सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सावधान : कोरोनाकाल में कार में बेठते ही कभी न करें ये काम

सावधान : कोरोनाकाल कार में बेठते ही कभी न करें ये काम


भारत में कार रखना एक समय उच्च वर्ग का स्टेटस सिंबल बन गया था, किन्तु आज के कोरोनाकाल के परिप्रेक्ष्य में देखा जाए तो कार दैनिक जरूरत का एक अंग बन गई है क्योंकि कोरोनावायरस के संक्रमण के मद्देनजर हर कोई सार्वजनिक परिवहन के बजाय निजी वाहन को ही वरीयता देने लगा है। 

गर्मी और कोरोनाकाल है और कार घर के बाहर या पार्किंग में 45 से 48 डिग्री सेल्सियस तापमान में  खड़ी खड़ी भट्टी बन जाती हैं, और यदि हमें कहीं जानों हो तो कार में बैठते ही Air-conditioner चालू कर देते हैं , स्वास्थ के दृष्टिकोण से यह बिल्कुल भी उचित नहीं है आईए जानते हैं आखिर ऐसा क्यों नहीं करना चाहिए
सावधान : कार में बेठते ही कभी न करें ये काम



• कार के अंदर की अधिकांश संरचना प्लास्टिक से निर्मित होती हैं जब कार के शीशे चढ़े हो और कार 45 डिग्री सेल्सियस तापमान में घर के बाहर खड़ी होती हैं तो कार के अंदर का तापमान लगभग 50 डिग्री सेल्सियस पहुंच जाता हैं जो किसी भी प्लास्टिक संरचना को वाष्पित करने के लिए पर्याप्त होता है,50 डिग्री सेल्सियस तापमान में कार के अंदर लगे प्लास्टिक से बैंजीन नामक  जहरीली और कैंसर कारक गैस तथा प्लास्टिक कण निकलते हैं। यदि कार के शीशे चढ़े हो और हम हम तुरंत ए.सी.चालू कर कार में बैठ जाते हैं तो कार में फैली बैंजीन और प्लास्टिक के कण सांस के माध्यम से फेफड़ों,पेट और त्वचा में चिपक जाएंगे जिससे कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती हैं।


• यदि गर्भवती स्त्री बार बार बैंजीन के सम्पर्क में आती हैं तो उसके गर्भ का विकास रुक जाता हैं। साधारण महिला को मासिक धर्म अनियमित हो सकता है और उसके अंडे का आकार सिकुड़ सकता है।

• बैंजीन गैस फेफड़ों में जातें ही फेफड़ों की आक्सीजन सोखने की क्षमता को घटा देती हैं फलस्वरूप शरीर में आक्सीजन की कमी हो जाती हैं।

• प्लास्टिक के कण सांस के माध्यम से पेट में चले जाने पर पेटदर्द, उल्टी - दस्त, एसिडिटी हो सकती हैं।

• यदि पूर्व में कार में कोई संक्रमित व्यक्ति बैठा था और कोरोनावायरस प्लास्टिक पर चिपका रह गया तो वह ए.सी.के चालू करते ही श्वसनतंत्र में प्रवेश कर सकता है।

• बार बार बैंजीन के सम्पर्क में आने से व्यक्ति का दिमागी संतुलन बिगड़ सकता है,और व्यक्ति को माइग्रेन तनाव, अवसाद में हो सकता हैं। 

• बैंजीन व्यक्ति की बोनमेरो को प्रभावित कर लाल रक्त कोशिकाओं R.B.C. का निर्माण बंद कर सकती हैं फलस्वरूप व्यक्ति के शरीर में रक्त की कमी या एनिमिया हो सकता है।


• 45 डिग्री सेल्सियस तापमान को एकाएक 23 डिग्री कर देने पर मस्तिष्क का हाइपोथेलेमस भाग यानि तापमान नियंत्रण सिस्टम प्रभावित होता हैं जिससे व्यक्ति का शरीर गर्म और हाथ पांव ठंडे होना,या अचानक शरीर ठंडा गर्म होना जैसी बीमारी हो सकती हैं।

• बैंजीन गैस के सम्पर्क में आने से नवजात शिशु के अंग काम करना बंद कर सकते हैं।

• बैंजीन गैस और प्लास्टिक के कण आंखों के सम्पर्क में आने से आंखें लाल होना,कम दिखाई देना, आंखों से पानी आना जैसी समस्या हो सकती है।

• कार के अंदर रखा अल्कोहल युक्त परफ्यूम या सेनिटाइजर वाष्पित होकर एलर्जी पैदा कर सकता है जिससे छींके आना,नाक बहना, सिरदर्द जैसी समस्या हो सकती हैं।

• कार में बैठकर सिगरेट पीने से धुंए में मौजूद बैंजीन के कण कार की दीवारों पर चिपक जाते हैं फलस्वरूप बैंजीन की सांद्रता कार में बढ़ जाती हैं जो व्यक्ति की अचानक मौत का कारण बन सकती हैं।


कार का ए.सी.चालू करने से पहले की सावधानियां


• गर्मी में कार से कहीं जाना हो तो सबसे पहले कार के शीशे और दरवाजे खोलकर ए.सी.चालू कर दें और पांच मिनट तक एक.सी.को आटो मोड़ पर चलने दें। ताकि प्लास्टिक से मुक्त हुए कण और बैंजीन गैस कार से बाहर निकल जाए

• नवजात शिशुओं को डेशबोर्ड के पास वाली सीट पर लेकर नहीं बैठें क्योंकि कुछ प्लास्टिक कण ए.सी.के आसपास भंवर बनाकर तैरते रहते हैं जो नवजात को नुकसान पंहुचा सकते हैं।


• सप्ताह में एक दिन कार के अंदर की सीट, डेशबोर्ड,ऊपर की छत,ए.सी.विंडो को वेक्यूम क्लीनर से अवश्य साफ करें।

• कार यदि अधिकांश समय खुली पार्किंग या घर के बाहर खड़ी रहती हैं तो उसमें लिक्विड परफ्यूम या हेंड सेनिटाइजर बिल्कुल भी नहीं रखें।

• कार का उपयोग करने से पहले उसके महत्वपूर्ण भागों जैसे दरवाजे, स्टियरिंग,गियर आदि को सेनेटाइजर अवश्य करें।

• कार में बैठकर सिगरेट बीड़ी कभी न पीएं।

• खुलें में पार्क  रखी कार में कभी सिंगल यूजेबल प्लास्टिक जैसे पानी की बोतल,कोक की बोतल कभी नहीं रखें। क्योंकि इस प्रकार के प्लास्टिक से बैंजीन और प्लास्टिक के खतरनाक कण भारी मात्रा में उत्सर्जित होते हैं।


नमस्कार दोस्तों Healthy lifestyle news ������������ पर लिखे गये लेख विश्व प्रसिद्ध स्वास्थ्य सलाहकार  द्धारा लिखे गये हैं । जो कि आयुर्वेद, होम्योपैथी, एलोपैथी,योगा, समाजशास्त्र,और स्वास्थ्य प्रबंधन में निष्णांत हैं, परंतु कोई भी नुस्खा आजमाने से पूर्व वैधकीय परामर्श अवश्य प्राप्त कर लें ।

Follow us::

Facebook ::
https://www.facebook.com/healthylifestylehome/

Pintrest :: 
httpss://pin.it/5mCzTJ0

E-mail: 
svyas845@gmail.com

Google news::: https://news.google.com/publications/CAAqBwgKMIGEowswxI67Aw

• पराली जलानें के नुकसान

• कोरोना थर्ड वेव से बचने के तरीके

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह