सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आम की खेती समस्याएँ और संभावनाँए [ mango crop ]

# 1.परिचय :::

आम की उन्नत प्रजाति
                            आम की उन्नत प्रजाति
आम को फलों का राजा कहा गया हैं.यह फल अत्यंत पोष्टिक और स्वाद में बेजोड़ होता है.जिसको कच्चे से लगाकर पकने तक बड़े चाव से भिन्न - भिन्न रूप में खाया जाता हैं.

अंग्रेजी का Mango मलयालम शब्द "मंगा" से बना है, पंद्रहवीं शताब्दी में पुर्तगाली यात्रियों ने इसे मैंगो कहा जो बाद में अंग्रेजी में भी मैंगो कहा गया।

आम दुनिया को भारत की देन हैं पांचवी सदी में बोद्ध धर्म के प्रचार के साथ यह भारत से मलेशिया, फिलीपींस, थाइलैंड आदि पूर्वी एशिया के देशों में पंहुच गया।

दसवीं शताब्दी में पारसी लोगों के साथ अफ्रीका पंहुच गया। अठारहवीं शताब्दी में आम अमेरिका पंहुच गया।



भारतीय संस्कृति में आम इस कदर रचा है कि हर सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रम में आम के पत्तों का उपयोग सजावट और पूजा में किया जाता है।

आम का वानस्पतिक नाम aam ka vansptik nam मैंगीफेरा इंडिका हैं.इसकी प्रजातियों में भिन्नता के कारण लगभग हर जलवायु और मिट्टी में इसकी खेती की जा सकती हैं.


# 2.आम की विभिन्न किस्में :::



आम की सेैंकड़ो किस्में प्रचलित हैं,जिसमें कुछ नियमित फल देनें वाली हैं,तो कुछ 2 साल में फल देती हैं.इनमें से कुछ के नाम इस प्रकार हैं.

# 3.नियमित फल देनें वाली :::


• आम्रपाली

• मल्लिका

• नीलम

• बैंगनपल्ली


# 4.एकान्तरिक फल देनें वाली :::



जो किस्में 1 वर्ष के अन्तराल में फल देती हैं,उन्हें एकान्तरिक किस्में कहतें हैं जैसें

• दशहरी

• रानीरमन्ना

• लंगड़ा

• चौंसा


• हापुस


# 5.आम का पौधा लगानें की विधि :::



आम के पौधें लगानें का सर्वोंत्तम समय जून - जुलाई रहता हैं,इसके लियें अप्रेल माह में 1.5 फीट़ चोड़ें और 1.5 फीट़ गहरे गड्डें 3 - 3 मीटर के अंतराल में खोद लें,एक माह तक इन गड्डों को खुला छोड़ दें तत्पश्चात जुलाई माह में पौधारोपण करतें समय गोबर खाद आधी मात्रा में मिट्टी के साथ मिलाकर पौधे के आसपास भर दें.ध्यान रखें


• पोलिथीन की थैली यदि पौधे के साथ हैं,तो उसे सावधानीपूर्वक काट़ कर अलग कर दें,तत्पश्चात गड्डें के बीचों बीच पौधा रख उसके आसपास मिट्टी गिरा दें.


• ध्यान रहें पौधे की सिंचाई शाम के वक्त ही करें.


• नये पौधे को बांस की टहनी से बांधकर सहारा दें.


• पौधे के आसपास की घास हटाकर मिट्टी की सतह हल्की हल्की गेंती से खोद दें.


• पौधे की एक से दो वर्ष तक हल्की छँटाई करतें रहें.



• यदि मिट्टी में दीमक की समस्या हो तो पौधे के आसपास 10 सेमी के छेद करके उसमें क्लोरोपायरीफास दवा 50 मिली प्रति 15 लीटर की दर से प्रति पौधा 250 ml छेद में भरकर छेद मिट्टी से बंद कर दें.

# 7.आम की प्रमुख समस्या एकान्तरिक फलन :::



भारत में आम की फसल प्रति दूसरें वर्ष आनें से किसान भाईयों को काफी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा हैं,इस विषय पर शोधपरांत स्पष्ट हुआ कि जिन पौधों में जिब्रेलिन जैसें उत्तेजक पदार्थों की मात्रा अधिक पाई गई उनमें पेड़ की वानस्पतिक वृद्धि अधिक होती हैं फलस्वरूप फलन नही हो पाता  इसके लिये शोधकर्ताओं ने किसानों को कल्टार विधि की अनुशंसा की हैं.


# 8.कल्टार विधि :::


कल्टार 25% पेक्लोब्यूट्राझोल मुख्य तत्व वाला वृद्धि निरोधक हार्मोंन हैं,जो कि वर्ष में एक बार या दो वर्ष में उपयोग करने की अनुशंसा की जाती हैं.



इसके लियें पेड़ की प्रति एक वर्ष उम्र पर एक मिली पेक्लोब्यूट्राझाल आधा लीटर पानी में मिलाकर  10 सेमी के पतलें सरियों से निर्मित गड्डों में भर देतें हैं.इन गड्डों को मिट्टी से भरकर सिंचाई कर दी जाती हैं,ताकि दवा का शोषण जड़ों द्धारा कर लिया जावें.


कुल्टार विधि के प्रयोग का सही समय अक्टूबर नवम्बर के मध्य होता हैं.कुल्तार विधि का प्रयोग प्रत्येक वर्ष या पेड़ पर फलन की दशा देखकर किया जाना चाहियें.



# 9.आम के प्रमुख कीट़ व बीमारियाँ :::


# एन्थ्रोक्नोज :::


यह बीमारी फंफूद (कोलेटोट्राइकम) से पैदा होती हैं,जो फल तोड़ने के बाद  जब नये प्ररोह विकसित होतें हैं,तब होती हैं,इसके प्रभाव से नये प्ररोह नष्ट हो जातें हैं.

 एन्थ्रोक्नोज का उपचार

इस बीमारी से बचाव हेतू नीम तेल 100 ग्राम प्रति लीट़र पानी में मिलाकर नये प्ररोह बनते समय छिड़काव करना चाहियें, तत्पश्चात पन्द्रह बीस दिनों के अन्तराल पर पुन: इस घोल का छिड़काव करना चाहियें.
जब फल मक्का के दानें बराबर होतें हैं,तब भी इस घोल का छिड़काव करना चाहियें.

# आम का भुनगा :::



जब आम पर फूल आये हो तब इस बीमारी का प्रकोप आम पर होता हैं,इस बीमारी से बचाव हेतू जैविक कीट़नाशक का प्रयोग 100 ग्राम प्रति दस लीट़र पानी में मिलाकर करना चाहियें.

# बैक्टेरियल केंकर



यह रोग एक प्रकार के बैक्टेरिया जेन्थोमोनास मैंजिफेरी से होता हैं.

इसमें पत्तियों पर छोट़े अनियमित तथा कोणीय जलयुक्त घाव बनतें हैं.तथा पत्तीयाँ पीली होकर गिरनें लगती हैं.


बेक्टेरियल केंकर का उपचार 

इस बीमारी से बचाव हेंतू काँपर फँफूदनाशक का प्रयोग नियमित अंतराल पर करना चाहियें, तथा आम की नियमित साफ सफाई करना चाहियें.



# पत्ती धब्बा रोग (अल्टनेर्या)


यह रोग भी फंफूद के कारण होता हैं,इसमें पत्तियाँ पर गोलाकार धब्बें बनतें हैं जो कि बाद में पूरी पत्ती पर फैल जातें हैं.बाद में यह पत्तियाँ असमय गिर जाती हैं.



 पत्ती धब्बा रोग का उपचार


रोगग्रस्त भाग को काटकर इकठ्ठा करलें और जला दें,रोग से बचाव हेतू काँपर फफंदनाश का छिड़काव करें.


# सफेद रतुआ या Powdering mildue


यह रोग भी फफूंद के कारण होता हैं,इस रोग में आम की पत्तियाँ, फूलों,फल और डंठलों पर सफेद पावड़र सा पदार्थ जम जाता हैं.

इस रोग से ग्रसित फल,फूल गिर जातें हैं.और पत्तियाँ बैंगनी - गुलाबी रंग की हो जाती हैं.

# सफेद रतुआ का उपचार


रोगी पौधें पर 5 किलों प्रति पौधे की दर से सल्फर पावड़र का छिड़काव करें.

फूल आनें पर कार्बेंडाजिम 0.1% या नीम तेल 500 मिली प्रति 5 लीटर पानी या ट्रायेडमार्फ 0.1% का छिड़काव करें.

# कुरचना रोग



यह रोग ग्राफ्टिंग वालें पौधों में होनें की संभावना अधिक होती हैं.इस रोग से संक्रमित पौधा अधिक शाखाएँ उत्पन्न करता हैं,फलस्वरूप पौधें की सीमित वृद्धि होती हैं.

# उपचार


इस रोग का प्रामाणिक उपचार अभी तक अनुपलब्ध हैं.यदि ग्राफ्टिंग के समय उत्तम किस्म के पौधें का चयन किया जायें तो रोग होनें की संभावना समाप्त की जा सकती हैं.

पौधे के संक्रमित भाग को काटकर जला देंना चाहियें.

/////////////////////////////////////////////////////////////////////////

एकीकृत पोषक तत्व प्रबन्धन क्या हैं जानियें इस लिंक पर

/////////////////////////////////////////////////////////////////////////


# 10.आम की सघन बागवानी :::



आम की सघन बागवानी से किसान अधिक उपज के साथ मुनाफा भी दुगना तिगुना कर सकतें हैं,इस विधि में एक हजार से डे़ढ़ हजार पौधे प्रति हेक्टेयर की दर से रोपे जातें हैं.सघन बागवानी से पेड़ की अनियत्रिंत वृद्धि पर भी विराम लगता हैं,और नियमित फलन प्राप्त होता हैं.

# 11.आम की छंटाई :::



सघन बागवानी में पेड़ की शाखाँए एक दूसरें से न उलझे और पेड़ बेहतर फल देता रहें,इस उद्देश्य से पेड़ की कमज़ोर टहनीयों और शाखाओं को काट देना चाहियें. इससे पेड़ों के बीच अन्तरवर्तीय फसलें जैसें हल्दी, अदरक ,प्याज,आलू आदि भी ली जा सकती हैं.

# 12.सिंचाई :::



नये पौधों के लिये टपक सिंचाई पद्धति सर्वोत्तम होती हैं,यदि यह पद्धति उपलब्ध नही हो तो गर्मीयों में प्रति सप्ताह और सर्दियों में पन्द्रह से बीस दिनों के अन्तराल पर पारपंरिक विधि से  सिंचाई करते रहना चाहियें.


# 13.संभावनाँए :::


भारत विश्व का सबसे बड़ा आम उत्पादक देश हैं,भारत में उत्पादित आम गुणवत्ता,स्वाद और पौष्टिकता के मामलें में बेजोड़ होता हैं,यही कारण हैं,कि भारत में उत्पादित आमों की मांग लगातार अन्तर्राष्ट्रीय बाजारों में बनी हुई हैं.
भारत में वर्तमान में फलों के अन्तर्गत आनें वाले कुल क्षेत्रफल के 36% भाग पर आम की खेती की जाती हैं,इसमें भी उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश प्रमुख उत्पादक राज्य हैं.


म.प्र.में  नर्मदा, चम्बल, शिप्रा,बेतवा,आदि नदियों के किनारें वाला क्षेत्र अाम उत्पादन के दृष्टिकोण से असीम संभावनाओं वाले क्षेत्र हैं.इसके अलावा जो किसान आम की बागवानी करना चाहतें हैं,उनके लिये निम्न सुझाव हैं.



• किसान यदि बेहतर उपज और दाम देनें वाली किस्मों का चयन कर आम की खेती करें,तो कुछ ही सालों में भारी मुनाफा कमा सकता हैं.


• यदि आम की उपज के साथ इसके पोधें तैयार कर नर्सरी बना ली जायें तो पौधें की बिकवाली से भी लाभ कमाया जा सकता हैं.


• आम के बाग से निकलनें वालें पत्तों से कम्पोस्ट और वर्मी कम्पोस्ट़ बनाकर भी किसान आर्थिक लाभ हासिल कर सकतें हैं.इसके अलावा आम के बाग में मधुमक्खी पालन करनें से आम का फलन भी अच्छा होता हैं,और अतिरिक्त आमदानी भी मिलती हैं.


आम के इन फायदों से परिचित होनें के कारण ही शायद हमारें पूर्वजों ने कहा हैं "आम तो आम गुठलियों के भी दाम "

• सिंघाड़े के फायदे

० कद्दू के औषधीय उपयोग


प्रश्न :: भारत के अलावा और किन देशों में बहुतायत से आम पैदा होता हैं?

उत्तर : भारत के अलावा चीन, मैक्सिको, थाइलैंड, पाकिस्तान और स्पेन आम के प्रमुख उत्पादक देश हैं। और आम उत्पादन में भारत के बाद चीन दूसरा, मैक्सिको तीसरा, थाइलैंड चौथा और पाकिस्तान पांचवां स्थान रखता हैं।

प्रश्न :: आम भारत का राष्ट्रीय फल हैं भारत के अलावा भी यह कुछ देशों का राष्ट्रीय फल हैं उनके नाम बताइए ?

उत्तर:: भारत के अलावा आम पाकिस्तान,और फिलीपींस का राष्ट्रीय फल हैं।

प्रश्न :: यूरोप में आम का सबसे बड़ा उत्पादक देश कौंन सा हैं ?

उत्तर :: यूरोप में आम का सबसे बड़ा देश स्पेन हैं।


• गुड़मार के औषधीय गुण और खेती की जानकारी






टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू  आयुर्वेद की विशिष्ट औषधि हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके ल

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER

PATANJALI BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER  पतंजलि आयुर्वेद ने high blood pressure की नई गोली BPGRIT निकाली हैं। इसके पहले पतंजलि आयुर्वेद ने उच्च रक्तचाप के लिए Divya Mukta Vati निकाली थी। अब सवाल उठता हैं कि पतंजलि आयुर्वेद को मुक्ता वटी के अलावा बीपी ग्रिट निकालने की क्या आवश्यकता बढ़ी। तो आईए जानतें हैं BPGRIT VS DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER के बारें में कुछ महत्वपूर्ण बातें BPGRIT INGREDIENTS 1.अर्जुन छाल चूर्ण ( Terminalia Arjuna ) 150 मिलीग्राम 2.अनारदाना ( Punica granatum ) 100 मिलीग्राम 3.गोखरु ( Tribulus Terrestris  ) 100 मिलीग्राम 4.लहसुन ( Allium sativam ) 100  मिलीग्राम 5.दालचीनी (Cinnamon zeylanicun) 50 मिलीग्राम 6.शुद्ध  गुग्गुल ( Commiphora mukul )  7.गोंद रेजिन 10 मिलीग्राम 8.बबूल‌ गोंद 8 मिलीग्राम 9.टेल्कम (Hydrated Magnesium silicate) 8 मिलीग्राम 10. Microcrystlline cellulose 16 मिलीग्राम 11. Sodium carboxmethyle cellulose 8 मिलीग्राम DIVYA MUKTA VATI EXTRA POWER INGREDIENTS 1.गजवा  ( Onosma Bracteatum) 2.ब्राम्ही ( Bacopa monnieri) 3.शंखपुष्पी (Convolvulus pl

होम्योपैथिक बायोकाम्बिनेशन नम्बर #1 से नम्बर #28 तक Homeopathic bio combination in hindi

  1.बायो काम्बिनेशन नम्बर 1 एनिमिया के लिये होम्योपैथिक बायोकाम्बिनेशन नम्बर 1 का उपयोग रक्ताल्पता या एनिमिया को दूर करनें के लियें किया जाता हैं । रक्ताल्पता या एनिमिया शरीर की एक ऐसी अवस्था हैं जिसमें रक्त में हिमोग्लोबिन की सघनता कम हो जाती हैं । हिमोग्लोबिन की कमी होनें से रक्त में आक्सीजन कम परिवहन हो पाता हैं ।  W.H.O.के अनुसार यदि पुरूष में 13 gm/100 ML ,और स्त्री में 12 gm/100ML से कम हिमोग्लोबिन रक्त में हैं तो इसका मतलब हैं कि व्यक्ति एनिमिक या रक्ताल्पता से ग्रसित हैं । एनिमिया के लक्षण ::: 1.शरीर में थकान 2.काम करतें समय साँस लेनें में परेशानी होना 3.चक्कर  आना  4.सिरदर्द 5. हाथों की हथेली और चेहरा पीला होना 6.ह्रदय की असामान्य धड़कन 7.ankle पर सूजन आना 8. अधिक उम्र के लोगों में ह्रदय शूल होना 9.किसी चोंट या बीमारी के कारण शरीर से अधिक रक्त निकलना बायोकाम्बिनेशन नम्बर  1 के मुख्य घटक ० केल्केरिया फास्फोरिका 3x ० फेंरम फास्फोरिकम 3x ० नेट्रम म्यूरिटिकम 6x