सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

18 वे एशियाई खेल 2018 में भारत के पदक विजेता खिलाडी





इंडोनेशिया में आयोजित 18 वे एशियाई खेलों में भारत ने एशियाई खेलों के इतिहास का अपना अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया हैं । भारत ने तीनों पदकों को मिलाकर कुल 69 पदक प्राप्त किये हैं ,इससे पहले भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन सन 1951 नई दिल्ली एशियाई खेलों में आया था तब भारत ने कुल 51 पदक प्राप्त किये थे ।

इंडोनेशिया में हुए 18 वे एशियाई खेलों में भारत के स्वर्ण ,रजत और कांस्य पदक विजेता खिलाडी जिन्होंने अपने प्रदर्शन से भारत का मान बढ़ाया हैं ।


18 वे एशियाई खेल 2018 में भारत के पदक विजेता खिलाडी:::


🏅स्वर्ण पदक 🏅 प्राप्तकर्ता खिलाड़ी और टीम

1.🏅बजरंग पुनिया 🏅
Kusti
 Bajrang punia

खेल👉कुश्ती 



बजरंग पुनिया ने 18 वे एशियाई खेलों में कुश्ती प्रतियोगिता में भारत को स्वर्ण पदक दिलाया। बजरंग पुनिया ने फ्री स्टाइल कुश्ती के  65 किलोग्राम भारवर्ग में खेलतें हुए फाइनल मुकाबले में जापान के पहलवान दाइची तकतानी को 11 के मुकाबले 18 अंको से पटखनी देते हुए स्वर्ण पदक अपने कब्जे में किया ।

बजरंग पुनिया ने सन 2014 में हुए इंचियोन एशियाई खेलों में भी 61 किलोग्राम भारवर्ग कुश्ती प्रतियोगिता में रजत पदक जीता था। 

18 वे एशियाई खेलों में भारत को प्राप्त यह पहला स्वर्ण पदक था जिसके बदौलत भारत ने पदक तालिका में अपना खाता खोला था।


2. 🏅विनेश फोगाट 🏅

Mahila kusti
 Vinesh fogat


खेल👉फ्री स्टाइल कुश्ती 

विनेश फोगाट ने महिला कुश्ती के 50 किलोग्राम फ्रीस्टाइल भारवर्ग में स्वर्ण पदक प्राप्त किया ।उन्होंने फाइनल मुकाबले में जापान की पहलवान इरी युकी को 6 के मुकाबले 2 अंको से हराया।

विनेश फोगाट एशियाई खेलों के इतिहास में कुश्ती का स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाली पहली भारतीय महिला हैं ।
इससे पहले विनेश फोगाट राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण जीत चुकी हैं,इन्होंने सन 2014 में हुए इंचियोन एशियाई खेलों में भी कांस्य पदक जीता था।

इस बार के एशियाई खेलों में विनेश अपने पदक को स्वर्ण में बदलने में सफल हुई हैं।




० मध्यप्रदेश सामान्य अध्ययन


3.🏅सौरभ चौधरी 🏅

Rifleman
 Sourbh choudhry


खेल👉10 मीटर एयर पिस्टल निशानेबाजी 🎯🎯🎯



सौरभ चौधरी ने 18 वे एशियाई खेलों में 10 मीटर एयर पिस्टल निशानेबाजी प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक जीता । सौरभ चौधरी की यह उपलब्धि इसलिये महत्वपूर्ण हैं क्योंकि सौरभ अभी मात्र 16 साल के ही हैं। वह एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले भारत के सबसे कम उम्र के खिलाड़ी हैं,इनसे पूर्व जसपाल राणा ने सन 1994 हिरोशिमा एशियाई खेलों में निशानेबाजी का स्वर्ण पदक प्राप्त किया था उस समय उनकी उम्र 18 वर्ष थीं।

सौरभ चौधरी ने एशियाई खेलों का रिकार्ड कायम करते हुए 18 वे एशियाई खेलों में 240.7अंक प्राप्त किये । 10 मीटर एयर पिस्टल निशानेबाजी का काँस्य पदक भी भारत के अभिषेक वर्मा ने 219.3अंको के साथ जीता ।


4.🏅राही जीवन सरनोबत🏅

Shooter
 Rahi jivan sarnobat

खेल👉25 मीटर पिस्टल निशानेबाजी 🎯🎯🎯



राही जीवन सरनोबत ने 18 वे एशियाई खेलों में महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल निशानेबाजी स्पर्धा में स्वर्ण पदक प्राप्त किया ।ऐसा करने वाली वे भारत की पहली महिला निशानेबाज हैं । 

 थाईलैंड की Nafasvan yangpaibun और राही जीवन सरनोबत के फाइनल मुकाबले में बराबर बराबर 34 अंक थे ,ऐसे में मुकाबला शूटआउट तक खींचा और राही जीवन सरनोबत ने मुकाबला 3 - 2 से जीत लिया ।

राही जीवन सरनोबत ने सन  2012 लन्दन ओलंपिक में भी इतिहास बनाया था ,वे 25 मीटर पिस्टल प्रतियोगिता में भाग लेने वाली पहली भारतीय ओलम्पियन महिला हैं ।हालांकि ओलंपिक में उन्हें सफलता नहीं मिली थीं और वह इस प्रतियोगिता में 19 वे स्थान पर रही थीं ।


5. 🏅🏅रोहन बोपन्ना और दिविज शरण🏅🏅

एशियाई खेल
 क्रमशः बाँये से दाँये रोहन बोपन्ना और दिविज शरण 


खेल 👉 पुरुष युगल टेनिस 🎾🎾


टेनिस के पुरुष युगल मुकाबले में भारत के इन दोनों जोड़ीदारों ने कजाकिस्तान के अलेक्सन्द्रन बुबलिक तथा डेनिस एवसेवेय को 52 मिनिट चले संघर्ष में 6 - 3, 6- 4 से हराकर  स्वर्ण पदक 🎖🎖 पर कब्ज़ा जमाया । इसके पूर्व एशियाई खेलों में भारत पाँच बार ( 1994,2002,2006,2011)पुरुष युगल टेनिस प्रतियोगिता का स्वर्ण जीत चुका हैं ।

रोहन बोपन्ना ने एशियाई खेलों में पहली बार स्वर्ण पदक 🎖 जीता हैं,जबकी दिविज शरण इंचियोन एशियाई खेल 2014 में युकी भांबरी के साथ कांस्य पदक जीत चुके हैं ।



6.स्वर्ण सिंह, दत्तू भोनाकल,ओमप्रकाश और सुखमित सिंह🏅🏅🏅🏅


खेल 👉 पुरुषों की क्वॉड्रपल स्कलस नोकायन प्रतियोगिता 🚣🚣🚣




भारत के इन चारों खिलाड़ियों ने 6.17.13 सेकंड का समय निकालकर प्रतियोगिता में पहला स्थान प्राप्त किया और स्वर्ण पदक 🎖🎖🎖🎖 अपने नाम किया ।



 7.🏅तेजेंदरपाल सिंह तूर 🏅

एशियाई खेल
 तेजेंदरपाल सिंह तूर

खेल 👉 गोलाफेंक ( शॉटपुट )


भारतीय नोसेना में काम करने वाले तेजेंद्रपाल ने 20.75 मीटर गोला फेंककर एशियाई खेलों का नया रिकॉर्ड बनाया और स्वर्ण पदक 🏅 अपने नाम किया। तेजेंद्रपाल ने सन 2017 की एशियाई चेम्पियनशिप में रजत पदक जीता था ।

एशियाई खेलों के इतिहास में तेजेंद्रपाल से पहले मदनलाल (1951),प्रदुमन सिंह ( 1954,1958),जोगिंदर सिंग (1966,1970), बहादुर सिंह चौहान ( 1978,1982),और बहादुर सिंह सांगू ( 2002 ) इस खेल में भारत के लिये स्वर्ण पदक 🏅जीत चुके हैं ।



8.🏅 नीरज चोपड़ा 🏅


खेल 👉भालाफेंक 


एथलीट नीरज चोपड़ा ने 18 वे एशियाई खेलों में भालाफेंक स्पर्धा का स्वर्ण पदक 🎖 जीतकर देश को गौरान्वित किया । नीरज चोपड़ा ने 88.06 मीटर तक भाला फेंक कर यह सफ़लता प्राप्त की ।

नीरज चोपड़ा एशियाई खेलों में भालाफ़ेंक प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने वाले प्रथम भारतीय हैं ।इससे पूर्व  नई दिल्ली एशियन खेल सन 1982 में भालाफेंक प्रतियोगिता का कांस्य पदक जीता गया था ,जो गुरतेज सिंह ने जीता था ।



नीरज चोपड़ा भारत के उभरते युवा एथलीट हैं जिन्होंने एक ही वर्ष में कॉमनवेल्थ और एशियन चेम्पियन में भी भारत को स्वर्ण पदक दिलाकर मिल्खा सिंह के 60 वर्ष पुराने रिकॉर्ड की बराबरी की।

नीरज चोपड़ा 18 वे एशियाई खेलों के शुभारंभ समारोह में भारत के ध्वजवाहक थे ।



9.🏅मनजीत सिंह 🏅


खेल👉 800 मीटर पुरुष दौड़



मनजीत सिंह ने पुरुषों की 800 मीटर दौड़ प्रतियोगिता को 1 मिनिट 46.15 सेकंड में जीतकर स्वर्णपदक 🏅अपने नाम किया । इस प्रतियोगिता का रजत भी भारत ने जीता था ।



10.🏅अरपिंदर सिंह 🏅


खेल 👉 एथलीट पुरुष तिहरी कूद


अरपिंदर सिंह ने 16.77 मीटर छ्लांग लगाकर इस प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक 🏅 भारत की छोली में डाला । अरपिंदर से पहले महिंदर सिंह ने सन 1977 में इस प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक जीता था ।


11. 🏅स्वपना बर्मन 🏅


खेल 👉 हेप्टाथलान 


स्वप्ना भारत की पहली महिला एथलीट हैं जिन्होंने एशियाई खेलों में इस प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक 🏅 प्राप्त किया । 

उन्होंने इस प्रतियोगिता में  लंबी कूद में  865 अंक, 100 मीटर दौड़ में 981 अंक, ऊँची कूद में 1003 अंक ,शॉटपुट में 707 अंक ,200 मीटर दौड़ में 790 अंक, भालाफेंक में 872 अंक ,और 800 मीटर दौड़ में 808 अंक हासिल किये इस तरह कुल 6026 अंक प्राप्त कर प्रथम स्थान हासिल किया ।

इससे पूर्व स्वप्ना ने सन 2014 इंचियोन एशियाई खेलों में पांचवा स्थान हासिल किया था ।




12.🏅 जिनसेन जानसन🏅 


खेल 👉 एथलीट 1500 मीटर पुरुष दौड़ 🏃🏃🏃



जिनसेन जानसन ने 1500 मीटर पुरुष दौड़ में 3.44.72 मिनिट का समय निकालकर इस प्रतियोगिता के स्वर्ण पदक 🏅 पर कब्जा जमाया ।जॉनसन ने  इन्हीं खेलों में 800 मीटर दौड़ में रजत पदक जीता था ।


13.हिमा दास ,एम . आर.पूवम्मा, सरिता बेन गायकवाड़, विस्मय वेलुवा कोरथ 🏅🏅🏅🏅


खेल👉 4× 400 मीटर महिला रिले दौड़ 🏃🏃🏃🏃



भारत की इन चारों महिला एथलीटों ने 3.28.72 सेकंड का समय निकालकर इस प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक 🏅🏅🏅🏅 भारत की छोली में डाला ।



14.🏅अमित पंघल🏅


खेल👉मुक्केबाजी पुरूष 49 किलो भारवर्ग


अमित ने उज्बेकिस्तान के हसनबोय दुसटोमोव को फाइनल मुकाबले में हराकर स्वर्ण पदक 🏅 अपने नाम किया।अमित ने इस साल गोल्ड कास्ट राष्ट्रमंडल में रजत पदक जीता था ।


15.🏅शिवनाथ सरकार और प्रणव वर्धन 🏅


खेल👉ब्रिज (ताश)

एशियाई खेलों में पहली बार शामिल इस खेल में भारत ने स्वर्ण पदक🏅जीतकर ऐतिहासिक शुरुआत की ।




रजत पदक विजेता खिलाडी और टीम 



1.लक्ष्य शेरॉन 


खेल 👉 निशानेबाजी 📍 पुरुष ट्रेप प्रतियोगिता


पुरुष निसनेबाजी की ट्रैप प्रतियोगिता में लक्ष्य शेरोन ने 43 अंक प्राप्त कर रजत पदक प्राप्त किया ।


2.दीपक कुमार 


खेल 👉 10 मीटर एयर राइफल निशानेबाजी 💂


18 वे  एशियाई खेलों में 33 साल के दीपक कुमार ने 10 मीटर एयर राइफल प्रतियोगिता में 247.7 अंकों के साथ रजत पदक जीता । दीपक कुमार इसके पूर्व 2018 ISSF विश्व कप में 10 मीटर एयर राइफल मिश्रित टीम प्रतियोगिता में मेहुली घोष के साथ काँस्य पदक जीता था ।

दीपक ने 2017 के ब्रिस्बेन राष्ट्रमंडल खेलों में भी काँस्य पदक जीता था ।


3.🎯संजीव राजपूत 🎯


खेल 👉 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन 💂


संजीव राजपूत ने 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन में 452.7 अंक प्राप्त कर प्रतियोगिता में रजत पदक प्राप्त किया । संजीव राजपूत स्वर्ण पदक विजेता चीनी खिलाड़ी से मात्र 1 अंक पीछे रहे ।

4. 🎯शार्दुल विहान 🎯


खेल 👉 डबल ट्रेप पुरुष निशानेबाजी


शार्दुल विहान ने एशियाई खेलों की डबल ट्रैप प्रतियोगिता में रजत पदक जीता । मात्र 15 वर्ष के शार्दुल विहान एशियाई खेलों में पदक जीतने वाले भारत के सबसे कम उम्र के खिलाड़ी हैं ।

शार्दुल विहान ने 73 अंक प्राप्त किये जबकि स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले 34 साल के कोरियाई खिलाड़ी हुन वे शिन ने 74 अंक प्राप्त किये ।


5. महिला कबड्डी टीम 🏃🏃🏃🏃🏃


भारत की महिला कबड्डी टीम ने सन 2014 के इंचियोन एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक प्राप्त किया था किंतु इस बार पायल चौधरी की कप्तानी वाली टीम ईरान से 3 अंको से हार गयी और रजत पदक से संतोष प्राप्त करना पड़ा । 

6. फ़वाद मिर्जा


खेल 👉 घुड़सवारी 🏇🏇🏇


भारत के फ़वाद मिर्जा ने व्यक्तिगत जम्पिंग घुड़सवारी प्रतियोगिता में 26.40 का स्कोर बनाकर रजत पदक जीता । फ़वाद से पहले आखरी व्यक्तिगत पदक सन 1982 के दिल्ली एशियाई खेलों में जीता गया था ।तब रघुवर सिंह ने स्वर्ण , गुलाम मोहम्मद खान ने रजत और प्रहलाद सिंह ने काँस्य पदक जीते थे ।

फ़वाद मिर्जा ने घुड़सवारी की टीम प्रतियोगिता का रजत पदक भी जीत कर देश का नाम रोशन किया हैं ।



7.घुड़सवारी टीम 🏇🏇🏇🏇


भारत के फ़वाद मिर्जा , राकेश कुमार,आशीष मलिक और जितेंद्र सिंह की चौकड़ी ने 121.30 का स्कोर कर इस प्रतियोगिता का रजत पदक प्राप्त किया ।


8.दुति चन्द 


खेल 👉 100 मीटर महिला दौड़ 🏃🏃🏃🏃


भारत की फर्राटा धावक दुति चन्द ने 100 मीटर की रेस 11.32 सेकंड में पूरी करते हुए रजत पदक जीता वे मात्र 0.2 सेकंड के अंतर से स्वर्ण पदक चूक गयी । 

भारत एशियाई खेलों के 100 मीटर महिला दौड़ में 20 साल बाद पदक जीत सका हैं 


9.हिमा दास 🏃


खेल 👉 400 मीटर महिला दौड़


18 साल की हिमा दास ने 400 मीटर दौड़ में 50.79 सेकंड का समय निकालकर रजत पदक जीता । हिमा से पहले सन 2006 एशियाई खेलों में मनजीत कौर ने 400 मीटर का रजत पदक जीता था ।




10. मोहम्मद अनस 🏃


खेल 👉 400 मीटर पुरुष दौड़ 🏃🏃🏃


मोहम्मद अनस ने इस प्रतियोगिता में 45.69 सेकंड का समय निकालकर रजत पदक प्राप्त किया ।अनस ने एशियाई चेम्पियनशिप में स्वर्ण पदक प्राप्त किया था । किंतु एशियाई खेलों में यह उनका पहला पदक हैं ।




11.धरून अय्यासमी 🏃


खेल 👉 400 मीटर बाधा दौड़ 🏃🏃🏃🏃


21 साल के धरून अय्यासमी ने 400 मीटर बाधा दौड़ में 48.96 सेकंड का समय निकालकर रजत पदक जीता ।


12.सुधा सिंह 🏃


खेल 👉 महिलाओं की 3000 मीटर स्टीपलचेज 


सुधा सिंह ने महिलाओं की 3000 मीटर स्टीलपलचेज प्रतियोगिता में 9 मिनिट 40.03 सेकंड का समय निकालकर रजत पदक प्राप्त किया । सुधा ने सन 2010 एशियाई खेलों में इस प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक जीता था ।


13.मीना वरकिल 


खेल 👉 महिलाओं की लम्बी कूद


महिलाओं की लंबी कूद प्रतियोगिता में भारत की एथलीट सुधा सिंह ने 6.51 मीटर की छ्लांग लगाकर रजत पदक पर कब्जा जमाया ।




14.मुस्कान किरार,मधुमिता कुमार और ज्योति सुरेखा 🏹🏹🏹



खेल 👉 कंपाउंड महिला तीरंदाजी टीम प्रतियोगिता🏹🏹🏹


भारत की इस तिकड़ी ने 18 वे एशियाई खेलों में सेमीफाइनल में चाइनीज ताइपे को 225 के मुकाबले 222 अंको से हराकर फाइनल में प्रवेश किया था किंतु यह तिकड़ी फाइनल में कोरीयन टीम से 231 के मुकाबले 228 अंको से हार गई और इस तरह भारतीय टीम को रजत पदक से संतोष करना पड़ा ।


15.रजत चौहान,अमान सैनी और अभिषेक वर्मा 🏹🏹🏹



खेल 👉 पुरुष कंपाउंड तीरंदाजी टीम प्रतियोगिता 🏹🏹🏹


भारत की  पुरुष तीरंदाजी टीम ने कोरिया की टीम के साथ फाइनल में बराबर 229 - 229 का स्कोर बनाया किन्तु शूटआउट में हुए मुकाबले में कोरियाई खिलाड़ी भारत पर भारी पड़े इस तरह भारत रजत पदक जीत सका ।
सन 2014 में हुए इंचियोन एशियाई खेलों में भारत ने इस वर्ग में स्वर्ण पदक 🏅 जीता था ।


16.पिंकी बलहारा 


खेल 👉 कुराश 💃💃💃


कुरास उज्बेकिस्तान का पारम्परिक खेल हैं । यह मार्शल आर्ट्स की तरह खेला जाता हैं । भारतीयों के लिये अनजान इस खेल में पिंकी बलहारा ने शानदार प्रदर्शन करते हुए भारत को रजत पदक दिलाया ।

17.जिनसेन जानसन 

खेल 👉 पुरुष 800 मीटर दौड़



जिनसेन जॉनसन ने पुरुषों की 800 मीटर दौड़ में 1 मिनिट 46.15 का समय निकालकर रजत पदक जीता । इस प्रतियोगिता का स्वर्ण भारत के मनजीत सिंह के नाम रहा ।

सन 1962 के बाद यह दूसरा अवसर हैं जब इस प्रतियोगिता का स्वर्ण और रजत भारत के खाते में गया । जबकि इस प्रतियोगिता का स्वर्ण पिछ्ली बार सन 1982 में चार्ल्स बरामओ ने जीता था ।




18.पी.वी.सिन्धु 🏸🏸🏸


खेल 👉 बेडमिंटन 🏸🏸🏸


भारत की स्टार शटलर सिन्धु ने एशियाई खेलों के इतिहास में पहली बार महिला एकल का रजत पदक दिलाया । फाइनल मुकाबले में सिन्धु को स्वर्ण जितने वाली चीनी ताइपे की खिलाड़ी ताई जु यिंग ने 13 -21,16-21, से हराया । इससे पहले ताई ने सेमीफाइनल मैच में साइना नेहवाल को भी शिकस्त दी थी ।
 एशियाई खेलों के इतिहास में व्यक्तिगत महिला बेडमिंटन प्रतियोगिता में रजत और काँस्य जितने वाली सिन्धु और साइना पहली भारतीय खिलाड़ी हैं ।


19.हिमा दास,पूवाना राजू माचेत्रा,मोहम्मद अनस और राजीव अरोकिया

🏃🏃🏃🏃

खेल 👉 मिश्रित रिले दौड़ 🏃 4 गुणा 400 मीटर 


एशियाई खेलों में प्रथम बार शामिल इस खेल में भारत की महिला पुरुष मिश्रित इस टीम ने 3 मिनिट 15.17 सेकंड का समय निकालकर रजत जीता । इस प्रतियोगिता का स्वर्ण बहरीन के खाते में गया ।



20.दुति चन्द 🏃


खेल 👉 200 मीटर महिला दौड़ 🏃


दुति चन्द का 18 वे एशियाई खेलों में यह दूसरा रजत पदक था । उन्होंने 23.20 सेकंड में यह  दूरी तय करी । 



21.मोहम्मद कुंहु, पृथानपुराकाल,धरून अय्यासामी,मोहम्मद अनस, और अरोकिया राजीव 


खेल 👉 4 गुणा 400 मीटर पुरुष रिले दौड़


भारत के इन चारों खिलाड़ियों ने 3 मिनिट 01.85 सेकेंड का समय निकालकर देश की छोली में रजत पदक डाला ।




22.भारतीय महिला हॉकी टीम 🏑🏑🏑




भारतीय महिला हॉकी टीम सन 1982 में नई दिल्ली में आयोजित एशियाई खेलों में फाइनल खेली थी । और स्वर्ण पदक जीता था । 18 वे एशियाई खेलों में 36 साल बाद भारतीय महिला टीम फाइनल में पहुँची लेकिन जापान के हाथों से 1 के मुकाबले 2 गोल से हार गयी । इस तरह भारत ने इस प्रतियोगिता में रजत प्राप्त किया । भारतीय महिला हॉकी टीम ने सन 2014 के इंचियोन एशियाई खेलों में काँस्य पदक जीता था ।




23.श्वेता शेरवेगर और वर्षा गौतम 


खेल 👉 सेलिंग 🚣🚣 


महिलाओं की 49 ER FX प्रतियोगिता में इन दोनों खिलाड़ियों ने 15 रेस में 44 अंक और कुल 40 नेट अंक प्राप्त कर रजत पदक प्राप्त किया ।

24.जोशना चिन्नपा और सुनयना कुरुविल्ला

खेल👉स्कवैश महिला युगल

महिला  टीम को फाइनल में हांगकांग की महिला टीम ने 2-0 से हराकर रजत पदक पर रोक दिया ।



काँस्य पदक प्राप्तकर्ता खिलाडी और टीम 





1.रवि कुमार और अपूर्वी चंदेला 



खेल 👉 10 मीटर एयर राइफल मिश्रित वर्ग 🎯🎯


इस वर्ग में इन दोनों खिलाड़ियों ने 429.9 अंको के साथ काँस्य पदक प्राप्त किया ।अपूर्वी चंदेला इससे पहले सन 2014 कामनवेल्थ खेलों में व्यक्तिगत स्पर्धा में स्वर्ण पदक 🏅 जीता था ,जबकि रवि कुमार ने सन 2014 इंचियोन एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक प्राप्त किया था ।



2.दिव्या काकरान 


खेल👉  महिला कुश्ती 💃



दिव्या काकरान ने 68 किलो ग्राम मुकाबले में मात्र 1 मिनिट 29 सेकंड में ताइपे की वेनलिंग चेन को 10 - 0 से हराकर काँस्य पदक प्राप्त किया ।



3.अभिषेक वर्मा 


खेल👉 10 मीटर एयर पिस्टल निशानेबाजी 🎯🎯🎯



भारत के अनुभवी खिलाड़ी अभिषेक वर्मा ने इस प्रतियोगिता में काँस्य पदक जीतकर देश का नाम एशियाई खेलों में रोशन किया इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक भी भारत के सौरभ चौधरी ने जीता ।ये दोनों खिलाडी उत्तरप्रदेश के रहने वाले हैं ।



4.सेपक तकरा टीम


भारत ने पहली 18 वे एशियाई खेलों में  पहली बार इस प्रतियोगिता का कोई पदक जीता हैं । भारत सेमीफाइनल में थाईलैंड से 0-2 से हार गया इस वज़ह से उसे काँस्य पदक मिला ।


5.सन्तोष कुमार 


खेल👉वुशु 56 किलोग्राम पुरुष वर्ग


सन्तोष कुमार ने 56 किलोग्राम भारवर्ग में काँस्य पदक प्राप्त किया । उन्हें सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा । सेमीफाइनल में उन्हें वियतनाम के तुयांग्जियांग बूई ने 2-0 से पराजित किया ।


6.सूर्यभानु प्रताप सिंह 


खेल👉 वुशु 60 किलोग्राम पुरूष वर्ग 



सूर्यभानु प्रताप सिंह ने 60 किलोग्राम भारवर्ग में वुशु में भारत को काँस्य पदक दिलाया । सेमीफाइनल में उन्हें ईरान के इरफ़ान अहंगेरियन ने 2-0 से हराया ।


7.नरेंद्र ग्रेवाल 


खेल👉वुशु 65 किलोग्राम पुरुष वर्ग


नरेंद्र ग्रेवाल को सेमीफाइनल में ईरान के फोरोद जाफ़री ने 2-0 से हरा दिया इस तरह उन्हें काँस्य पदक से सन्तोष करना पड़ा । नरेंद्र ग्रेवाल को सन 2014 में इंचियोन एशियाई खेलों में भी काँस्य पदक प्राप्त हुआ था ।


8.नायरेम रोशबीना देवी 


खेल👉वुशु 60 किलोग्राम महिला वर्ग


रोशबीना देवी को सेमीफाइनल में चीन की यिंगयींग कई से 0 -1 से हार का सामना करना पड़ा ।



9.अंकिता रैना 


खेल👉टेनिस 🎾🎾🎾 महिला एकल


अंकिता रैना  दूसरी महिला खिलाडी हैं जिन्होंने एशियाई खेलों के इतिहास में भारत को पदक दिलाया हैं,इससे पहले सन 2006 में सानिया मिर्ज़ा ने रजत पदक और सन 2010 एशियाई खेलों में काँस्य पदक जीता था । 

अंकिता को सेमीफाइनल मुकाबले में चीन की सुहाई चेंग ने 6-4,7-6  (8-6)से हराया इस तरह उन्हें काँस्य से सन्तोष करना पड़ा । 


10. पुरुष कबड्डी टीम 🎴🎴🎴


एशियाई खेलों में सन 1990 से लगातार स्वर्ण पदक जीत रहे भारत का विजयी रथ ईरान ने 18 वे एशियाई खेलों में ईरान के हाथों रुक गया । ईरान ने सेमीफाइनल के मुकाबले में भारत को 27 -18 से हराया । इस तरह भारत को काँस्य पदक से सन्तोष करना पड़ा ।


11.रोहित कुमार और भगवान सिंग 


खेल👉नोकायन लाइटवेट पुरुष युगल स्कल🚣🚣


नोकायन की पुरुष युगल लाइटवेट स्कल प्रतियोगिता में इन दोनों खिलाड़ियों ने 7 मिनिट 04.61 सेकंड का समय लेकर काँस्य पदक प्राप्त किया ।


12.दुष्यन्त कुमार


खेल👉नोकायन पुरुष एकल स्कल


भारतीय सेना के दुष्यन्त कुमार ने बीमार होने के बावजूद प्रतियोगिता में भाग लिया और 7 मिनिट 18.76 सेकंड का समय निकालकर देश को काँस्य पदक दिलाया । प्रतियोगिता समाप्त करने के बाद इन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा ।


13.हिना सिद्दू 


खेल👉10 मीटर  महिला एकल एयर राइफल शूटिंग 🎯


हिना ने 219.2 का स्कोर बनाकर इस प्रतियोगिता का काँस्य अपने नाम किया 


14.प्रजनेश गुणेश्वरम 


खेल👉टेनिस 🎾पुरुष एकल


प्रजनेश गुणेश्वरम ने पुरुष एकल में कांस्य पदक जीतकर एशियाई खेलों में अपनी चमक बिखेरी । उन्हें सेमीफाइनल में उज्बेकिस्तान के खिलाड़ी डेनिस इस्टोमिन से 6-2,6-2 से हार का सामना करना पड़ा ।




15.दीपिका पल्लीकल 



खेल👉स्क्वैश महिला एकल 


दीपिका पल्लीकल ने सेमीफाइनल में हार के साथ 18 वे एशियाई खेलों में काँस्य पदक जीता । दीपिका को मलेशिया की निकोल डेविड ने 11-7,11-9,11-6 से पराजित किया ।
दीपिका ने 2014 एशियाई खेलों में भी काँस्य पदक जीता था ।



16.जोशना चिन्नपा 


खेल👉स्कवैश महिला


स्कवैश खिलाडी जोशना चिन्नपा को मलेशिया की खिलाड़ी शिवसंगरी सुब्रमण्यम से 3-1 से हारकर काँस्य प्राप्त हुआ ।



17.सौरभ घोषाल 


खेल👉 स्कवैश पुरूष एकल


सौरभ ने सन 2014 एशियाई खेलों में व्यक्तिगत मुकाबले में रजत जीता था किन्तु इस बार उन्हें हांगकांग के मिंग चुंग से 3-2 से हारकर काँस्य से सन्तोष करना पड़ा ।



18.ब्रिज (ताश)मिश्रित टीम


भारत की महिला और पुरुषों की मिश्रित टीम ने इस प्रतियोगिता का काँस्य पदक जीता ।  पहली बार एशियाई खेलों में शामिल ब्रिज टीम में किरण नादर,सत्यनारायण बचिराजू,हेमा देवरा,गोपीनाथ मन्ना, हिमानी खण्डेलवाल और राजीव खण्डेलवाल शामिल थे ।


19.ब्रिज पुरुष टीम


जग्गी शिवदासानी,राजेश्वर तिवारी,सुमित मुखर्जी,देबब्रत मजूमदार,राजू तोलानी,और अजय खड़े की पुरुष टीम ने कांस्य पदक प्राप्त किया । इस टीम को सिंगापुर से पराजय मिली ।






20.साइना नेहवाल


खेल👉टेनिस 🎾 महिला एकल


साइना नेहवाल को एशियाई खेलों में कांस्य पदक प्राप्त हुआ । साइना सेमीफाइनल मुकाबले में चीनी ताइपे की ताई जू यिंग से 17-21,14-21 से हार गई और उन्हें काँस्य पदक से सन्तोष करना पड़ा । साइना का एशियाई खेलों में यह पहला पदक हैं ।



21. अचंता सरथ कमल , साथियांन गनशेखरण


खेल👉टेबल टेनिस 🏓🏓 पुरुष युगल


एशियाई खेलों के इतिहास में टेबल टेनिस प्रतियोगिता में भारत को प्राप्त यह पहला पदक काँस्य पदक के रूप में  मिला हैं। सेमीफाइनल में अचंता शरथ कमल को दक्षिण कोरिया के सिक योंग जियोंग ने हराया वही गनशेखरण को सान्ग ली ने पराजित किया।

टेबल टेनिस सन 1958 के एशियाई खेलों में शामिल हुआ था ।



22. मलप्रभा जाधव



खेल👉कुराश


मलप्रभा को 52 किलोग्राम भारवर्ग में कांस्य पदक मिला इस प्रतियोगिता का रजत भी भारत की पिंकी बलहारा को मिला है।


23.अचंता शरथ कमल और मनिका बत्रा



खेल👉टेबल टेनिस ,🏓🏓 मिश्रित युगल



टेबल टेनिस मिश्रित युगल में भारत को चीन से सेमीफाइनल में पराजय मिली ।चीन के वांग चुकींन और सुन यंग्स ने  सेमीफाइनल में इस जोड़ी को 4-1 से पराजित कर काँस्य पदक पर रोक दिया । अचंता शरथ कमल ने इसके पहले पुरुष युगल में भी कांसा जीता था ।


24.सीमा पुनिया


खेल👉डिस्कस थ्रो 🎱🎱🎱


सीमा पुनिया ने 61.03 मीटर डिस्कस फेंककर कांसा जीता । इसके पहले सीमा पुनिया ने 2014 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था।

इस साल के राष्ट्रमण्डल खेलों में भी सीमा रजत पदक जीत चुकी हैं ।


25.चित्रा उन्नीकृष्णन 


खेल👉एथलीट 1500 मीटर दौड़ 🏃


चित्रा ने चार मिनिट 12.56 सेकंड में 1500 मीटर दौड़ पूरी कर काँस्य पदक अपने नाम किया ।




26.विकास कृष्णन


खेल👉 मुक्केबाजी 75 किलोग्राम भारवर्ग पुरुष 👊👊👊


विकास ऐसे पहले भारतीय मुक्केबाज हैं जिन्होंने लगातार तीन एशियाई खेलों में पदक जीते हैं । इस बार विकास सेमीफाइनल में अपनी लड़ाई के पहले ही अपनी आंखों की चोट की वजह से अयोग्य करार दिये गये और काँस्य पदक ही जीत पाये ।


27.अशोक ठक्कर और के .सी.गणपति


खेल👉नोकायन 49 ER पुरुषवर्ग 


अशोक और गणपति ने 53 अंक और 43 नेट अंक लेकर इस प्रतियोगिता का  काँस्य पदक प्राप्त किया ।


28.हर्षिता तोमर 


खेल👉नोकायन ओपन लेजर 4.7 


16 साल की हर्षिता तोमर ने लड़कों को हराते  हुए काँस्य पदक जीता । इस प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक मलेशिया के पुरुष मोहम्मद फाजी ने जबकि रजत चीन के वांग जिन्जंग ने जीता ।



29.भारतीय पुरुष हॉकी टीम 🏑🏑🏑


भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने पाकिस्तान को 2-1 से  हराकर इस प्रतियोगिता का काँस्य जीता ।



30.भारतीय पुरुष स्कवैश टीम


भारतीय पुरुष स्कवैश टीम ने काँस्य पदक जीतकर इस प्रतियोगिता में अपने कुल पदकों की संख्या 5 कर ली 



खेल आधारित पदक :::


1.एथलेटिक्स 


🏅स्वर्ण पदक  🏅     👉 7


 🎖रजत पदक 🎖👉     10


     काँस्य पदक    👉     02


2.निशानेबाजी 


🏅स्वर्ण पदक 🏅 👉 02


🎖 रजत पदक 🎖 👉 04


      काँस्य पदक 👉     03



3. कुश्ती 


🏅 स्वर्ण पदक 🏅 👉 02


🎖रजत पदक 🎖 👉 02


     काँस्य पदक   👉   01


4.नोकायन 


🏅स्वर्ण पदक 🏅👉 01


🎖रजत पदक 🎖 👉 00


    काँस्य पदक 👉 02


5.टेनिस 


🏅 स्वर्ण पदक 🏅👉 01


🏅 रजत पदक 🏅 👉 00


    काँस्य पदक 👉 02


6.तीरन्दाजी


🏅स्वर्ण पदक 🏅 👉 00


🎖रजत पदक 🎖 👉02


   काँस्य पदक 👉 00


7.घुड़सवारी


🏅 स्वर्ण पदक 🏅👉 00


🎖रजत पदक 🎖👉 02

  

     काँस्य पदक 👉 02


8.सेलिंग 


🏅 स्वर्ण पदक 🏅👉 00


🎖 रजत पदक 🎖👉 01


     काँस्य पदक 👉 02


9.बैडमिंटन 


🏅 स्वर्ण पदक 🏅👉 00


🎖रजत पदक 🎖 👉 01


     काँस्य पदक 👉 01


10.कबड्डी


🏅 स्वर्ण पदक 🏅 👉 00


🎖रजत पदक🎖👉 01


     काँस्य पदक 👉 01



11.कुराश 


🏅 स्वर्ण पदक 🏅 👉 00


🎖रजत पदक 🎖👉 01


    काँस्य पदक 👉 01



12.स्कवैश 


🏅 स्वर्ण पदक 🏅👉00


🎖रजत पदक 🎖 👉 01


     काँस्य पदक 👉 04



13.वुशू


🏅 स्वर्ण पदक 🏅👉 00


🎖रजत पदक 🎖👉 00


    काँस्य पदक 👉 04


14.हॉकी 


🏅 स्वर्ण पदक 🏅👉 00


🎖रजत पदक 🎖👉01


    काँस्य पदक 👉 01


15.ब्रिज 


🏅स्वर्ण पदक 🏅👉01


🎖रजत पदक🎖👉00


  काँस्य पदक 👉 02


16.टेबल टेनिस 


🏅स्वर्ण पदक🏅👉 00


🎖रजत पदक🎖👉00


   काँस्य पदक 👉 02


17.मुक्केबाजी


🏅स्वर्ण पदक 🏅👉01


🎖रजत पदक 🎖👉00


    काँस्य पदक👉01


18.सेपक टकरा


🏅स्वर्ण पदक 🏅👉00


🎖रजत पदक🎖👉00


   काँस्य पदक 👉01


० अटल बिहारी वाजपेयी




























टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

SANJIVANI VATI ,CHANDRAPRABHA VATI,SHANKH VATI

१.संजीवनी वटी::-   संजीवनी वटी का वर्णन रामायण में भी मिलता हैं. जब मेघनाथ के साथ युद्ध में लक्ष्मण मूर्छित हुए तो  संजीवनी  बूटी ने लक्ष्मण को पुन: जीवन दिया था शांग्रधर संहिता में वर्णन हैं कि  "वटी संजीवनी नाम्ना संजीवयति मानवम" अर्थात संजीवनी वटी नाना प्रकार के रोगों में मनुष्य का संजीवन करती हैं.आधुनिक शब्दों में यह वटी हमारें बिगड़े मेट़ाबालिज्म को सुदृढ़ करती हैं.तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity)   बढ़ाती हैं. घटक द्रव्य:: विडंग,शुंठी,पीप्पली,हरीतकी,विभीतकी, आमलकी ,वच्च, गिलोय ,शुद्ध भल्लातक,शुद्ध वत्सना उपयोग::- सन्निपातज ज्वर,सर्पदंश,गठिया,श्वास, कास,उच्च कोलेस्ट्रोल, अर्श,मूर्छा,पीलिया,मधुमेह,स्त्री रोग ,भोजन में अरूचि. मात्रा::- वैघकीय परामर्श से Svyas845@gmail.com २.चन्द्रप्रभा वटी::- चन्द्रप्रभेति विख्याता सर्वरोगप्रणाशिनी उपरोक्त श्लोक से स्पष्ट हैं,कि चन्द्रप्रभा वटी समस्त रोगों का शमन करती हैं. घट़क द्रव्य::- कपूर,वच,भू-निम्बू, गिलोय ,देवदारू,हल्दी,अतिविष,दारूहल्दी,

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को रोकनें वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

Ayurvedic medicine list । आयुर्वैदिक औषधि सूची

Ayurvedic medicine list  [आयुर्वैदिक औषधि सूची] #1.नव ज्वर की औषधि और अनुसंशित मात्रा ::: १.त्रिभुवनकिर्ती रस  :::::   १२५ से २५० मि.ग्रा. २.संजीवनी वटी       :::::    १२५ से २५० मि.ग्रा. ३.गोदन्ती मिश्रण.    :::::     १२५ से २५० मि.ग्रा. #2.विषम ज्वर ::: १.सप्तपर्ण घन वटी  :::::    १२५ से २५० मि.ग्रा. २.सुदर्शन चूर्ण.        :::::     ३ से ६ ग्रा.   # 3 वातश्लैष्मिक ज्वर ::: १.लक्ष्मी विलास रस.  :::::  १२५ से २५० मि.ग्रा. २.संशमनी वटी          :::::  ५०० मि.ग्रा से १ ग्रा. # 4 जीर्ण ज्वर :::: १. प्रताप लंकेश्वर रस.  :::::  १२५ से २५० मि.ग्रा. २.महासुदर्शन चूर्ण.     :::::   ३ से ६ ग्राम ३.अमृतारिष्ट              :::::    २० से ३० मि.ली. # 5.सान्निपातिक ज्वर :::: १.नारदीय लक्ष्मी विलास रस. :::::  २५० से ५०० मि.ग्रा. २.भूनिम्बादि क्वाथ.      ::::: १०से २० मि.ली. #6 वातशलैष्मिक ज्वर :::: १.गोजिह्यादि क्वाथ.      ::::: २० से ४० मि.ली. २.सितोपलादि चूर्ण.       ::

एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन क्या हैं

#1.एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन क्या हैं ?  एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन एकीकृत पोषक तत्व प्रबंधन प्रणाली से अभिप्राय यह हैं,कि मृदा उर्वरता को बढ़ानें अथवा बनाए रखनें के लिये पोषक तत्वों के सभी उपलब्ध स्त्रोंतों से मृदा में पोषक तत्वों का इस प्रकार सामंजस्य रखा जाता हैं,जिससे मृदा की भौतिक,रासायनिक और जैविक गुणवत्ता पर हानिकारक प्रभाव डाले बगैर लगातार उच्च आर्थिक उत्पादन लिया जा सकता हैं.   विभिन्न कृषि जलवायु वाले क्षेत्रों में किसी भी फसल या फसल प्रणाली से अनूकूलतम उपज और गुणवत्ता तभी हासिल की जा सकती हैं जब समस्त उपलब्ध साधनों से पौध पौषक तत्वों को प्रदान कर उनका वैग्यानिक प्रबंध किया जाए.एकीकृत पौध पोषक तत्व प्रणाली एक परंपरागत पद्धति हैं. ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// यहाँ भी पढ़े 👇👇👇 विटामिन D के बारें में और अधिक जानियें यहाँ प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना ० तम्बाकू से होनें वाले नुकसान ० कृषि वानिकी क्या हैं ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// #2.एकीकृत पोषक त

karma aur bhagya [ कर्म और भाग्य ]

# 1 कर्म और भाग्य   कर्म आगे और भाग्य पिछे रहता हैं अक्सर लोग कर्म और भाग्य के बारें में चर्चा करतें वक्त अपनें - अपनें जीवन में घट़ित घट़नाओं के आधार पर निष्कर्ष निकालतें हैं,कोई कर्म को श्रेष्ठ मानता हैं,कोई भाग्य को ज़रूरी मानता हैं,तो कोई दोनों के अस्तित्व को आवश्यक मानता हैं.लेकिन क्या जीवन में दोनों का अस्तित्व ज़रूरी हैं ? गीता में श्री कृष्ण अर्जुन को कर्मफल का उपदेश देकर कहतें हैं.     " कर्मण्यें वाधिकारवस्तें मा फलेषु कदाचन " अर्थात मनुष्य सिर्फ कर्म करनें का अधिकारी हैं,फल पर अर्थात परिणाम पर उसका कोई अधिकार नहीं हैं,आगे श्री कृष्ण बतातें हैं,कि यदि मनुष्य कर्म करतें करतें मर  जाता हैं,और इस जन्म में उसे अपनें कर्म का फल प्राप्त नहीं होता तो हमें यह नहीं मानना चाहियें की कर्म व्यर्थ हो गया बल्कि यह कर्म अगले जन्म में भाग्य बनकर लोगों को आश्चर्य में ड़ालता हैं, ]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]][]]]]]][[[[[[[]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]]] ● यह भी पढ़े 👇👇👇 ● आत्मविकास के 9 मार्ग ● स्वस्थ सामाजिक जीवन के 3 पीलर

गिलोय के फायदे । GILOY KE FAYDE

  गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोटीन : 2.3

म.प्र.की प्रमुख नदी [river]

म.प्र.की प्रमुख नदी [river]  म.प्र.भारत का ह्रदय प्रदेश होनें के साथ - साथ नदी,पहाड़,जंगल,पशु - पक्षी,जीव - जंतुओं के मामलें में देश का अग्रणी राज्य हैं.  river map of mp प्रदेश में बहनें वाली सदानीरा नदीयों ने प्रदेश की मिट्टी को उपजाऊ बनाकर सम्पूर्ण प्रदेश को पोषित और पल्लवित किया हैं.यही कारण हैं कि यह प्रदेश "नदीयों का मायका" उपनाम से प्रसिद्ध हैं. ऐसी ही कुछ महत्वपूर्ण नदियाँ प्रदेश में प्रवाहित होती हैं,जिनकी चर्चा यहाँ प्रासंगिक हैं. #१.नर्मदा नर्मदा म.प्र.की जीवनरेखा कही जाती हैं.इस नदी के कि नारें अनेक  सभ्यताओं ने जन्म लिया . #उद्गम  यह नदी प्रदेश के अमरकंटक जिला अनूपपुर स्थित " विंध्याँचल " की पर्वतमालाओं से निकलती हैं. नर्मदा प्रदेश की सबसे लम्बी नदी हैं,इसकी कुल लम्बाई 1312 किमी हैं. म.प्र.में यह नदी 1077 किमी भू भाग पर बहती हैं.बाकि 161 किलोमीटर गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र में बहती हैं. नर्मदा प्रदेश के 15 जिलों से होकर बहती हैं जिनमें शामिल हैं,अनूपपुर,मंड़ला,डिंडोरी,जबलपुर,न

पारस पीपल के औषधीय गुण

पारस पीपल के औषधीय गुण Paras pipal KE ausdhiy gun ::: पारस पीपल के औषधीय गुण पारस पीपल का  वर्णन ::: पारस पीपल पीपल वृक्ष के समान होता हैं । इसके पत्तें पीपल के पत्तों के समान ही होतें हैं ।पारस पीपल के फूल paras pipal KE phul  भिंड़ी के फूलों के समान घंटाकार और पीलें रंग के होतें हैं । सूखने पर यह फूल गुलाबी रंग के हो जातें हैं इन फूलों में पीला रंग का चिकना द्रव भरा रहता हैं ।  पारस पीपल के  फल paras pipal ke fal खट्टें मिठे और जड़ कसैली होती हैं । पारस पीपल का संस्कृत नाम  पारस पीपल को संस्कृत  में गर्दभांड़, कमंडुलु ,कंदराल ,फलीश ,कपितन और पारिश कहतें हैं।  पारस पीपल का हिन्दी नाम  पारस पीपल को हिन्दी में पारस पीपल ,गजदंड़ ,भेंड़ी और फारस झाड़ के नाम से जाना जाता हैं ।   पारस पीपल का अंग्रजी नाम Paras pipal ka angreji Nam ::: पारस पीपल का अंग्रेजी नाम paras pipal ka angreji nam "Portia tree "हैं । पारस पीपल का लेटिन नाम Paras pipal ka letin Nam ::: पारस पीपल का लेटिन paras pipal ka letin nam नाम Thespesia

भगवान श्री राम का प्रेरणाप्रद चरित्र [BHAGVAN SHRI RAM]

 Shri ram #भगवान श्री राम का प्रेरणाप्रद चरित्र रामायण या रामचरित मानस सेकड़ों वर्षों से आमजनों द्धारा पढ़ी और सुनी जा रही हैं.जिसमें भगवान राम के चरित्र को विस्तारपूर्वक समझाया गया हैं,यदि हम थोड़ा और गहराई में जाकर राम के चरित्र को समझे तो सामाजिक जीवन में आनें वाली कई समस्यओं का उत्तर उनका जीवन देता हैं जैसें ● आत्मविकास के 9 मार्ग #१.आदर्श पुत्र ::: श्री राम भगवान अपने पिता के सबसे आदर्श पुत्र थें, एक ऐसे समय जब पिता उन्हें वनवास जानें के लिये मना कर रहें थें,तब राम ही थे जिन्होनें अपनें पिता दशरथ को सूर्यवंश की परम्परा बताते हुये कहा कि रघुकुल रिती सदा चली आई | प्राण जाई पर वचन न जाई || एक ऐसे समय जब मुश्किल स्वंय पर आ रही हो  पुत्र अपनें कुल की परंपरा का पालन करनें के लिये अपने पिता को  कह रहा हो यह एक आदर्श पुत्र के ही गुण हैं. दूसरा जब कैकयी ने राम को वनवास जानें का कहा तो उन्होनें निसंकोच होकर अपनी सगी माता के समान ही कैकयी की आज्ञा का पालन कर परिवार का  बिखराव होनें से रोका. आज के समय में जब पुत्र अपनें माता - पिता के फैसलों