सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मंत्रीद्धय ने किया जिला आयुष कार्यालय के नवीन भवन का भूमिपूजन

 उज्जैन :: दिनांक १६ जनवरी २०२१ 



मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री डाँ मोहन यादव और आयुष मंत्री (स्वतंत्र प्रभार ) श्री रामकिशोर "नानो" कांवरे, ने कोठी रोड़ उदयन मार्ग पर 66.03 लाख की लागत से निर्मित होनें वाले जिला आयुष कार्यालय के नवीन भवन का भूमिपूजन कन्या पुजन के साथ किया ।  








कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये आयुष मंत्री नें अपने उद्भभोदन में कहा कि पूरे कोरोना काल में जब सभी लोग घरों में थे तब आयुष विभाग लोगों की सेवा कर रहा था । रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी के लिए आयुष विभाग द्धारा बांटा गया त्रिकटु चूर्ण घर घर पंहुच गया ।



आयुष मंत्री ने अपने उद्भेभोदन में आयुष विभाग की प्रशंसा करते हुए कहा कि आपके काम का मूल्यांकन हमनें किया हैं और उस मूल्यांकन का फल भी आपको मिलेगा।



कार्यक्रम में अध्यक्षीय उद्भभोदन देते हुए कैबिनेट मंत्री डाँ.मोहन यादव ने कहा कि उज्जैन आयुर्वेद,योग,और नेचुरोपैथी के क्षेत्र में बहुत संभावना वाला शहर हैं और आगामी दिनों में यहाँ इनके अध्ययन की संभावना हेतू प्रयास किये जांएगे।



पूर्व कैबिनेट मंत्री और विधायक श्री पारस जैन ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि आयुर्वेद चिकित्सालयों में भी ऐलोपैथिक चिकित्सालयों की भाँति रोगी कल्याण समिति का गठन किया जाए ताकि इनका विकास भी ऐलोपैथी की भाँति हो सकें ।



इसके पूर्व अतिथीगणों का स्वागत उपसंचालक आयुष विभाग श्री पी.सी.शर्मा,संभागीय आयुष अधिकारी उज्जैन संभाग श्री प्रदीप कटियार,जिला आयुष अधिकारी जिला उज्जैन श्री मति मनीषा पाठक,आयुष चिकित्सा अधिकारी डाँ.ओ.पी.पालीवाल,डाँ.विशाल सोलंकी, डाँ.महेन्द्र कौशल,डाँ.अभिषेक त्यागी ने किया । आयुष कर्मचारी संगठन संभाग उज्जैन की ओर से स्वागत करने वालो में प्रदेश प्रवक्ता सतीश व्यास,प्रवीण लोदवाल,संगीता भाटी और देवेन्द्र शर्मा के नाम प्रमुख थे ।




कार्यक्रम का संचालन डाँ.ओ.पी.पालीवाल और आभार डाँ.मनीषा पाठक ने माना ।






ज्ञापन देनें वालो का तांता लगा










लम्बें समय बाद आयुष मंत्री शहर में थे ऐसे में ज्ञापन देनें वाले संगठन भी बड़ी संख्या में कार्यक्रम स्थल पर मौजूद रहें । आयुष कर्मचारी संगठन की ओर से प्रदेश प्रवक्ता सतीश व्यास,प्रवीण लोदवाल और देवेन्द्र शर्मा ने ज्ञापन के माध्यम से कर्मचारी संगठन की लम्बित मांगों की ओर शासन का ध्यान आकर्षिक करने हेतू  ग्यारह सूत्री माँगों का ज्ञापन सौंपा इस पर मंत्री महोदय ने कहा कि हमें आपकी मांगों का संज्ञान हैं और ज्ञापन पर कार्यवाहीं की जायेगी ।


राज्य कर्मचारी संगठन ने भी कर्मचारीयों की मांगों को उठाते हुए मंत्री महोदय को ज्ञापन सौंपा ,इसी प्रकार सेवानिवृत्त आयुष अधिकारी संगठन,आयुर्वेदिक दवा उत्पादक संगठन,आयुष चिकित्सा अधिकारी संगठन ने भी ज्ञापन के माध्यम से अपनी समस्या मंत्री महोदय के सामने रखी ।



















टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीकाकरण चार्ट [vaccination chart] और संभावित प्रश्न

 टीकाकरण चार्ट # 1.गर्भावस्था के समय टीकाकारण ::: गर्भावस्था की शुरूआत में Titnus का पहला टीका टी.टी - 1. टी.टी -1 के चार सप्ताह बाद टी.टी.-2 यदि पिछली गर्भावस्था में टी.टी - 2 दिया गया हैं,तो केवल बूस्टर दीजिए. ० गर्भावस्था के प्रथम तीन महिनें मे किए जानें वाले योगासन # टीके की मात्रा ,कैसें और कहाँ दें 0.5 ml.मात्रा प्रशिक्षित व्यक्ति द्धारा ऊपरी बांह की मांसपेशी में. # महत्वपूर्ण गर्भावस्था के 36 सप्ताह हो गयें हो तो मात्र टी.टी.- बूस्टर देना चाहियें.  टीकाकरण का दृश्य # 2.शिशुओं के लियें टीकाकरण  #जन्म के समय ::: 1. B.C.G.  =     0.1 ml बाँह पर त्वचा के निचें. 2.हेपेटाइटिस बी.=  0.5 ml मध्य जांघ के बाहरी हिस्सें पर मांसपेशी में 3.o.p.v.या oral polio vaccine = दो बूँद मुहँ में . ///////////////////////////////////////////////////////////////////////// ० आँखों का सूखापन क्या बीमारी हैं ? जानियें इस लिंक पर ०  जानिये पोलियो क्या होता हैं ? ० चुम्बक चिकित्सा के बारें में जानें ० बच्चों की परवरिश कैसें करें healthy parating

गेरू के औषधीय प्रयोग

गेरू के औषधीय प्रयोग गेरू के औषधीय प्रयोग   आयुर्वेद चिकित्सा में कुछ औषधीयाँ सामान्य जन के मन में  इतना आश्चर्य पैदा करती हैं कि कई लोग इन्हें तब तक औषधी नही मानतें जब तक की इनके विशिष्ट प्रभाव को महसूस नही कर लें । गेरू भी उसी श्रेणी की आयुर्वेद औषधी हैं । जो सामान्य मिट्टी से कही अधिक इसके विशिष्ट गुणों के लियें जानी जाती हैं । गेरू लाल रंग की की मिट्टी होती हैं जो सम्पूर्ण भारत में बहुतायत मात्र में मिलती हैं । इसे गेरू या सेनागेरू भी कहतें हैं । गेरू आयुर्वेद की विशिष्ट औषधी हैं जिसका प्रयोग रोग निदान में बहुतायत किया जाता हैं ।     गेरू का संस्कृत नाम  गेरू को संस्कृत में गेरिक ,स्वर्णगेरिक तथा पाषाण गेरिक के नाम से जाना जाता हैं । गेरू का लेटिन नाम  गेरू   silicate of aluminia  के नाम से जानी जाती हैं । गेरू की आयुर्वेद मतानुसार प्रकृति गेरू स्निग्ध ,मधुर कसैला ,और शीतल होता हैं । गेरू के औषधीय प्रयोग 1. आंतरिक रक्तस्त्राव रोकनें में गेरू शरीर के किसी भी हिस्से में होनें वाले रक्तस

गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE

 GILOY KE FAYDE गिलोय के फायदे GILOY KE FAYDE गिलोय का संस्कृत नाम क्या हैं ? गिलोय का संस्कृत नाम गुडुची,अमृतवल्ली ,सोमवल्ली, और अमृता हैं । गिलोय का हिन्दी नाम क्या हैं ? गिलोय GILOY का हिन्दी नाम 'गिलोय,अमृता, संशमनी और गुडुची हैं । गिलोय का लेटिन नाम क्या हैं ? गिलोय का लेटिन नाम Tinospra cordipoolia (टिनोस्पोरा  कोर्ड़िफोलिया ) गिलोय की पहचान कैसें करें ? गिलोय सम्पूर्ण भारत वर्ष में पाई जानें वाली आयुर्वेद की सुप्रसिद्ध औषधी हैं । Ayurveda ki suprasiddh oshdhi hai यह बेल रूप में पाई जाती हैं, और दूसरें वृक्षों के सहारे चढ़कर पोषण प्राप्त करती हैं । गिलोय के पत्तें दिल के (Heart shape) आकार के होतें हैं।  गिलोय का तना अंगूठे जीतना मोटा और प्रारंभिक   अवस्था में हरा जबकि सूखनें पर धूसर हो जाता हैं । गिलोय के फूल छोटे आकार के और हल्का पीलापन लियें गुच्छों में लगतें हैं । गिलोय के फल पकनें पर लाल रंग के होतें हैं यह भी गुच्छों में पाये जातें हैं । गिलोय में पाए जाने वाले पौषक तत्व 1.लोह तत्व : 5.87 मिलीग्राम 2.प्रोट