सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Balanced diet संतुलित आहार के चमत्कार को जानियें

#संतुलित आहार क्या हैं



संतुलित आहार से तात्पर्य उस आहार से हैं,जो मानव के समग्र विकास के लिये आवश्यक होता हैं,इनमें शामिल हैं कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, विटामिन, खनिज़ लवण और सूक्ष्म पोषक तत्व .यदि इन तत्वों में से किसी भी तत्व की कमी शरीर में होती हैं,तो उसका प्रभाव शरीर पर बीमारीं के रूप में होता हैं.



भारत सहित दुनिया के विकसित विकासशील ,अल्पविकसित राष्ट्र गंभीर रूप से इस समस्या से ग्रसित हैं. आईयें जानतें हैं,कुछ महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को जो आहार को संतुलित (balanced) बनातें हैं.





#1. कार्बोहाइड्रेट ( carbohydrate).






कार्बोहाइड्रेट शरीर को ऊर्जा प्रदान करनें वाला आधारभूत तत्व हैं. यह गेंहू,चावल और अनाज वर्गीय फसलों में बहुतायत में पाया जाता हैं. इसकी कमी से शरीर कमज़ोर, कृशकाय ,और क्षीण होता जाता हैं.अत: इसका शरीर के विकास में महत्वपूर्ण योगदान हैं.

  #2. विटामिन ( vitamin)





विटामिन शरीर की "metabolism " क्रिया को नियत्रिंत करनें में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करतें हैं,ये उत्तकों  " tissue" की मरम्मत तथा नयें उत्तकों (tissue) का निर्माण करतें हैं.कुछ महत्वपूर्ण विटामिन निम्नलिखित हैं.

A. विटामिन " A"




 विटामिन को रेटिनाल भी कहतें हैं,इसकी कमी से रंतौधी नामक बीमारीं हो जाती हैं,जिससे रात में दिखाई नहीं देता आँखों के समुचित विकास के लियें ये महत्वपूर्ण विटामिन हैं.इसके अलावा शरीर की त्वचा रूखी और खुरदरी हो जाना ,शरीर का विकाश रूक जाना इसकी कमी के लक्षण हैं.ये विटामिन मछली के तेल,दूध,अंड़ा (egg) ,पीलें फलों जैसे पपीता और गाजर में प्रचुरता से पाया जाता हैं.







B.विटामिन "B Complex"





 विटामिन  B complex अनेक विटामिनों का समूह हैं,जिसमें विटामिन  B 1 ,B 2, B 3, B 5, B 6, B 12, तथा फालिक एसिड़ समूह सम्मिलित हैं.इन विटामिनों की कमी से बेरी- बेरी,पेलाग्रा,रक्त की कमी,तथा मानसिक बीमारींयाँ हो जाती हैं. ये विटामिन हरी पत्तेदार सब्जियों,मांस,दूध,फलों में पाया जाता हैं.इनकी निश्चित मात्रा शरीर के विकास के लियें आवश्यक हैं.






C.विटामिन डी(D)



हड्डीयों के निर्माण और मज़बूत माँसपेशियों के लिये ये विटामिन अति आवश्यक हैं,हमारा शरीर इसका निर्माण सूर्य प्रकाश की उपस्थिति में कर लेता हैं











C.विटामिन "E"



ये विटामिन टेकेफेरोल के नाम से जाना जाता हैं . 
कमी से बाँझपन,गर्भपात,गंजापन जैसी समस्यायें पैदा हो जाती हैं.मूँगफली,सरसो सूर्यमुखी में यह विटामिन उपस्थित रहता हैं.






D. विटामिन "K"



इसे फाइलोक्विनाँन कहते हैं,इसकी कमी से रक्त का थक्का नहीं जम पाता हैं.



E.विटामिन C



जानिये पालक और मेथी के फायदों के बारें में



यह विटामिन "ascorbic acid" के नाम से जाना जाता हैं,इसकी कमी से स्कर्वी ,जल्दी थकावट़,मसूड़ों से खून आना,रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होना जैसी समस्या हो जाती हैं.ये विटामिन आवँला, अमरूद,निम्बू जैसे खट्टें फलों में पाया जाता हैं.






#2. प्रोटीन "protein"



प्रोटीन अमीनों अम्ल (amino acid) से मिलकर बना जट़िल योगिक हैं.इसकी कमी से बच्चों में प्रोटीन कुपोषण ,मरास्मस, क्वाशियोरकर( kwashiorkor) ,तथा रोग प्रतिरोधकता कम हो जाती हैं.दालों,सोयाबीन,दूध, काजू ,बादाम ( almond),अखरोट़ में बहुतायत में पाया जाता हैं.




#3. वसा "fat"



वसा शरीर को सुंदर,सुड़ोल रख ऊर्जा प्रदान करती हैं.वसा की अधिक ओर कम दोनों मात्रा घातक होती हैं ,प्रतिदिन   40  से 60 ग्राम वसा एक स्वस्थ व्यक्ति के लियें आवश्यक हैं.यह वसा हमें मक्खन(Butter),घी,दूध (Milk) आदि पदार्थों से प्राप्त होती हैं.





#4 . खनिज़ लवण 






"Metabolism"  क्रियाओं को संचालित करनें में खनिज़ लवणों का महत्वपूर्ण योगदान होता हैं.सोड़ियम(sodium),पोटेशियम (potassium), मेग्नेशियम(magnisium),कैल्सियम(Calcium),आयोड़िन(Iodine),लोहा(Iron), जिंक(Zink),कोबाल्ट(Cobalt) आदि तत्व शरीर के विकास के लिये अति आवश्यक हैं.कुछ खनिज़ जैसें दाल,अनाज आदि अम्लीय होतें हैं वहीं कुछ क्षारीय होतें हैं जैसें सब्जी,कँद वालें खाद्य पदार्थ आदि.ये खनिज़ शरीर का रक्त दबाव का संतुलन भी बनाते हैं.





#5. पानी "Water"






पानी हमारें शरीर की बुनियाद हैं,यदि शरीर में पानी का आवश्यक स्तर नहीं होगा तो उपरोक्त तत्वों का परिवहन बाधित(Restricted) होगा.अत: शरीर के संतुलित विकास और विषेलें तत्वों(Toxic) को बाहर निकालनें में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका हैं.एक स्वस्थ व्यक्ति को प्रतिदिन एक से दो लीट़र पानी अवश्य पीना चाहियें.







० गिलोय के फायदे





० बैंगन के औषधीय उपयोग





० निर्गुण्डी के फायदे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी