके रस से बुखार की गर्मी भी शांत होती हैं.

#रोग प्रतिरोधक क्षमता में

बथुआ रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ानें में बहुत उपयोगी साबित हुआ हैं.इसके लियें बथुए को सब्जी या उबालकर नियमित सेवन करना चाहियें।

#मूत्र की जलन में


रोज रात को बथुए के रस में नमक,जीरा,और निम्बू का रस मिलाकर पीनें से मूत्र की जलन शांत हो जाती हैं.


# पथरी में :::


किडनी की पथरी को निकालने के लिए बथुआ बहुत उत्तम औषधि हैं । नियमित रूप से बथुए का रस पीनें से किडनी की पथरी निकल जाती हैं और किडनी स्वस्थ रहती हैं ।


# कैंसर में :::


बथुए में एमिनो एसिड़ Amino acid प्रचुरता से मिलता हैं जो शरीर में नई कोशिका का निर्माण करता हैं और कैंसरग्रस्त कोशिकाओं की मरम्मत कर उन्हें स्वस्थ बनाता हैं ।

# वजन घटाने में :::


बथए को सब्जी के रूप में खानें से मोटापा नहीं होता हैं और वजन बहुत तेजी से घटता हैं । बथुआ खानें से बहुत जल्दी पेट भरनें का आभास हो जाता हैं । जिससे मोटापा कम होता हैं।


# पायरिया में बथुआ के फायदे

बथुआ की कच्ची पत्तियों में पर्याप्त मात्रा में विटामीन सी पाया जाता हैं अत : बथुए की पत्तियों को चबानें से पायरिया की समस्या दूर होती हैं और मुंह से दुर्गंध आनें की समस्या का समाधान होता हैं । 


# लकवा होनें पर बथुआ के फायदे


बथुए के पत्तों का रस गर्म कर तीन चार चम्मच लकवा रोगी को पिलानें से लकवा ठीक होनें की संभावना बढ़ जाती हैं ।

# पाइल्स होनें पर बथुआ के फायदे


बथुए में मोजूद फायबर मल चिकना कर आसानी से शरीर से बाहर करता हैं अत:जिन लोगों को पाइल्स की शिकायत रहती हैं उन्हें बथुए के सेवन से पाइल्स के कारण होनें वाली जलन और दर्द नहीं नहीं होता हैं ।

# माहवारी के समय होने वाले पेटदर्द को कैसे रोकें

बथुआ के दस ग्राम बीजों को एक गिलास पानी में उबाल लें,जब पानी आधा रह जाए तब इसे ठंडा कर दिन में दो बार सुबह शाम के हिसाब से पी लें माहवारी के समय होने वाला पेट दर्द नहीं होगा। 

# गर्भाशय की सफाई में सहायक बथुआ

बच्चा पैदा होने के बाद प्रसूताओं का गर्भाशय ठीक तरह से साफ नहीं हो पाता है फलस्वरूप प्रसूता को बुखार और हाथ पांव दर्द बना रहता है। इस समस्या को समाप्त करने के लिए बथुआ के बीज 10 ग्राम और अजवायन 3 ग्राम मिलाकर आधा लिटर पानी में उबाल लें, आधा रह जाए तब इसे सुबह शाम 5 - 5 मिलीलीटर प्रसूता को दें बहुत आराम मिलेगा।


• मलेरिया के लक्षण




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी