सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

8 मार्च अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस और महिला सशक्तिकरण के भारतीय मूल्य

8 मार्च अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस और महिला सशक्तिकरण के भारतीय मूल्य



दोस्तों आज मैं आपको 8 मार्च अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस और महिला सशक्तिकरण के भारतीय मूल्य से से सम्बंधित विचारों से परिचित कराना चाहता हूँ। तो आईये जानते हैं 8 मार्च अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस और महिला सशक्तिकरण के भारतीय मूल्य के बारे मे 

वैदिककालीन भारतीय साहित्य गार्गी और मैत्रयी जैसी दार्शनिक महिला विद्वानों द्वारा अपने पुरुष समकक्ष विद्वानों के साथ किये जाने वाले उच्च कोटि के शास्त्रार्थ से भरा हुआ है ।

रानी लक्ष्मी बाई  जैसी वीरांगना ने अपनी नेतृत्व क्षमता ओर साहस से अंग्रेजों को परिचित करवाकर महिला को कमतर नहीं आंकने को विवश किया। 

अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च


यह भी पढ़े ■■■


■ वेश्यावृत्ति क्या है समाज पर इसके क्या प्रभाव होते हैं

■ भ्रष्टाचार के बारें में विस्तार पूर्वक जानकारी





स्वंत्रता संग्राम में भी महात्मा गांधी के आह्वान पर महिलाएं ऐसे समय में घर से निकलकर आगे आयी जब उनकी बिरादरी मात्र 2 प्रतिशत शिक्षित थी,साथ ही महिलाओ पर पुरूष प्रधान समाज की कई वर्जनाएं कठोरतम रूप में प्रचलित थी।


लेकिन महिला सशक्तिकरण की परिकल्पना आजादी के बाद जिस तेजी से परवान चढ़नी थी । वह नहीं चढ़ पायी क्योंकि पुरूष प्रधान समाज की वर्जनाओं का अंधा समर्थन खुद नारी शक्ति ने ही कर महिला सशक्तिकरण की धार को कुंठित किया । उदाहरण के लिये किसी की बेटी जब दूसरे के घर बहू बन कर जाती हैं तो सबसे पहले अतार्किक और अवैज्ञानिक मर्यादा की लकीर  सास या ननद द्वारा ही खींची जाती हैं ।


भारतीय सविंधान निर्माताओं ने महिला समानता को सविंधान में यथोचित स्थान दिया लेकिन शासन प्रशासन की कार्यप्रणाली ने सविंधान निर्माताओं की भावना आगे बढ़ाने में  बहुत लचीला रुख अपनाया यही कारण हैं कि सविंधान में समानता मिलने के बावजूद महिला सशक्तिकरण के कई अधिनियम बनाने पड़े। 



कई पढ़ी लिखी और प्रशासन के उच्च पदों पर बैठी महिलाएं भी पुरुष प्रधान वर्चस्व को आगे बढ़ाने का काम कर रही हैं । मैंने कई महिला प्रशासकों को देखा हैं जो रात में काम करने से मात्र इस आधार पर छूट चाहती हैं और शासन भी इस कदम में उनके साथ खड़ा रहता हैं, क्योंकि वह महिला हैं क्या यह महिला सशक्तिकरण की दिशा में महिला प्रशासकों की सही भूमिका हैं ?

समाज के शीर्ष पदों पर बैठी महिलाएं और अन्तरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त महिलाएं भी शादी के बाद या तो अपना उपनाम (surname) बदल लेती हैं या फिर अपने उपनाम के पिछे पति का उपनाम जोड़कर समाज को स्पष्ट संदेश दे रही हैं कि वह अभी पुरुष प्रधान समाज की बेड़ियों से जकड़ी हुई है। एक स्त्री अपने दांपत्य जीवन की शुरुआत युवावस्था में करती हैं और यदि स्त्री समाज के शीर्ष पद पर हैं तो निश्चित रुप से उसके पालन पोषण और इस पद तक पहुंचाने में माता पिता की अहम भूमिका रहती हैं ऐसे में एक झटके में माता पिता की पहचान त्यागकर नया उपनाम ग्रहण कर लेना "स्त्री गुलामी"का प्रतीक नहीं तो और क्या है ? 

क्या किसी पुरुष ने कभी ऐसा किया ? यदि नहीं,तो हर बार महिला ही क्यों ? प्रश्न स्वाभाविक है लेकिन शायद उत्तर बहुत अस्वाभाविक हो ?



 इसके स्थान पर इन जिम्मेदार पदों पर बैठी महिलाओं को समाज में महिला सशक्तिकरण का आदर्श प्रस्तुत करना चाहिए जिससे समानता का सही सन्देश समाज मे संचारित हो।



कई लोग महिला सशक्तिकरण का बहुत संकीर्ण अर्थ निकाल कर बैठे हैं 


✓जो पुरुष करता हैं वह महिला करें क्या यही महिला सशक्तिकरण हैं ? 


✓जो पुरुष पहने वह महिला पहने क्या यह महिला सशक्तिकरण कहा जायेगा ?


✓जो पुरुष सेवन करें वह महिला करें क्या यह महिला सशक्तिकरण हैं ?



✓क्या पुरुष महिला के वस्त्र पहनकर सशक्त बन जायेगा ?



नहीं ना बल्कि जो महिला करती हैं वह पुरुष करेगा तो वह हास्यपद और उपहास का पात्र बन जाता हैं । तो फिर महिला पुरुष के समान दिखकर सशक्त कैसे ?



 आत्मसम्मान, आत्मनिर्भरता, और आत्मविश्वास ही महिला सशक्तिकरण के 3 स्तम्भ हैं ।जिस पर टिक कर ही महिला सशक्त हो सकती हैं ,इन स्तम्भों पर टीका महिला सशक्तिकरण न केवल महिलाओं को बल्कि देश और दुनिया को नई ऊंचाइयों पर ले जायेगा ।



यह बात सही हैं कि भारत में पिछले 10 - 15 वर्षों के दौरान महिला सशक्तिकरण का नया दौर शुरू हुआ हैं पंचायत से लेकर विधानसभा और संसद महिला प्रतिनिधियों की साक्षी बन रही हैं लेकिन इस दौर को और आगे ले जाना होगा और यह काम भी खुद उन्हें ही अपने बलबूते करना होगा । क्योंकि पुरुषवादी मानसिकता और उनके अधिकार में रहकर प्राप्त किया गया सशक्तिकरण वास्तव में अधूरा सशक्तिकरण ही माना जायेगा । स्त्री का सशक्तिकरण, उसके जीवन का आकर्षण उसके अपने निज पहचान में छिपा हैं न कि पुरुषों की प्रतिलिपि बनने में ।


भारत और यूरोप का स्त्री सशक्तीकरण 



भारत और यूरोप में महिला सशक्तिकरण की तुलना करें तो पायेंगे की भारत में स्त्री सशक्तिकरण समाज का अभिन्न अंग रहा हैं, वेद की ऋचाओं से लेकर वर्तमान आदिवासी समुदायों की समाज व्यवस्था इसका जीता जागता प्रमाण हैं। जबकि यूरोप का स्त्री सशक्तिकरण  18 वी शताब्दी में 'मैरी' के फ्राँस की क्रांति से प्रभावित स्वतन्त्रता ,समानता और भातृत्व से जुड़ा हैं।


 लेकिन इसके बावजूद वर्तमान भारत का स्त्री सशक्तिकरण यूरोप के स्त्री सशक्तिकरण से बहुत पीछे हैं।बल्कि यह कहा जा सकता हैं कि भारत का स्त्री सशक्तिकरण भारतीयता से प्रभावित होने के बजाय यूरोप के स्त्री सशक्तिकरण की प्रतिलिपि बनने की ओर अग्रसर हैं।

✓ यदि यह सशक्तिकरण भारतीयता से विलग होगा तो इसकी खूबसूरती खत्म हो जायेगी।



✓यदि यह सशक्तिकरण भारतीयता से भिन्न हुआ तो इसकी आत्मा मर जाएगी ।



यदि यह सशक्तिकरण भारतीयता की सुंगध को विश्व मे नहीँ फैला पाया तो ऐसे जीवन मूल्यों का पतन होगा जो स्वामी विवेकानंद, महात्मा गाँधी, मदर टेरेसा, देवी अहिल्याबाई,मैत्रयी, गार्गी आदि ने विश्व को दिये थे ।




० मध्यप्रदेश सामान्य अध्ययन




टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को रोक

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट