सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

What is Dr. Reckweg R 1 Drop used for?

 DR. RECKEWEG R 1 Inflammation drops


Ingredients :--

Apis mell. D4, Barium chlorat. D6, Belladonna D4, Calcium jodat. D4, Hepar sulf. D12, Kalium bichrom. D4, Lachesis D12, Marum verum D6, Merc. subl. cor. D5, Phytolacca D4

What is Dr. Reckweg R 1 used?


Dr.Reckweg R 1 Drop used for 

Local inflammations, acute and chronic, of catarrhal and purulent nature, with swelling of the glands. Sudden infections and high fever, with irritations of the meninges, conjunctivas and pharynx.


In particular: Inflammations and suppurations of the lymphatics of the pharynx, mainly all forms of tonsillary angina, tonsillitis, scarlet fever, otitis media, conjunctivitis, iridocyclitis, meningitis, inflammations of the maxillary sinus and of the dental roots.


Inflammations of glands; mumps, orchitis, pancreatitis. cholecystitis, appendicitis, parametritis, bartholinitis.


Acute rheumatic polyarthritis, monarthritis, arthritis urica, lymphadenitis, lymphangitis, phlegmonous inflammations, abscess, whitlow, furuncles and carbuncles, erysipelas, quinsy.


Mode of action

Apis mel: Inflammatory infiltrations, edematous swellings. Barium chlorat.: Chronic diseases with swelling and suppuration of the glands in different scrofulous affections of children.


Belladonna: Inflammatory hyperaemia of skin, of mucous membranes and glands. Pyogenic infection, cardiac irregularities. High fever. Acridity of the mucosa, delirium, moist feverish skin..


Calcium jodatum: Chronic tonsillitis of children, scrofulous increase of lymph nodes on neck and nape.


Hepar sulfuris: Tendency for catharzic inflammations and pyesis.


Kalium bichromicum: Plastic exudation of mucous membranes in nose, pharyngeal cavity and pharynx. Viscous, stringy mucus. Mucosal ulcer.


Marum verum: Adenoid vegetation, chronic catarrh of the


postnasal space.


Mercur. subl. corr.: Acute inflammations of the mucosa involving the glands, sticky perspirations.


Phytolacca: Swelling and dark reddening of the pharynx and tonsils, radiating pain up to the ears.


Dosage of R 1 Drop

In case of acute infections with high fever, in the beginning 10-15 drops in some water every 1/2 hour for 1/2-1 day.Same treatment to be followed in case of purulent inflammations (e.g. Inflammations of the tonsils or furuncles). After improvement, take same dose every 1-2 hour. After recovery it is advisable to take 10-15 drops 2-3 times a day for about a week.


Chronic inflammations: 2-3 times a day 10-15 drops.


Constitutional modifications in chronic glandular hypertrophy of children: once a day 5-8 drops in some water for a longer period of time.


Remarks 

In case of influenza, use R 6.


In case of chronic arthritis, use R 11.


In acute polyarthritis (i.e. rheumatoid arthritis) administer R 24 in alternation with R 1 every one to two hours to begin with.


In ovaritis: administer R 24 in alternation with R 1.


In adnexitis-parametritis administer additionally R 38 and R 39, 2-3 times daily.


In chronic paroxysmal appendicitis: once daily R1, R24 and


R 38, 10-15 drops of each.


In acute appendicitis until surgery: R 24 and R 38, 10-15 drops alternatively every one to two hours.


Teething difficulties: see R 35.


Bronchitis: see R 48 and R 57; if necessary also Jutussin R 8 and R 9.


Whooping cough: see Jutussin drops R 9 and syrup R 8. Muscular rheumatism and chronic rheumatism of joints: see R 11 and R 46.


Nephrolithiasis: see R27. Cysto-pyelitis: see R 18.


Pleuritis: see R 24.


Proteinuria subsequent to tonsillitis, quinsy or nephritis: administer additionally R64.


Influenza: see R6.


Pancreatitis: see R 72.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही।Nange sone ke fayde

  जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही nange sone ke fayde इंटरनेट पर जानी मानी विदेशी health website जीवन-साथी के साथ नंगा सोने के फायदे बता रही है लेकिन क्या भारतीय मौसम और आयुर्वेद मतानुसार मनुष्य की प्रकृति के हिसाब से जीवनसाथी के साथ नंगा सोना फायदा पहुंचाता है आइए जानें विस्तार से 1.सेक्स करने के बाद नंगा सोने से नींद अच्छी आती हैं यह बात सही है कि सेक्सुअल इंटरकोर्स के बाद जब हम पार्टनर के साथ नंगा सोते हैं तो हमारा रक्तचाप कम हो जाता हैं,ह्रदय की धड़कन थोड़ी सी थीमी हो जाती हैं और शरीर का तापमान कम हो जाता है जिससे बहुत जल्दी नींद आ जाती है।  भारतीय मौसम और व्यक्ति की प्रकृति के दृष्टिकोण से देखें तो ठंड और बसंत में यदि कफ प्रकृति का व्यक्ति अपने पार्टनर के साथ नंगा होकर सोएगा तो उसे सोने के दो तीन घंटे बाद ठंड लग सकती हैं ।  शरीर का तापमान कम होने से हाथ पांव में दर्द और सर्दी खांसी और बुखार आ सकता हैं । अतः कफ प्रकृति के व्यक्ति को सेक्सुअल इंटरकोर्स के एक से दो घंटे बाद तक ही नंगा सोना चाहिए। वात प्रकृति के व्यक्ति को गर्मी और बसंत में पार्टनर के साथ नंगा होकर सोने में कोई

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी