सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नपुंसकता क्या है

               नपुंसकता क्या है


🔸व्यस्त जीवनशैली, ग़लत खानपान, शरीर में पोषक तत्वों की कमी और बचपन की ग़लत आदतों के कारण पुरुषों में मर्दाना कमज़ोरी होना एक आम तकलीफ़ है। नपुसंकता यानि Impotence एक ऐसी सेक्शुअल प्रॉब्लम है जिसके कारण पुरुष को अपनी महिला पार्टनर के साथ शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है। इस बीमारी के कारण व्यक्ति महिला साथी से दूर रहने लगता है और दामपत्य जीवन का आनंद नहीं ले पाता है। सेक्स लाइफ़ में इस अधूरेपन के कारण मनमुटाव और तलाक़ तक की नौबत आ जाती है।



🔸कई बार नपुंसकता शारीरिक समस्या न होकर मनोवैज्ञानिक होती है। अक्सर कई पुरुष घबराहट, शर्म, मानसिक बीमारी या किसी डर के कारण समय पर उत्तेजित नहीं हो पाते हैं। इसी वजह से वो अपनी पार्टनर के क़रीब नहीं जाते हैं। इस तरह शारीरिक कमी न होते हुए भी यह तकलीफ़ आपको नपुंसकता का भार दे देती है।


🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂

                      *नपुंसकता क्या है?*

🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂

🔹पुरुष के लिंग में उत्तेजना न आना, उत्तेजना आने के बाद जल्दी शांत हो जाना या फिर वीर्य जल्दी स्खलित हो जाना नपुंसकता का रोग है।


🔹जिन पुरुषों में सेक्स करने की इच्छा के लिए उत्तेजना नहीं होती है वो पूरी तरह नपुंसक होते हैं। लेकिन जो पुरुष उत्तेजना के बाद किसी घबराहट या किसी अन्य वजह से जल्दी स्खलित हो जाते हैं, उन्हें आंशिक नपुंसक कहते हैं।


🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂

                    *नपुंसकता के कारण*

🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂


*नपुंसकता दो कारणों से होती है –* शारीरिक और मानसिक। ज़्यादा तनाव लेना, चिंता करना, मानसिक विकार जैसे डिप्रेशन और शारीरिक कमज़ोरी भी नपुंसकता के लिए ज़िम्मेदार है। इसके अतिरिक्त और भी नपुंसकता के कारण हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:


▪हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज़ और हृदय रोग जैसी बीमारियों के कारण नपुंसकता हो सकती है।


▪शारीरिक रूप से स्वस्थ होते हुए भी हार्मोंस में बदलाव नपुंसकता का कारण बन जाता है।


▪दुर्घटना के किसी नस के कटने या मेरुदंड में चोट लगने से भी इम्पोटेंस की समस्या हो सकती है।


▪स्टेरॉयड लेने से कोई भी व्यक्ति इम्पोटेंट हो सकता है। अक्सर वर्कआउट करने वाले और खिलाड़ी अपनी क्षमता बढ़ाने के लिए स्टेरॉयड लेते हैं, जो कि एक ग़लत बात है। इससे वो जीवन भर के लिए नपुंसक हो सकते हैं। इसलिए इसका सेवन करने से बचना चाहिए। लगातार इसके प्रयोग से वीर्य और शुक्राणु बनना बंद हो जाते हैं।


▪आज बहुत से लोग लैपटॉप को अपने प्राइवेट पार्ट यानि यौन अंगों के क़रीब रखकर इस्तेमाल करते हैं। लैपटॉप से निकलने वाली गर्मी भी इम्पोटेंस का कारण बन सकती है। इसलिए टेबल पर बैठकर काम करने की आदत डालिए।


▪हस्तमैथुन की आदत हो जाने और स्वप्न दोष का इलाज न करने से भी शुक्राणुओं की संख्या घट सकती है।


🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂

                     *नपुंसकता के लक्षण*

🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂


▪संभोग के समय जल्दी स्खलित हो जाना।


▪अपने पार्टनर से सेक्स करने की बात सोचकर ही स्खलित हो जाना या नाइटफ़ॉल अधिक होना नपुंसकता की निशानी है।


▪संभोग के समय लिंग शिथिल रहना या उसका देर तक कठोर न रहना।


🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂

                

               🙏🏻 *जागरूक रहें स्वस्थ रहें* 🙏🏻

🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂

                     *इम्पोटेंस हेल्थ टिप्स*

🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂

▪हमारे समाज में जब दम्पत्ती को कई सालों तक बच्चा नहीं होता है तो इसके लिए स्त्री को दोषी माना जाता है। समाज में उसे लोग बांझ कहकर बुलाने लगते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक सर्वे के मुताबिक इस तरह के मामलों में फ़ीमेल इनफ़र्टिलिटी के मुक़ाबले मेल इनफ़र्टिलिटी अधिक होती है। इसलिए नपुंसकता के कारण जानना आवश्यक है।

▪अगर आपको नपुंसकता के बारे में संदेह है तो आप तुरंत डॉक्टरी परामर्श लें। ऐसे मामलों में देसी प्राकृतिक घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक उपाय बहुत लाभदायक होते हैं। इनसे आशातीत परिणाम मिलते हैं और साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होते हैं। एक्सरसाइज़ और प्राकृतिक हरियाली के नज़दीक़ घूमने से काफ़ी फ़ायदा मिलता है।

▪इम्पोटेंस की प्रॉब्लम उम्र बढ़ाने के साथ साथ भी आती है। साथ ही साथ यौन इच्छा में भी कमी होने लगती है।

▪वीर्य में स्पर्म काउंट घट जाने से पुरुष बच्चा पैदा करने में असक्षम हो जाता है और पिता नहीं बन पाता है।

🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂

                      *वायाग्रा है खतरनाक


🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂


नपुंसकता को छिपाने के लिए कई लोग वायाग्रा का प्रयोग करते हैं। जिसका काफी खतरनाक साइड इफेक्ट हो सकते हैं आपको हार्ट पेशेंट भी बना सकती है इस के इलाज के लिए आप किसी डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं

♻♻♻♻♻♻♻♻♻♻

नपुंसकता क्या है


० गिलोय के फायदे


० पारस पीपल के औषधीय गुण

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट