सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भावांतर भुगतान योजना क्या हैं ? [What is 'BHAVANTER' Bhugtan yojna

# भावांतर भुगतान योजना 

भावांतर भुगतान योजना कृषि से संबधित योजना हैं,जो म.प्र.शासन द्धारा संचालित हैं.


# उद्देश्य 

इस योजना का महत्वपूर्ण उद्देश्य किसानों को उनकी फ़सल का उचित मूल्य दिलाना हैं ताकि किसानों की फसल उत्पादन लागत से कम दामों पर नहीं बिके और इस तरह किसान घाट़े में रहकर आत्महत्या को मज़बुूर ना हो.

# आधार 

१#.इस योजना में शामिल फसलों का मूल्य मंड़ी का माँड़ल भाव और निर्धारित दो राज्यों की मंड़ियों के माँड़ल रेट़ के आधार पर तय होता हैं.

२#.यदि फसलों का मूल्य निर्धारित माँडल रेट़ से कम होता हैं,तो अंतर की राशि का भुगतान किसानों को किया जाता हैं.

३#.इस योजना में यह भी प्रावधान जोड़ा गया हैं,कि यदि किसान फ़सल को तुरंत नहीं बेचना चाहे और फसल का भंड़ारण भंडारग्रह में करता हैं,तो चार माह तक भंडारग्रह का किराया सरकार वहन करेगी.

४#.फसल भंडारण की अवधि में यदि किसान को पैसो की आवश्यकता हुई तो भंड़ारित फसल के 25% के बराबर राशि ॠण के रूप में सहकारी संस्था से ले सकता हैं.

५#.इस राशि पर ब्याज की अदायगी सरकार करेगी जबकि जबकि मूल राशि फ़सल बिकनें पर किसान को वापस करनी होगी.

# भावांतर में शामिल फसले

मक्का,मूंगफली,तिल,रामतिल,सोयाबीन,उड़द,अरहर ,मूँग,चना,लहसुन,प्याज और सरसो


*************************************************************

यह भी पढ़े 👇👇👇

● एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन के बारे में जानिये

● भारत में सड़क दुर्घटना कारण और समाधान


*************************************************************

# योजना की समीक्षा 


१#.इस योजना का उद्देश्य पवित्र हैं,जबकि क्रियान्वयन ढीला - ढ़ाला और किसानों के लिये हानि वाला हैं जैसें इस योजना में पंजीकरण की अनिवार्यता जो कि सिर्फ कस्बों और बड़े गाँवों के किसानों के लिये संभव हैं,जबकि छोटे गांवों में यह संभव नहीं हैं.

२#.इस योजना में माड़ल रेट़ की गणना अन्य दो राज्यों के संदर्भ में की जाती हैं,जो नितांत अव्यहवारिक हैं,क्योंकि विभिन्न राज्यों में फसल की लागत में दुगने से ज्यादा अंतर हैं,जैसे म.प्र.में प्याज की प्रति एकड़ लागत 75000 हजार बैठती हैं,जबकि महाराष्ट्र में यह प्रति एकड़ 30 से 35 हजार हैं.

३#.फसल बेचनें की अवधि निर्धारित हैं इस अवधि के दोरान मंड़ी व़्यापारी संगठित होकर फसल का दाम गिरा देते हैं फलस्वरूप किसानों को फसल के उचित दाम के लिये भावांतर की राशि के भरोसे रहना पड़ता हैं.

४#.भावांतर भुगतान राशि मिलने की समयावधि किसानों के लिये अनिश्चित हैं यह कई महिनों की प्रक्रिया हैं.

५#.एक अन्य व्याहवारिक समस्या मंड़ी के माँड़ल रेट़ को लेकर हैं,जिसमें कहा गया हैं,कि किसानों को अंतर की राशि का भुगतान दो मंड़ीयों के माँड़ल रेट़ के आधार पर किया जायेगा परंतु वास्तविकता यह हैं,कि सूचना संचार के इस युग में पूरें प्रदेश के व्यापारी अपनें WhatsApp ग्रुप पर सुबह ही तय कर लेतें हैं कि किसानों को क्या रेट़ देना हैं,फलस्वरूप किसानों को बहुत कम अंतर की राशि मिल पाती हैं.

कही - कही तो यह अंतर 20 से 25 रूपये तक ही हैं.



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही।Nange sone ke fayde

  जीवनसाथी के साथ नंगा सोना चाहिए या नही nange sone ke fayde इंटरनेट पर जानी मानी विदेशी health website जीवन-साथी के साथ नंगा सोने के फायदे बता रही है लेकिन क्या भारतीय मौसम और आयुर्वेद मतानुसार मनुष्य की प्रकृति के हिसाब से जीवनसाथी के साथ नंगा सोना फायदा पहुंचाता है आइए जानें विस्तार से 1.सेक्स करने के बाद नंगा सोने से नींद अच्छी आती हैं यह बात सही है कि सेक्सुअल इंटरकोर्स के बाद जब हम पार्टनर के साथ नंगा सोते हैं तो हमारा रक्तचाप कम हो जाता हैं,ह्रदय की धड़कन थोड़ी सी थीमी हो जाती हैं और शरीर का तापमान कम हो जाता है जिससे बहुत जल्दी नींद आ जाती है।  भारतीय मौसम और व्यक्ति की प्रकृति के दृष्टिकोण से देखें तो ठंड और बसंत में यदि कफ प्रकृति का व्यक्ति अपने पार्टनर के साथ नंगा होकर सोएगा तो उसे सोने के दो तीन घंटे बाद ठंड लग सकती हैं ।  शरीर का तापमान कम होने से हाथ पांव में दर्द और सर्दी खांसी और बुखार आ सकता हैं । अतः कफ प्रकृति के व्यक्ति को सेक्सुअल इंटरकोर्स के एक से दो घंटे बाद तक ही नंगा सोना चाहिए। वात प्रकृति के व्यक्ति को गर्मी और बसंत में पार्टनर के साथ नंगा होकर सोने में कोई

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी