गुरुवार, 21 नवंबर 2019

भगवान राम के बाल्यकाल का एक प्रेरक प्रसंग*

🌹💐

*भगवान राम के बाल्यकाल का एक प्रेरक प्रसंग*

_कैकेयी वर्षों पुराने स्मृति कोष में चली गई,  उन्हें वह दिन याद आ गया जब वे राम और भरत को बाण संधान की प्रारम्भिक शिक्षा दे रहीं थीं।_

_जब उन्होंने भरत से घने वृक्ष की डाल पर चुपचाप बैठे हुए एक कपोत पर लक्ष्य साधने के लिए कहा तो भरत ने भावुक होते हुए अपना धनुष नीचे रख दिया था और कैकेयी से कहा था -- माँ ! किसी का जीवन लेने पर यदि मेरी दक्षता निर्भर है तो मुझे दक्ष नहीं होना। मैं इस निर्दोष पक्षी को अपना लक्ष्य नहीं  बना सकता, उसने क्या बिगाड़ा है जो उसे मेरे लक्ष्य की प्रवीणता के लिए अपने प्राण गंवाने पड़ें?_

    

_कैकेयी बालक भरत के हृदय में चल रहे भावों को बहुत अच्छे से समझ रहीं थीं। ये बालक बिल्कुल यथा नाम  तथा गुण ही है। भावों से भरा हुआ , जिसके हृदय में प्रेम  सदैव विद्यमान रहता है।_

_तब कैकेयी ने राम से कहा -- पुत्र राम! उस कपोत पर अपना लक्ष्य साधो। राम ने क्षण भी नहीं  लगाया और उस कपोत को भेद कर रख दिया था।_

_राम के सधे हुए निशाने से प्रसन्न कैकेयी ने राम से पूछा था --  पुत्र!  तुमने उचित-अनुचित का विचार नहीं किया? तुम्हें उस पक्षी पर तनिक भी दया न आयी?_

_राम ने भोलेपन से कहा था -- माँ ! मेरे लिए जीवन से अधिक महत्वपूर्ण मेरी माँ की आज्ञा है । उचित-अनुचित का विचार करना, ये माँ का काम है। माँ का संकल्प, उसकी इच्छा,  उसके आदेश को पूरा करना ही मेरा लक्ष्य है । तुम मुझे सिखा भी रही हो और  दिखा भी रही हो।  तुम हमारी माँ ही नहीं  गुरु भी हो, यह किसी भी पुत्र का, शिष्य का कर्तव्य होता है कि वह अपने गुरु, अपनी माँ के दिखाए और सिखाए गए मार्ग पर निर्विकार,  निर्भीकता के साथ आगे बढ़े, अन्यथा गुरु का सिखाना और दिखाना सब व्यर्थ हो जायगा।_

_कैकेयी ने आह्लादित होते हुए राम को अपने अंक में भर लिया था, और दोनों बच्चों को लेकर राम के द्वारा गिराए गए कपोत के पास पहुँच गईं ।_

_भरत आश्चर्य से उस पक्षी को देख रहे थे, जिसे राम ने अपने पहले ही प्रयास में मार गिराया था। पक्षी के वक्ष में बाण घुसा होने के बाद भी उन्हें रक्त की एक बूंद भी दिखाई नहीं दे रही थी।_

_भरत ने उस पक्षी को हाथ में लेते हुए कहा-- माँ ! यह क्या? ये तो खिलौना है। तुमने कितना सुंदर प्रतिरूप बनाया इस पक्षी का। मुझे ये सच का जीवित पक्षी प्रतीत हुआ था। तभी मैं इसके प्रति दया के भाव से भर गया था, माया के वशीभूत होकर मैंने आपकी आज्ञा का उल्लंघन किया,  इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ ।_

_तब कैकेयी ने बहुत ममता से कहा था -- पुत्रो!  मैं तुम्हारी माँ हूँ । मैं तुम्हें बाण का संधान सिखाना  चाहती हूँ,  वध का विधान नहीं । क्योंकि लक्ष्य भेद में प्रवीण होते ही व्यक्ति स्वयं जान जाता है कि किसका वध करना आवश्यक है और कौन अवध है।_

_किंतु स्मरण रखो, जो दिखाई देता है,  आवश्यक नहीं कि वह वास्तविकता हो और ये भी आवश्यक नहीं कि जो वास्तविकता हो वह तुम्हें दिखाई दे।_

_कुछ जीवन, संसार की मृत्यु के कारण होते हैं, तो कुछ मृत्यु संसार के लिए जीवनदायी होती हैं।_

_तब भरत ने बहुत नेह से पूछा था-- माँ ! तुम्हारे इस कथन का अर्थ समझ नहीं आया । हमें कैसे पता चलेगा कि इस जीवन के पीछे मृत्यु है या इस मृत्यु में जीवन छिपा हुआ है?_ 

_वृक्ष के नीचे शिला पर बैठी हुई कैकेयी ने एक अन्वेषक दृष्टि राम और भरत पर डाली। उन्होंने देखा कि दोनों बच्चे धरती पर बैठे हुए बहुत धैर्य से उसके उत्तर की प्रतीक्षा कर रहे हैं। धैर्य विश्वासी चित्त का प्रमाण होता है और अधीरता अविश्वासी चित्त की चेतना। कैकेयी को आनंद मिला कि उसके बच्चे विश्वासी चित्त वाले हैं।_

_उन्होंने बताया था -- असार में से सार को ढूंढना और सार में से असार को अलग कर देना ही संसार है । असार में सार देखना प्रेम दृष्टि है तो सार में से असार को अलग करना ज्ञान दृष्टि ।_

_पुत्र भरत ! तुम्हारा चित्त प्रेमी का चित्त है क्योंकि तुम्हें मृणमय भी चिन्मय दिखाई देता है और  पुत्र राम!  तुम्हारा चित्त  ज्ञानी का चित्त है क्योंकि तुम चिन्मय में छिपे मृणमय को स्पष्ट देख लेते हो।_

_राम ने उत्सुकता से पूछा -- माँ ! प्रेम और ज्ञान में क्या अंतर होता है ?_

_वही अंतर होता है पुत्र , जो कली और पुष्प में होता है । अविकसित ज्ञान प्रेम कहलाता है और पूर्ण विकसित प्रेम,  ज्ञान कहलाता है ।_

_हर सदगृहस्थ  अपने जीवन में ज्ञान, वैराग्य, भक्ति और शक्ति चाहता है क्योंकि संतान माता-पिता की प्रवृति और  निवृत्ति का आधार होते हैं। इसलिए वे अपनी संतानों के नाम उनमें व्याप्त गुणों के आधार पर रखते हैं। तुम्हारी तीनों माताओं और महाराज दशरथ को इस बात की प्रसन्नता है कि हमारे सभी पुत्र यथा नाम तथा गुण हैं।_

_भरत ! राम तुम सभी भाइयों में श्रेष्ठ है, ज्ञानस्वरूप है क्योंकि उसमें शक्ति, भक्ति, वैराग्य सभी के सुसंचालन की क्षमता है । इसलिए तुम सभी सदैव राम के मार्ग पर,  उसके अनुसार,  उसे धारण करते हुए चलना क्योंकि वह ज्ञान ही होता है जो हमारी प्रवृतियों का सदुपयोग करते हुए हमारी निवृत्ति का हेतु होता है।_

कोई टिप्पणी नहीं:

Lodhrasav ke fayde लोध्रासव के फायदे बताइए

Lodhrasav ke fayde लोध्रासव के फायदे बताइए लोध्रासव के घटक Lodhrasav ke ghtak  लोध्रासव के फायदे 1.लोध्र lodhra  2.म...