शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2020

bakuchi ke fayde


Bakuchi ke fayde





बाकुची के पौधे बरसात में सामान्यतः उगते हैं । Bakuchi ke podho की लम्बाई एक से लेकर चार फीट तक होती हैं । बाकुची की डाली सीधी और पत्ते ग्वार के पत्तों के सदृश्य होते हैं । बाकुची के पत्तों के कोनों में से तीन इंच लम्बे ऊंगली के समान डंठल निकलते हैं और इनके ऊपर गहरे बैंगनी रंग के फूल निकलते हैं। बाकुची के फूलों का आकार तुलसी की मंजरी के समान होता हैं ।



बाकुची के फूलों में से पतली तोते के समान फलियां निकलती हैं जो पकने पर काली पड़ जाती हैं । इन फलियों में बीज भी काले रंग के निकलते हैं । 


बाकुची का संस्कृत नाम 


सोमराज,कृष्णफल,कुष्ठनाशिनी,सोमवल्ली




बाकुची का हिन्दी नाम



बावर्ची,बकुची


बाकुची का लेटिन नाम



Psoralea corylifolia सोरेलिया कोरिलीफोलिया



आयुर्वेद मतानुसार बाकुची की प्रकृति



आयुर्वेद मतानुसार बावची शीतल,कटु और पित्त शामक होती हैं ।



बाकुची के फायदे सफेद दाग में





बावची के बीजों को गोमूत्र में पांच घंटे के लिए भिगो दें तत्पश्चात निकालकर छाया में सूखा लें। और बाकुची के बीज से आधा भाग जीरे का मिलाकर इस मिश्रण को पीस लें। रोज सुबह शाम आधा आधा चम्मच इस मिश्रण को लगभग एक साल तक ले । सफेद दाग में बहुत फायदा होता हैं । 



गठान होने पर बाकुची के फायदे



बाकुची के बीजों को पीसकर चूर्ण बना लें,इस चूर्ण को पानी मिलाकर कुछ समय तक गर्म कर लें थोड़ा गर्म रहने पर गांठ पर बांध लें कुछ दिनों के प्रयोग से गठान बैठ जाती हैं ।




दाद खाज में बाकुची के फायदे


बाकुची के पत्तों को पीसकर दाद खाज खुजली वाली त्वचा पर लगाने से दाद खाज खुजली मिट जाती हैं ।



बालों के लिए बाकुची के फायदे




बाकुची की फलियों को पानी में उबाल लें,इस उबले हुए पानी से बालों को धो लें। बाल घने, चमकीले और घने हो जातें हैं ।




पीलिया होनें पर बाकुची के फायदे



बाकुची के फूलों को पानी में कुछ समय तक उबाल लें। और यह पानी थोड़ा थोड़ा करके पीलिया पीड़ित व्यक्ति को पीलाएं बहुत आराम मिलेगा ।



दांतों की सड़न रोकने में बाकुची के फायदे



बाकुची की जड़ सडे दांत पर लगाने से सडे हुए दांतों की सड़न रुक जाती हैं ।



दस्त रोकने में बाकुची के फायदे



बाकुची के पत्तों को पानी में उबालकर इस पानी को दस्त पीड़ित व्यक्ति को पीलाने से दस्त तीव्रता से बंद हो जातें हैं ।



त्वचा के कैंसर को रोकने में बाकुची के फायदे



त्वचा के कैंसर की प्रारंभिक अवस्था से ही यदि बावची के बीजों और काले तिल को मिलाकर लम्बे समय तक सेवन करना चाहिए ऐसा करने से त्वचा का कैंसर का प्रभाव बहुत सीमित हो जाता हैं ।

















Bakuchi ke fayde







० कान्वेलेसेंट प्लाज्मा थैरेपी










लेबल:

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

सदस्यता लें टिप्पणियाँ भेजें [Atom]

<< मुखपृष्ठ