रविवार, 24 मार्च 2019

24 march 2019 ka hindi me rashifal aur mahakal darshan

.               
Ujjain darshan
 Jay shri mahakal
 ।। 🕉 ।।

    🚩🌞 *सुप्रभातम्* 🌞🚩
📜««« *आज का पंचांग* »»»📜
कलियुगाब्द.........................5120
विक्रम संवत्........................2075
शक संवत्...........................1940
मास......................................चैत्र
पक्ष.....................................कृष्ण
तिथी..................................चतुर्थी
रात्रि 08.47 पर्यंत पश्चात पंचमी
रवि................................उत्तरायण
सूर्योदय............प्रातः 06.27.11 पर
सूर्यास्त............संध्या 06.39.40 पर
चंद्रोदय.............रात्रि 10.08.20 पर
चंद्रास्त.............प्रातः 08.55.00 पर
सूर्य राशि...............................मीन
चन्द्र राशि..............................तुला
नक्षत्र..................................स्वाति
प्रातः 07.37 पर्यंत पश्चात विशाखा
योग....................................हर्षण
रात्रि 08.06 पर्यंत पश्चात वज्र
करण.....................................बव
प्रातः 09.39 पर्यन्त पश्चात बालव
ऋतु....................................बसंत
दिन..................................रविवार 

🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :- 
24 मार्च सन 2019 ईस्वी ।

☸ शुभ अंक....................6
🔯 शुभ रंग.....................लाल 

👁‍🗨 *राहुकाल* :-
संध्या 05.04 से 06.35 तक ।

🌞 *उदय लग्न मुहूर्त :-*
मीन      06:03:22 07:34:18
मेष      07:34:18 09:14:45
वृषभ     09:14:45 11:13:01
मिथुन   11:13:01 13:26:20
कर्क     13:26:20 15:42:09
सिंह      15:42:09 17:53:36
कन्या   17:53:36 20:03:54
तुला     20:03:54 22:18:09
वृश्चिक 22:18:09 24:33:58
धनु       24:33:58 26:39:16
मकर     26:39:16 28:26:07
कुम्भ     28:26:07 29:59:26

🚦 *दिशाशूल* :-
पश्चिमदिशा - यदि आवश्यक हो तो दलिया, घी या पान का सेवनकर यात्रा प्रारंभ करें। 

✡ *चौघडिया* :-
प्रात: 08.00 से 09.31 तक चंचल
प्रात: 09.31 से 11.02 तक लाभ
प्रात: 11.02 से 12.32 तक अमृत
दोप. 02.03 से 03.33 तक शुभ
सायं 06.34 से 08.04 तक शुभ
रात्रि 08.04 से 09.33 तक अमृत
रात्रि 09.33 से 11.02 तक चंचल । 

📿 *आज का मंत्रः*
|| ॐ कृष्णाय नमः ||

 *संस्कृत सुभाषितानि* :-
रक्षन्ति कृपणाः पाणौ द्रव्यं प्राणमिवात्मनः ।
तदेव सन्तः सततमुत्सृजन्ति यथा मलम् ॥ 
अर्थात :-
कृपण (लोभी) प्राण की तरह द्रव्य का अपने हाथ में रक्षण करता है, पर संत पुरुष उसी द्रव्य को मल की तरह त्याग देते है ।

🍃 *आरोग्यं सलाह :-*
*पाचन को ठीक करने के उपाय -*

*2. अपने तनाव को कीजिए कम -*
सामान्य तौर पर, तनाव आपके स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। तनाव पेट के अल्सर, दस्त, कब्ज और आईबीएस जैसे कई पाचन विकारों से जुड़ा हुआ है। हालांकि तनाव एक सामान्य सी बात है, लेकिन कुछ सांस लेने के व्यायाम, ध्यान या यहां तक कि योग से आप तनाव को कम कर सकते हैं।

⚜ *आज का राशिफल* :- 

🐏 *राशि फलादेश मेष :-*
*(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)*
विवाद वाले स्थान से दूर हट जाएं। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। यात्रा का कार्यक्रम बनेगा। कारोबार अच्‍छा चलेगा। किसी वरिष्ठ व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। मनोरंजन के आनंददायक अवसर प्राप्त होंगे। लाभ के अवसर प्राप्त होंगे। 

🐂 *राशि फलादेश वृष :-*
*(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)*
स्थायी संपत्ति के रुके कार्य पूर्ण होकर बड़ा लाभ दे सकते हैं। उन्नति के मार्ग पर प्रशस्त होंगे। घर-बाहर सभी ओर से सफलता प्राप्त होगी। प्रसन्नता का वातावरण निर्मित होगा। आराम का समय प्राप्त होगा। 

👫 *राशि फलादेश मिथुन :-*
*(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)*
पार्टी व पिकनिक का आनंददायक कार्यक्रम बन सकता है। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय से लाभ होगा। मित्रों का साथ मिलेगा। नए संपर्क बन सकते हैं। 

🦀 *राशि फलादेश कर्क :-*
*(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)*
कोई बुरी सूचना मिल सकती है। मन खट्टा होगा। उत्साह में कमी रहेगी। पुराना रोग परेशानी का कारण बन सकता है। जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। विवेक से कार्य करें। लाभ होगा। भागदौड़ रहेगी। मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। धैर्य रखें। 

🦁 *राशि फलादेश सिंह :-*
*(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)*
स्वास्थ्य अच्‍छा रहेगा। उत्साह व प्रसन्नता से कार्य कर पाएंगे। आराम व मनोरंजन का अवसर प्राप्त होगा। आत्मसम्मान बना रहेगा। उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। किसी बड़ा काम करने की इच्‍छा जागृत होगी।

👩🏻‍🦱 *राशि फलादेश कन्या :-*
*(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)*
लोगों की मदद कर पाएंगे। परिवार में अतिथियों का आगमन होगा। व्ययवृद्धि होगी। प्रसन्नता का वातावरण निर्मित होगा। किसी से बहस न करें। ईर्ष्यालु व्यक्तियों से सावधान रहें। किसी मांगलिक कार्य में शामिल हो सकते हैं। 

⚖ *राशि फलादेश तुला :-*
*(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)*
यात्रा लंबी व मनोरंजक हो सकती है। भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति का सहयोग व मार्गदर्शन प्राप्त होगा। स्वास्थ्य सुदृढ़ रहेगा। उत्साह व प्रसन्नता में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। 

🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-*
*(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)*
किसी भी तरह के विवाद व बहस में हिस्सा न लें। बात बिगड़ सकती है। कुसंगति से हानि होगी। फालतू खर्च पर नियंत्रण रखें। आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है। बाहर जाने का मन बनेगा। मित्रों के सहयोग से बाधा दूर होगी। 

🏹 *राशि फलादेश धनु :-*
*(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)*
डूबी हुई रकम प्राप्ति के योग हैं। भरपूर प्रयास करें। यात्रा मनोरंजक रहेगी। मित्रों का सहयोग समय पर प्राप्त होगा। थकान रह सकती है। जल्दबाजी में कोई कार्य न करें। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। मनोरंजन का अवसर प्राप्त होगा। विवाद न करें। 

🐊 *राशि फलादेश मकर :-*
*(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)*
कार्यस्थल पर कुछ परिवर्तन की संभावना है। योजना फलीभूत होगी। मित्रों व रिश्तेदारों का सहयोग कर पाने का अवसर प्राप्त होगा। मान-सम्मान मिलेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। जीवन सुखमय व्यतीत होगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 

🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-*
*(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)*
अध्यात्म में रुझान रहेगा। किसी धार्मिक स्थल की यात्रा हो सकती है। किसी प्रभावशाली व्यक्ति का सहयोग व मार्गदर्शन प्राप्त हो सकता है। कार्य की बाधा दूर होकर लाभ की स्‍थिति बनेगी। मित्रों के साथ समय अच्‍छा व्यतीत होगा। 

🐠 *राशि फलादेश मीन :-*
*(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)*
आने-जाने तथा कार्य करते समय लापरवाही न करें। विवाद को बढ़ावा न दें। किसी से कहासुनी हो सकती है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। बनते काम बिगड़ सकते हैं। चिंता तथा तनाव रहेंगे। आय में निश्चितता रहेगी। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। 

☯ आज का दिन सभी के लिए मंगलमय हो ।

।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।।

🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩

कोई टिप्पणी नहीं:

प्रदूषित होती नदिया(River) कही सभ्यताओं के अंत का संकेत तो नही

विश्व की तमाम सभ्यताएँ नदियों के किनारें पल्लवित हुई हैं,चाहे मेसोपोटोमिया हो या हड़प्पा यदि नदिया नही होती तो न ये सभ्यताएँ होती और ना ही...