सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

स्वास्थ और पर्यावरण

स्वास्थ और पर्यावरण :::


बिना पर्यावरण के मानवीय जीवन असंभव हैं.हमारें आसपास मोजूद पेड़ - पौधें न केवल हमें प्राणवायु आक्सीजन देतें हैं,बल्कि भोजन से लेकर वस्त्र और अन्य मानवीय ज़रूरत जंगल ही प्रदान करतें हैं,कुल मिलाकर कहनें का यहीं तात्पर्य हैं,कि पैड़-पौधों के बिना मानवीय अस्तित्व संभव नहीं हैं. मनुष्यों की प्रकृति के प्रति बढ़ती हुई लालची प्रवृत्ति ने पर्यावरण का क्षरण तो किया ही हैं,उससे कहीं अधिक मानव नें अपना स्वंय का नुकसान कर लिया हैं,जो स्वस्थ जीवनशैली healthy lifestyle के सिद्धान्तों के पूर्णत: विपरीत हैं,आईयें जानतें हैं,मनुष्यों के स्वास्थ पर पर्यावरणीय क्षरण का क्या नुकसान होता हैं.

पर्यावरण क्षरण के नुकसान :::

वैश्यावृत्ति के बारें में जानियें


1.विश्व में ब्राजील अपनें घनें जंगलों, विविधतापूर्ण वनस्पतियों और सदा नीरा रहनें वाली नदियों (river) के कारण विश्व पर्यावरण (world environment) का फेफड़ा कहलाता हैं,लेकिन जबसे इन जंगलों,नदियों और वनस्पतियों पर मनुष्य की लालची निगाह पड़ी हैं,तभी से ये लगभग लुप्त होनें की कगार पर खड़ें हैं.सदा आक्सीजन (oxygen) से संतृप्त रहनें वाली पुण्य सलिला पृथ्वी (earth) पर अब आक्सीजन मशीन पर खड़ा होकर शुद्ध वायु  प्राप्त करनें की कोशिश में लगा हुआ हैं,लेकिन क्या कुछ घंटे के लिये आक्सीजन की उपलब्धता से स्वस्थ जीवनशैली (healthy lifestyle) प्राप्त की जा सकती हैं,निश्चित रूप से कदापि नहीं यदि मानव चाहता हैं,कि ईश्वर का दिया हुआ शरीर स्वस्थ और दीर्घायु बना रहें तो यह समुचित पैड़-पौधों और पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन के संभव नहीं हैं.

● मांडव के बारे में जानिए

2. जीव जन्तु भी स्वस्थ पर्यावरण को बनानें में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करतें हैं,लेकिन लगातार बढ़ रही मांसाहार की प्रवृत्ति ने जीव जन्तुओं के सामनें संकट़ खड़ा कर दिया हैं,शेर,गिद्ध,ओलिव रिड़ले कछुए, घरेलू गौरेया,तथा गंगा के पानी को साफ करनें वाले बैक्टेरिया लगभग विलुप्ती के कगार पर हैं.गिद्ध जो सड़े गले मांस को खाकर पर्यावरण को साफ रखते थे,एक विशेष दवा जो पशुओं के उपचार में काम आती हैं से प्रभावित मांस खाकर विलुप्त हो रहे हैं.इसी प्रकार की अनेक खतरनाक औषधियों का प्रयोग मांस उत्पादक मांस उत्पादन में करते हैं जिससे स्वाईन फ्लू (swine flu) h1N1 flu ,जैसी बीमारींयाँ  पैर पसारकर स्वस्थ जीवनशैली में बाधा बन रही हैं.

3. गर्माता हुआ वायुमंड़ल  पर्यावरणीय के साथ अनेक मानवीय नुकसान पहुँचा रहा हैं.जिनमें बाढ़,सुखा,जैसी पर्यावरणीय समस्याओं के अतिरिक्त हिम ग्लेसियरों (glacier) का तेजी से पिघलना शामिल हैं,इनके तेज़ी से पिघलनें से स्वच्छ जल के स्रोंत सिमट रहें फलस्वरूप प्रदूषित जल से होनें वाली मोंतों की सँख्या लगातार बढ़ रही हैं.हिमालय से निकलनें वाली नदियाँ गंगा,ब्रम्हपुत्र आदि विश्व की सबसे ज्यादा प्रदूषित नदियाँ बन गयी हैं,यदि जल्द इन नदियों को नहीं बचाया गया तो मानव सभ्यता सिँधु घाटी सभ्यता की तरह नष्ट हो जावेगी.


आईयें इस विश्व पर्यावरण दिवस (world environment day)पर संकल्पित होकर पर्यावरण को बचानें व स्वस्थ जीवनशैली (healthy lifestyle) के लियें एक पौधा रोपकर उसे पेड़ बनायें.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह