रविवार, 9 जून 2019

ॐ उच्चारण के 11 लाभ

*"ॐ" के उच्चारण के 11 शारीरिक लाभ:*
ओम
 Om

*ॐ* ओउम् तीन अक्षरों से बना है। जिनमें है क्रमशः अ उ म्।

*"अ"* का अर्थ है उत्पन्न होना,

*"उ"* का तात्पर्य है उठना, उड़ना अर्थात् विकास,

*"म"* का मतलब है मौन हो जाना अर्थात् "ब्रह्मलीन" हो जाना।

*ॐ सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति और पूरी सृष्टि का द्योतक है।*

*ॐ का उच्चारण शारीरिक लाभ प्रदान करता है।*

ॐ का उच्चारण कैसे स्वास्थ्यवर्द्धक और आरोग्य के लिए मार्ग प्रशस्त करता है।

*उच्चारण की विधि*

प्रातः उठकर पवित्र होकर ओंकार ध्वनि का उच्चारण करें। 

ॐ का उच्चारण पद्मासन, अर्धपद्मासन, सुखासन, वज्रासन में बैठकर कर सकते हैं। 

इसका उच्चारण 5, 7, 10, 21 बार अपने समयानुसार कर सकते हैं। ॐ जोर से बोल सकते हैं, धीरे-धीरे बोल सकते हैं। ॐ जप माला से भी कर सकते हैं।

*01) ॐ और थायराॅयडः* ॐ का उच्चारण करने से गले में कंपन पैदा होती है जो थायरायड ग्रंथि पर सकारात्मक प्रभाव डालता है।

*02) ॐ और घबराहटः-* अगर आपको घबराहट या अधीरता होती है तो ॐ के उच्चारण से उत्तम कुछ भी नहीं।

*03) ॐ और तनावः-* यह शरीर के विषैले तत्त्वों को दूर करता है, अर्थात तनाव के कारण पैदा होने वाले द्रव्यों पर नियंत्रण करता है। 

*04) ॐ और खून का प्रवाहः-* यह हृदय और ख़ून के प्रवाह को संतुलित रखता है।

*5) ॐ और पाचनः-* ॐ के उच्चारण से पाचन शक्ति तेज़ होती है।

*06) ॐ लाए स्फूर्तिः-* इससे शरीर में फिर से युवावस्था वाली स्फूर्ति का संचार होता है।

*07) ॐ और थकान:-* थकान से बचाने के लिए इससे उत्तम उपाय कुछ और नहीं।

*08) ॐ और नींदः-* नींद न आने की समस्या इससे कुछ ही समय में दूर हो जाती है। रात को सोते समय नींद आने तक मन में इसको करने से निश्चिंत नींद आएगी।

*09) ॐ और फेफड़े:-* कुछ विशेष प्राणायाम के साथ इसे करने से फेफड़ों में मज़बूती आती है।

*10) ॐ और रीढ़ की हड्डी:-* ॐ के पहले शब्द का उच्चारण करने से कंपन पैदा होती है। इन कंपन से रीढ़ की हड्डी प्रभावित होती है और इसकी क्षमता बढ़ जाती है।

*11) ॐ दूर करे तनावः-* ॐ का उच्चारण करने से पूरा शरीर तनाव-रहित हो जाता है।

आशा है आप अब कुछ समय जरुर ॐ का उच्चारण करेंगे। साथ ही साथ इसे उन लोगों तक भी जरूर पहुंचायेगे जिनकी आपको फिक्र है।
अपना ख्याल रखिये, खुश रहें।

5 जून विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं

5 जून विश्व पर्यावरण दिवस  आइये जाने आज का ज्ञान  .

*पिछले 68 सालों में पीपल, बरगद,पकड़ी और नीम के पेडों को सरकारी स्तर पर लगाना बन्द किया गया है*

*पीपल कार्बन डाई ऑक्साइड का 100% एबजार्बर है, बरगद 80% और नीम 75 %*

*अब सरकार ने इन पेड़ों से दूरी बना ली तथा इसके बदले विदेशी यूकेलिप्टस को लगाना शुरू कर दिया जो जमीन को जल विहीन कर देता है*

*आज हर जगह यूकेलिप्टस, गुलमोहर और अन्य सजावटी पेड़ो ने ले ली है*

*अब जब वायुमण्डल में रिफ्रेशर ही नही रहेगा तो गर्मी तो बढ़ेगी ही और जब गर्मी बढ़ेगी तो जल भाप बनकर उड़ेगा ही*

*हर 500 मीटर की दूरी पर एक पीपल का पेड़ लगाये तो आने वाले कुछ साल भर बाद प्रदूषण मुक्त हिन्दुस्तान होगा*

*वैसे आपको एक और जानकारी दे दी जाए*
पीपल के पत्ते का फलक अधिक और डंठल पतला होता है जिसकी वजह शांत मौसम में भी पत्ते हिलते रहते हैं और स्वच्छ ऑक्सीजन देते रहते हैं।
पीपल को वृक्षों का राजा कहते है। 

*अब करने योग्य कार्य*

*इन जीवनदायी पेड़ों को ज्यादा से ज्यादा लगायें तथा यूकेलिप्टस पर बैन लगाया जाय*

*आइये हम सब मिलकर अपने "हिंदुस्तान" को प्राकृतिक आपदाओं से बचाएँ*.    
               
अपने व अपने बच्चों के जन्मदिन पर पीपल ,नीम, बरगदका पौधा जरूर लगायें।

8 jun ka rasifal

.                    ।। 🕉 ।।
    🚩 🌞  *सुप्रभातम्* 🌞🚩
📜 ««« *आज का पंचांग* »»»📜
कलियुगाब्द.............................5121
विक्रम संवत्............................2076
शक संवत्...............................1941
मास........................................ज्येष्ठ
पक्ष........................................शुक्ल
तिथी....................................सप्तमी
रात्रि 12.37 पर्यंत पश्चात अष्टमी
रवि...................................उत्तरायण
सूर्योदय...............प्रातः 05.41.00 पर
सूर्यास्त...............संध्या 07.11.59 पर
चंद्रोदय...............प्रातः 11.27.24 पर
चंद्रास्त................रात्रि 12.35.28 पर
सूर्य राशि.................................वृषभ
चन्द्र राशि.................................सिंह
नक्षत्र.......................................मघा
दोप 03.56 पर्यंत पश्चात पूर्वाफाल्गुनी
योग.......................................हर्षण
दोप 02.23 पर्यंत पश्चात वज्र
करण......................................गरज
दोप 01.45 पर्यन्त पश्चात वणिज
ऋतु.......................................ग्रीष्म
दिन.....................................रविवार

🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :-
09 जून सन 2019 ईस्वी ।

☸ शुभ अंक.......................5
🔯 शुभ रंग.....................लाल

👁‍🗨 *राहुकाल* :-
संध्या 05.26 से 07.06 तक ।

🌞 *उदय लग्न मुहूर्त :-*
*वृषभ*
04:12:00 06:10:18
*मिथुन*
06:10:18 08:23:37
*कर्क*
08:23:37 10:39:25
*सिंह*
10:39:25 12:50:52
*कन्या*
12:50:52 15:01:10
*तुला*
15:01:10 17:15:26
*वृश्चिक*
17:15:26 19:31:14
*धनु*
19:31:14 21:36:32
*मकर*
21:36:32 23:23:23
*कुम्भ*
23:23:23 24:56:41
*मीन*
24:56:41 26:27:38
*मेष*
26:27:38 28:08:04

🚦 *दिशाशूल* :-
पश्चिमदिशा - यदि आवश्यक हो तो दलिया, घी या पान का सेवनकर यात्रा प्रारंभ करें।

✡ *चौघडिया* :-
प्रात: 07.24 से 09.04 तक चंचल
प्रात: 09.04 से 10.45 तक लाभ
प्रात: 10.45 से 12.25 तक अमृत
दोप. 02.05 से 03.45 तक शुभ
सायं 07.06 से 08.25 तक शुभ
रात्रि 08.25 से 09.45 तक अमृत
रात्रि 09.45 से 11.05 तक चंचल ।

📿 *आज का मंत्रः*
|| ॐ आदित्याय नमः ||

 *संस्कृत सुभाषितानि* :-
धर्मो मातेव पुष्णानि धर्मः पाति पितेव च ।
धर्मः सखेव प्रीणाति धर्मः स्निह्यति बन्धुवत् ॥
अर्थात :-
धर्म माता की तरह हमें पुष्ट करता है, पिता की तरह हमारा रक्षण करता है, मित्र की तरह खुशी देता है, और संबंधीयों की भाँति स्नेह देता है ।

🍃 *आरोग्यं सलाह :-*
*गिलोय के औषधीय गुण : -*

*7. पीलिया -*
पीलिया के मरीजों को गिलोय के ताजे पत्तों का रस पिलाने से पीलिया जल्दी ठीक होता है। इसके अलावा गिलोय के सेवन से पीलिया में होने वाले बुखार और दर्द से भी आराम मिलता है। गिलोय स्वरस के अलावा आप पीलिया से निजात पाने के लिए गिलोय सत्व का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
एक से दो चुटकी गिलोय सत्व को शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार नाश्ते या कुछ खाने के बाद लें।

⚜ *आज का राशिफल* :-

🐏 *राशि फलादेश मेष :-*
*(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)*
पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। शैक्षणिक कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। मनोरंजन व आराम के अवसर प्राप्त होंगे। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। लाभ के अवसर प्राप्त होंगे। मित्रों का साथ रहेगा। जल्दबाजी न करें।

🐂 *राशि फलादेश वृष :-*
*(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)*
दांपत्य जीवन सुखी रहेगा। यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। परिवार के साथ समय प्रसन्नतापूर्वक व्यतीत होगा। किसी आनंददायक कार्यक्रम में भाग लेने का अवसर प्राप्त हो सकता है। आय के नए स्रोत प्राप्त होंगे। भागदौड़ रहेगी। चिंता रहेगी।

👫 *राशि फलादेश मिथुन :-*
*(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)*
किसी प्रकार से धनहानि हो सकती है। कोई शारीरिक कष्ट की आशंका है। दांपत्य जीवन सुखद रहेगा। यात्रा लाभदायक रहेगी। मेहनत का फल मिलेगा। किसी असहाय व्यक्ति की सेवा करने का अवसर प्राप्त होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। कारोबार में वृद्धि होगी।

🦀 *राशि फलादेश कर्क :-*
*(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)*
घर में अतिथियों का आगमन होगा। दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। कोई बड़ा काम करने का मन बनेगा। व्यस्तता के चलते थकान हो सकती है। दुष्टजनों से दूरी बनाए रखें। धनार्जन होगा।

🦁 *राशि फलादेश सिंह :-*
*(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)*
व्यावसायिक यात्रा लंबी हो सकती है। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। अप्रत्याशित लाभ के योग हैं। लॉटरी व सट्टे से दूर रहें। स्वास्थ्य अच्‍छा रहेगा। सुख के साधनों पर व्यय होगा। नौकरी में प्रभाव वृद्धि होगी।

👩🏻‍🦱 *राशि फलादेश कन्या :-*
*(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)*
कोई बड़ा व्यय होने की संभावना है, दूसरों से अपेक्षा न करें। किसी भी तरह की बहस में हिस्सा न लें। काम में मन नहीं लगेगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। महत्वपूर्ण निर्णय लेने में जल्दबाजी न करें। धैर्य रखें।

⚖ *राशि फलादेश तुला :-*
*(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)*
डूबी हुई रकम प्राप्ति के योग हैं। भाग्य का साथ रहेगा, प्रयास करें। लंबी यात्रा हो सकती है। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी न करें।

🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-*
*(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)*
आर्थिक उन्नति के लिए नई योजना बनेगी। सामाजिक कार्य करने की प्रेरणा प्राप्त होगी। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। घर-परिवार के सदस्यों के साथ जीवन सुखमय व्यतीत होगा। उत्साह से परिपूर्णता रहेगी।

🏹 *राशि फलादेश धनु :-*
*(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)*
किसी तीर्थयात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। किसी साधु-संत का आशीर्वाद मिल सकता है। घर-बाहर जीवन आनंदपूर्वक व्यतीत होगा। किसी मांगलिक कार्य में सम्मिलित होने का अवसर प्राप्त हो सकता है। धनार्जन होगा।

🐊 *राशि फलादेश मकर :-*
*(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)*
वाहन व मशीनरी के प्रयोग में कतई लापरवाही न करें। चिंता तथा तनाव रहेंगे। जल्दबाजी में कोई भी निर्णय न लें। विवेक का प्रयोग करें। संतान संबंधी चिंता में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय व नौकरी लाभप्रद रहेंगे।

🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-*
*(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)*
किसी विवाद में विजय प्राप्त होगी। प्रेम-प्रसंग अनुकूल रहेंगे। छोटी-मोटी यात्रा हो सकती है। आसपास का वातावरण प्रसन्नतादायक रहेगा। आय में वृद्धि होगी। परिवार का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार अच्‍छा चलेगा।

🐠 *राशि फलादेश मीन :-*
*(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)*
भूमि, भवन, फैक्टरी व शोरूम इत्यादि की खरीद-फरोख्त की योजना बनेगी। भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। मित्रों का सहयोग मिलेगा। बाहर जाने का कार्यक्रम बन सकता है। उत्साह व प्रसन्नता से कार्य कर पाएंगे।

☯ आज का दिन सभी के लिए मंगलमय हो ।

।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।।

🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩

प्रदूषित होती नदिया(River) कही सभ्यताओं के अंत का संकेत तो नही

विश्व की तमाम सभ्यताएँ नदियों के किनारें पल्लवित हुई हैं,चाहे मेसोपोटोमिया हो या हड़प्पा यदि नदिया नही होती तो न ये सभ्यताएँ होती और ना ही...