सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

INSPIRE AWARD (इंस्पायर अवार्ड) क्या हैं

# INSPIRE AWARD इंस्पायर अवार्ड क्या हैं ?
award for student
 Inspire award

इंस्पायर अवार्ड INSPIRE AWARD  मानक,भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा संचालित एक विशिष्ट कार्यक्रम हैं।इसका मुख्य उद्देश्य प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को किशोरावस्था में आकर्षित करना और उन्हें विज्ञान की रचनात्मक खोज से परिचित कराना हैं ।



साल 2009 - 10 में भारत सरकार के विज्ञान और प्रोधोगिकी विभाग ने इंस्पायर अवार्ड की शुरुआत की थी ।कुछ बदलावों के साथ अब इंस्पायर अवार्ड मानक का आयोजन राष्ट्रीय नवपर्वतन प्रतिष्ठान भारत के सहयोग से किया जा रहा हैं ।




इस कार्यक्रम में देशभर के कक्षा 6 से 10 तक सभी मान्यता प्राप्त सरकारी अथवा निजी/सहायता प्राप्त/गैर सहायता प्राप्त स्कूलों के विद्यार्थियों के मौलिक विचारों और नवप्रवर्तनो को आमंत्रित किया जाता हैं।जिससे भविष्य में विज्ञान और प्रौद्योगिकी को बढ़ावा और मजबूती देने के लिये एक बेहतर मानव बल श्रृंखला तैयार की जा सके,इसके साथ ही शोध और विकास के आधार को मजबूती दी जा सके ।

 इंस्पायर अवार्ड मानक के तहत किस प्रकार के आवेदन आमंत्रित किया जाता हैं ?


इंस्पायर अवार्ड्स मानक के तहत विद्यार्थियों के मौलिक विचारों/नवप्रवर्तनो को आमंत्रित किया जाता हैं, जो समाज की रोजमर्रा की समस्याओं का समाधान कर सके ।इसके अलावा घरेलू और मजदूरों के श्रम को कम करने के उपाय जो उनकी कार्यक्षमता को बढ़ाने के साथ साथ सेवाओं को भी आसान कर दे ।




# प्रतियोगिता में कोंन कोंन भाग ले सकता हैं :::

खोज
 नवप्रवर्तन 


इंस्पायर अवार्ड प्रतियोगिता में कक्षा 6 से लेकर कक्षा 10 तक ( 10  से 15 साल उम्र के) सभी विद्यार्थी भाग ले सकते हैं ।



# क्या सभी शिक्षा समितियों (  राष्ट्रीय और राज्य ) के विद्यार्थी इसमें भाग ले सकते हैं ?



हाँ, इंस्पायर अवार्ड मानक में सभी शिक्षा समितियों ( राष्ट्रीय और राज्य)के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं ।






# कोंन कोंन सी भाषाओं में विद्यार्थी अपना आवेदन जमा कर सकते हैं ?


विद्यार्थी निर्धारित प्रारूप में भारत सरकार से मान्यता प्राप्त सभी भाषाओं में अपना आवेदन विद्यालय में जमा कर सकते हैं ।






# प्रतियोगिता की समय सीमा क्या हैं ?


इंस्पायर अवार्ड के लिए नामांकन प्रत्येक वर्ष 31 जुलाई तक किया जा सकता हैं।






# योजना का कार्यान्वयन कैसे किया जायेगा ?






* राज्य एवं जिला स्तर के पदाधिकारियों में इंस्पायर अवार्डस मानक कार्यक्रम के प्रति जागरूकता और कार्यक्षमता बढ़ाने के लिये देश में क्षेत्रीय कार्यशालाओं का आयोजन,जिसमें साहित्य और ऑडियो वीडियो टूल के जरिये योजना से सम्बंधित सभी जानकारियो से अवगत कराया जाएगा।




* प्राचार्य / मुख्य अध्यापक द्वारा स्कूलों में आईडिया प्रतियोगिता के जरिये विद्यार्थियों के दो से तीन अच्छे विचारों/ नवप्रवर्तनो का चयन किया जायेगा, जिसका ऑनलाइन नामांकन विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग भारत सरकार के वेब पोर्टल पर किया जाएगा ।




*  नये विद्यालय वेब पोर्टल पर स्वंय को पंजीकृत कर सकते हैं ।




* केवल उत्तर पूर्व क्षेत्र के राज्य ( असम,अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा ) और जम्मू कश्मीर के स्कूल विद्यार्थीयो के विचारो / नवप्रवर्तनो को तय प्रारूप में स्पीड पोस्ट के जरिए राष्ट्रीय नव प्रवर्तन प्रतिष्ठान को भेज सकते हैं ।




* विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग भारत सरकार और राष्ट्रीय नव प्रवर्तन प्रतिष्ठान द्वारा एक लाख विचारों का चयन किया जाएगा।सभी छात्रों को 10 हजार रुपए की पुरुस्कार राशि प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण योजना के जरिए सीधे उनके खातों में भेजी जाएगी।





* राज्य और जिला स्तर के प्राधिकारियों द्वारा जिला स्तरीय प्रदर्शनी और प्रोजेक्ट कॉम्पिटिशन का आयोजन, यहाँ से 10 हजार विचारों/नवप्रवर्तनो का चयन राज्य स्तरीय प्रतियोगिता और प्रदर्शनी के लिए किया जाएगा  ।




* राज्य स्तरीय प्रदर्शनी और प्रोजेक्ट कॉम्पिटिशन का आयोजन, जहां से एक हजार विचारों/नव प्रवर्तनो का चयन किया जाएगा।इस स्तर पर राष्ट्रीय नवपर्तन प्रतिष्ठान देश के विभिन्न तकनीकी संस्थानों के सहयोग से विद्यार्थियों के प्रोटोटाइप/मॉडल विकसित करने में मदद और सलाह उपलब्ध कराएगा ।





*  विचारों का चयन उसकी नवीनता,व्यहवारिकता ,सामाजिक उपयोगिता, पर्यावरण की अनुकूलता और वर्तमान में मौजूद तकनीक से बेहतरी के आधार पर होगा ।




* चयनित 1000 प्रतिकृति को राष्ट्रीय स्तर की प्रदर्शनी में रखा जायेगा, जहां से श्रेष्ठ 60 को राष्ट्रीय पुरस्कार के लिये चयनित किया जाएगा ।





* राष्ट्रीय नवप्रवर्तन प्रतिष्ठान चयनित सभी 60 प्रोटोटाइप की उपयोगिता, व्यावसायिकता की संभावना की जाँच कर उसे विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग और राष्ट्रीय नवप्रवर्तन प्रतिष्ठान की अन्य योजनाओं से जोड़ने का प्रयास करेगा ।और सभी प्रोटोटाइप को राष्ट्रपति भवन में आयोजित होने वाले नवप्रवर्तन एवं उद्यमिता उत्सव में प्रदर्शित किया जायेगा ।





* पुरुस्कार की घोषणा कब की जायेगी और इसे कब दिया जायेगा ?





* अक्टूबर में विचारों/ नवप्रवर्तनो का चयन और पुरुस्कार राशि का हस्तांतरण



* नवम्बर में जिलास्तरीय प्रदर्शनी और प्रोजेक्ट प्रतियोगिता का आयोजन




* नवम्बर में राज्यस्तरीय प्रदर्शनी और प्रोजेक्ट प्रतियोगिता का आयोजन



* दिसम्बर के पहले सप्ताह में राष्ट्रीय स्तर की प्रदर्शनी और प्रोजेक्ट प्रतियोगिता का आयोजन




* प्रतिवर्ष मार्च माह में राष्ट्रपति भवन में आयोजित होंने वाले नवप्रवर्तन उत्सव में विशिष्ठ 60 विचारों/नवप्रवर्तनो का प्रदर्शन।




# क्या प्रतियोगिता में विद्यार्थियों के आवेदन की कोई संख्या तय की गई हैं ?





 नहीं, विद्यार्थीयो को उनकी इच्छानुसार एक साथ अनेकों विचारों/ नवप्रवर्तनो के आवेदन के लिये प्रोत्साहित किया जाता हैं।






टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरु भी उसी श्रेणी की   आयुर्वेदिक औषधी   हैं। जो सामान्य मिट्टी   से   कहीं अधिक   इसके   विशिष्ट गुणों के लिए जानी जाती हैं। गेरु लाल रंग की मिट्टी होती हैं। जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्रा में मिलती हैं। इसे गेरु या सेनागेरु कहते हैं। गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं । गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस्त्राव को कम करने वाली सर्वमान्य औषधी हैं । इसके लिय

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? #6 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. = 0.5 ml 2.D.P.T. = 0.5 ml मध्य जांघ का बाहरी हिस्सें में माँसपेशियों में. 3.o.p.v.या oral polio vaccine. #10 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v. #14 सप्ताह पर ::: 1.हेपेटाइटिस बी. 2.D.P.T. 3.o.p.v.   #9 से 12 माह

काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan

धतूरा भगवान शिव का प्रिय पौधा है। भगवान शिव धतूरा अपने मस्तिष्क पर धारण करते हैं और जो लोग धतूरा भगवान शिव को अर्पण करते थे वे उन्हें मनचाहा आशीष प्रदान करते हैं। धतूरा भी कई प्रकार का होता है जैसे काला धतूरा, सफेद धतूरा, पीला धतूरा आदि। आज हम आपको "काला धतूरा के फायदे और नुकसान kala dhatura ke fayde aur nuksan" के बारे में बताएंगे।  काला धतूरा के फायदे और नुकसान आयुर्वेद आयुर्वेद चिकित्सा में काला धतूरा बहुत महत्वपूर्ण औषधि के रूप में बहुत लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है । धतूरा बहुत ही जहरीला फल होता है , प्रकृति में गर्म और भारी होता है। काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम काला धतूरा का वैज्ञानिक नाम धतूरा स्ट्रामोनियम DHATURA STRAMONIUM है । अंग्रेजी में इसे डेविल्स एप्पल Devil's apple, डेविल्स ट्रम्पेट Devil's trumpet के नाम से जाना जाता है। संस्कृत में इसे दस्तूर, मदन, उन्मत्त ,शिव प्रिय महामोधि, कनक आदि नाम से जानते हैं। काला धतूरा की पहचान कैसे करें  काला धतूरा के पत्ते नोक दार ,डंठल युक्त और बड़े आकार के होते हैं। काला धतूरा के फूल घंटी