मंगलवार, 27 सितंबर 2016

कांकायन वटी,kankayan vati,

कांकायन वटी (kankayan vati) :::


कांकायन वटी आयुर्वैद चिकित्सा में अपना अनुपम स्थान रखती हैं. इसके बारें में एक श्लोक हैं, कि
कांकायनेन शिष्येभ्य : शस्त्रक्षाराग्निभिर्विना |भिषग्जितमिति प्रोक्तं श्रेष्ठमशोविकारिणाम् ||


घट़क (content) :::


० हरड़ (Terminalia chebula).

० कालीमिर्च (piper nigrum) .

० सौंठ ( Zingiber officinale).

० जीरा ( cuminum cyminum).

० पीपलीमूल (piper longum).

 ०  चव्य 

० चित्रक (plumbago zeylanica).

० शुद्ध भिलावा (semecarpus anacardium).

० यवक्षार (potasil carbonas).

उपयोग (uses):::


० खूनी बवासीर (bleeding piles).

० कब्ज (constipation).

० एसीडीटी (acidity).

० ग्रहणी ( bawl disesease).

मात्रा ( Dosage):::


पानी या छाछ के साथ वैघकीय परामर्श से.







मेथी,fenugreek

#1.मेथी (fenugreek) 

मेथी दो प्रकार की होती हैं, एक साधारण मेथी दूसरी कसूरी मेथी .साधारण मेथी तेजी से बढ़नें वाली होती हैं,वही कसूरी मेथी की बढ़वार धीमी होती हैं.मेथी की पत्तियाँ और बीजों का सब्जी तथा औषधि के रूप में प्रयोग होता हैं.

#2.पाये जानें वाले पोषक तत्व 

प्रति सौ ग्राम हरी मेथी और बीज़ में पाये जानें वालें तत्व
हरी पत्ती 

 नमी.  प्रोटीन.  वसा.  रेशा.  कार्बोहाइड्रेट.  ऊर्जा.  
86.1.  4.4.     0.9.    1.1.     6.0gm.          49 kg/cal.
आयरन.   विटामिन B-2. विटामिन C  कैल्सियम
 19.3mg.  0.3mg.            53.             395

बीज

     नमी.    प्रोटीन.   वसा.  रेशा. कार्बोहाइड्रेट. 
     8.8.      23.       7.      10 .      58.4

 ऊर्जा      कैल्सियम.    आयरन.   विटा.B-2.
323.         175.             34.        2.0.                
 विटा.c
3.0.
इसके अलावा मेथी में वाष्पशील तेल, स्थिर तेल, स्टेराइड यौगक फेनूग्रीकाइन,ट्राइगोनेलाइन,डाइओस्जेनिन,कोलाइन एँव मोलानिक एसिड़ पायें जातें हैं.

#3.उपयोग::-

#1. मेथी के बीज का चूर्ण एक-एक सुबह शाम खाली पेट़ लेने से मोट़ापा कम हो जाता हैं.
#2. मधुमेह (Diabetes) होनें पर मेथी के ढंठल को बारीक चूर्ण बना ले इस चूर्ण को भोजन पश्चात सुबह शाम लेते रहनें से मधुमेह नियत्रिंत रहता हैं.
#3. मेथी की सूखी हुई पत्तियों में एल्कलाइड़ बहुतायत पाया जाता हैं,जो भूख बढ़ाता हैं,और शरीर से विषेले पदार्थों को बाहर निकालता हैं.
#4. इसकी सूखी पत्तियों की सब्जी गर्मीयों में शरीर को शीतलता प्रदान करती हैं.
#5. मेथी की पत्तियों को उबालकर इसके बचे हुयें पानी से बाल धोनें पर बालों का झड़ना बंद हो जाता हैं.
#6. पीलिया होनें पर कच्ची गीली पत्तियाँ मिस्री के साथ खिलानें से पीलिया रोगी शीघृ स्वस्थ हो जाता हैं.
 #7.मेथी में पाया जानें वाला डाइओस्जीन स्टेराइड़ उत्तम गर्भ निरोधक हैं.इसके लिये मेथी बीज पीसे हुयें  दो-दो चम्मच सुबह शाम आधा चम्मच हल्दी मिलाकर लें.
#8.मेथी के बीजों को पीसकर सरसों तेल मिलाकर मोच वाले स्थान पर रखनें से मोच शीघृता से ठीक हो जाती हैं.
#9. खून की कमी वाली गर्भवती स्त्रीयों को लोहे की कढ़ाई में सब्जी बनाकर खिलाते रहनें से खून की कमी अतिशीघृ दूर हो जाती हैं.
#10.मेथी दानों को पीसकर इसका लेप बालों में लगानें ले बाल काले,घने,मुलायम और रूसी रहित रहतें हैं.
#11.सुखी हुई मेथी में एक विशेष किस्म की खूशबू पायी जाती हैं,जो कई मानसिक समस्याओं जैसें डिमेंसिया,मिर्गी और चक्कर का बहुत ही प्रभावी इलाज हैं,इसके लिये इसके सुखे हुई पत्तियों को नियमित रूप से सूंघना चाहियें.


हाइपोथाइराँडिज्म के बारें में जानियें



प्रदूषित होती नदिया(River) कही सभ्यताओं के अंत का संकेत तो नही

विश्व की तमाम सभ्यताएँ नदियों के किनारें पल्लवित हुई हैं,चाहे मेसोपोटोमिया हो या हड़प्पा यदि नदिया नही होती तो न ये सभ्यताएँ होती और ना ही...