रविवार, 31 मार्च 2019

रविवार को कैसा रहेगा आपका दिन जानिये

जय श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग
 जय श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग
.        ।। 🕉 ।।
    🚩   *सुप्रभातम्* 🚩
 📜««« *आज का पंचांग* »»»📜
कलियुगाब्द..........................5120
विक्रम संवत्.........................2075
शक संवत्............................1940
मास.......................................चैत्र
पक्ष......................................कृष्ण
तिथी................................एकादशी
दुसरे दिन प्रातः 06.05 पर्यंत पश्चात द्वादशी
रवि.................................उत्तरायण
सूर्योदय.............प्रातः 06.21.19 पर
सूर्यास्त.............संध्या 06.41.38 पर
चंद्रोदय..............रात्रि 03.19.24 पर
चंद्रास्त...............दोप 02.34.09 पर
सूर्य राशि................................मीन
चन्द्र राशि..............................मकर
नक्षत्र...................................श्रवण
संध्या 06.37 पर्यंत पश्चात धनिष्ठा
योग......................................सिद्ध
संध्या 07.07 पर्यंत पश्चात साध्य
करण......................................बव
दोप 04.44 पर्यन्त पश्चात बालव
ऋतु.....................................बसंत
दिन...................................रविवार

🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :-
31 मार्च सन 2019 ईस्वी ।

☸ शुभ अंक.......................4
🔯 शुभ रंग.....................लाल

👁‍🗨 *राहुकाल* :-
संध्या 05.06 से 06.37 तक ।

🌞 *उदय लग्न मुहूर्त :-*
मीन         05:35:50 07:06:47
मेष         07:06:47 08:47:13
वृषभ       08:47:13 10:45:30
मिथुन      10:45:30 12:58:49
कर्क       12:58:49 15:14:38
सिंह         15:14:38 17:26:05
कन्या      17:26:05 19:36:23
तुला       19:36:23 21:50:38
वृश्चिक     21:50:38 24:06:27
धनु         24:06:27 26:11:45
मकर       26:11:45 27:58:36
कुम्भ       27:58:36 29:31:55

🚦 *दिशाशूल* :-
पश्चिमदिशा - यदि आवश्यक हो तो दलिया, घी या पान का सेवनकर यात्रा प्रारंभ करें।

✡ *चौघडिया* :-
प्रात: 07.55 से 09.27 तक चंचल
प्रात: 09.27 से 10.58 तक लाभ
प्रात: 10.58 से 12.30 तक अमृत
दोप. 02.02 से 03.33 तक शुभ
सायं 06.37 से 08.05 तक शुभ
रात्रि 08.05 से 09.33 तक अमृत
रात्रि 09.33 से 11.01 तक चंचल ।

📿 *आज का मंत्रः*
|| ॐ रवये नमः ||

 *संस्कृत सुभाषितानि* :-
उत्तमोऽप्रार्थितो दत्ते मध्यमः प्रार्थितः पुनः ।
याचकै र्याच्यमानोऽपि दत्ते न त्वधमाधमः ॥
अर्थात :-
उत्तम (मनुष्य) मागे बगैर देता है, मध्यम मागने के बाद देता है; पर, अधम में अधम तो याचकों के मागने पर भी नहीं देता ।

🍃 *आरोग्यं सलाह :-*
*समय पर नींद नहीं लेने के नुकसान -*

*6. अपने तनाव को कीजिए कम -*
पूरी नींद न हो तो कैंसर जैसी बड़ी बीमारी का खतरा भी रहता है। कई शोधों में ये बात भी सामने आई है कि कम नींद लेने की वजह से ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।
एक अच्छी नींद हमारे दिमाग को तरोताजा करने के लिए और शरीर के दूसरे अंगों को आराम देने के लिए बहुत जरूरी है। इसलिए अपने काम के साथ-साथ अपने हेल्थ का भी पूरा ध्यान दीजिए और अपनी डाइट तथा नींद को सही रखिए।

⚜ *आज का राशिफल* :-

🐏 *राशि फलादेश मेष :-*
*(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)*
आर्थिक उन्नति के लिए बनाई गई योजना फलीभूत होगी। कार्यस्थल पर परिवर्तन व सुधार संभव है। रिश्तेदारों व मित्रों की सहायता करने का अवसर प्राप्त होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। नए काम मिल सकते हैं। लाभ होगा।

🐂 *राशि फलादेश वृष :-*
*(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)*
किसी धार्मिक स्थल के दर्शन का लाभ मिल सकता है। कारोबारी लाभ में वृद्धि होगी। किसी वरिष्ठ व्यक्ति से मार्गदर्शन व सहायता प्राप्त होगी। परिवार के साथ जीवन सुखमय व्यतीत होगा। वाणी पर नियंत्रण रखें।

👫 *राशि फलादेश मिथुन :-*
*(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)*
चोट व दुर्घटना से शारीरिक हानि की आशंका है। जल्दबाजी व लापरवाही से बचें। लेन-देन में धनहानि हो सकती है। व्यापार की गति धीमी रहेगी। किसी अपने ही व्यक्ति से कहासुनी हो सकती है। स्वास्थ्य पर खर्च होगा।

🦀 *राशि फलादेश कर्क :-*
*(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)*
प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। किसी मनोरंजन की आयोजना हो सकती है। बाहर जाने का मन करेगा। मित्रों का साथ मिलेगा। पारिवारिक मतभेद दूर होंगे। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। समय की अनुकूलता का भरपूर लाभ लें।

🦁 *राशि फलादेश सिंह :-*
*(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)*
स्थायी संपत्ति में वृद्धि के योग हैं। किसी प्रभावशाली व्यक्ति के सहयोग से कोई बड़ा काम बन सकता है। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। व्यापार-व्यवसाय से मनोनुकूल लाभ होगा। थकान व कमजोरी रह सकते हैं।

👩🏻‍🦱 *राशि फलादेश कन्या :-*
*(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)*
पार्टी व पिकनिक का आनंददायक कार्यक्रम बन सकता है। रचनात्मक कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। संगीत में रुचि रहेगी। मनपसंद भोजन का आनंद प्राप्त होगा। परिवार के साथ जीवन सुखमय व्यतीत होगा।

⚖ *राशि फलादेश तुला :-*
*(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)*
बेवजह विवाद हो सकता है। स्वाभिमान को ठेस पहुंच सकती है। कोई पुराना रोग परेशानी का कारण बन सकता है। भागदौड़ रहेगी। अपेक्षित कार्यों में विलंब चिंता तथा तनाव में वृद्धि का कारण बनेगा, धैर्य रखें।

🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-*
*(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)*
मेहनत का फल मिलेगा। बिगड़े काम किसी व्यक्ति के सहयोग से पूरे होंगे। मित्रों तथा रिश्तेदारों की सहायता कर पाएंगे। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। नए काम करने की प्रबल इच्छा रहेगी। आय बढ़ेगी। झंझटों में न पड़ें।

🏹 *राशि फलादेश धनु :-*
*(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)*
किसी आनंददायक कार्यक्रम का आयोजन हो सकता है। भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। आय बनी रहेगी। परिवार के किसी सदस्य की चिंता रहेगी।

🐊 *राशि फलादेश मकर :-*
*(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)*
मित्रों के सहयोग से किसी बड़ी समस्या का निवारण हो सकता है। भेंट व उपहार की प्राप्ति के योग हैं। नए संपर्क बनेंगे। भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। किसी मनोरंजक यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। व्यापार अच्छा चलेगा।

🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-*
*(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)*
किसी अपने ही व्यक्ति से विवाद हो सकता है। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। जल्दबाजी न करें। फालतू खर्च पर नियंत्रण रखें। चिंता तथा तनाव रहेंगे। थकान हो सकती है। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा।

🐠 *राशि फलादेश मीन :-*
*(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)*
डूबी हुई रकम प्राप्ति के योग हैं। किसी मनोरंजक यात्रा का आनंद मिल सकता है। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। मित्रों तथा परिवार के सदस्यों के साथ समय सुखद व्यतीत होगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।

☯ आज का दिन सभी के लिए मंगलमय हो ।

।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।।

🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩

कोई टिप्पणी नहीं:

प्रदूषित होती नदिया(River) कही सभ्यताओं के अंत का संकेत तो नही

विश्व की तमाम सभ्यताएँ नदियों के किनारें पल्लवित हुई हैं,चाहे मेसोपोटोमिया हो या हड़प्पा यदि नदिया नही होती तो न ये सभ्यताएँ होती और ना ही...